ORS powder usage in hindi ओआरएस पावडर क्या है इसे बनाने की विधि और लाभ

You are currently viewing ORS powder usage in hindi ओआरएस पावडर क्या है इसे बनाने की विधि और लाभ

गर्मियों के मौसम में खासकर बच्चों को काफी ज्यादा डिहाइड्रेशन की समस्या देखने को मिलती है ! और ऐसे में क्या सही उपचार है ! इस विषय पर लोग जानकारियों को इंटरनेट पर ढूंढते रहते हैं ! बच्चों के साथ साथ बड़े लोगों में भी गर्मियों में डिहाइड्रेशन की समस्या देखने को मिलती है ! यदि आप पेचिश, डायरिया और डिहाईड्रेशन की समस्या को दूर करना चाहते हैं ! तो ऐसे में ORS powder usage in hindi का घोल आपके लिए काफी ज्यादा लाभकारी सिद्ध हो सकता है !

आज हम अपने इस महत्वपूर्ण और स्वास्थ्य वर्धक लेख में आप सभी लोगों को ओआरएस क्या है ! और ओआरएस के क्या फायदे हैं ?, इसके बारे में विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान करने वाले हैं ! और साथ ही हम आपको बताएंगे, कि ओआरएस को बनाने की विधि क्या है !

ओ आर एस पावडर क्या है what is ors powder usage in hindi

O r s ke bare mein : जब किसी को भी शरीर में पानी की कमी महसूस होने लगे या फिर इसके लक्षण दिखाई देने लगे तब हमें तुरंत सर्वप्रथम इसके प्राथमिक उपचार के लिए ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन (ORS powder) पीड़ित व्यक्ति को देना चाहिए। यदि आपके शरीर में पानी की कमी हो जाए तब आप तुरंत एक सही बाजार में बिकने वाले ओआरएस का इस्तेमाल कर सकते हैं !

और आप चाहे तो घर पर भी ओआरएस बना सकते हैं, परंतु या बाजार के मुकाबले काफी धीमी गति से काम करता है। अगर बच्चों को दस्त /diarrhoea की समस्या होती है तो ऐसे में भी ओआरएस का सलूशन बच्चों को देना चाहिए और यह तुरंत ही शरीर में मौजूद पानी की कमी की पूर्ति करने लगता है।

ओ आर एस का प्रयोग कब करना है

ORS powder usage in hindi : पानी की कमी होने पर इसे आपको अलग-अलग मात्रा में देने की आवश्यकता होती है ! इसे क्षमता अनुसार पर्याप्त मात्रा में उपयोग किया जा सकता है इसके कोई साइड इफेक्ट नहीं है ! जब किसी भी वयस्क या फिर शिशु को दिन में 3 बार से अधिक दस्त की समस्या होने लगे ! तब आपको तुरंत ही ओआरएस सलूशन का प्रयोग करना चाहिए।

घर पर ओआरएस बनाने का तरीका how to make ors powder

1 लीटर उबले पानी को ठंडा करके छान लीजिए ! और एक चम्मच नमक एक नींबू का रस और आवश्यकतानुसार शक्कर मिलाकर घोल बना लीजिए ! अब यह घर का बना हुआ ओ आर एस तैयार है ! अगर आप मार्केट से बना बनाया रेडीमेड ओ आर एस लेते हैं ! तब उसमें इसे बनाने की संपूर्ण विधि स्टेप बाय स्टेप बताई होती है ! और आपको उन्हें आसानी से पढ़ कर घोल को तैयार कर लेना है ! और फिर पीड़ित व्यक्ति को कम से कम 1 लीटर पानी में इसे थोड़ा थोड़ा करके पिलाना है।

रेडीमेड ओआरएस का घोल कैसे तैयार करें

How to make ORS powder usage in Hindi : ओआरएस के अंदर मुख्यतः तीन प्रकार के खनिज मौजूद होते हैं ! सोडियम, पोटेशियम और डेक्सट्रोज । इन चीजों के जरिए ओआरएस घोल तैयार किया जाता है और फिर यह घोल ! शरीर में ग्लूकोज की कमी को पूरा करने एवं शरीर को शक्ति प्रदान करने में ! सहायक होता है। अब आइए जानते हैं, घर में ओआरएस घोल बनाने के क्या तरीके हैं ? । इस विधि को नीचे पढ़ें।

  • अब 1 लीटर पानी को उबालें और फिर इसे ठंडा होने दें।
  • अब इसमें एक पैकेट लगभग 4 चम्मच ओ आर एस पाउडर मिलाएं
  • अब इसे 24 घंटे तक उपयोग में ला सकते हैं
  • आवश्यकतानुसार इसे पीते रहे
ओआरएस घोल के लाभ क्या क्या है benefit of ORS powder usage in hindi

Benefit of ORS powder : इसके शरीर में पानी की कमी को पूर्ति करने ! और शरीर में एनर्जी को बनाए रखने जैसे अनेकों फायदे हैं ! और उनमें से कुछ इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

शरीर में पानी की कमी पूरा करने में सहायक

जब शरीर में पानी की कमी हो जाती है, तब मनुष्य ठीक से खड़ा नहीं हो पाता और उसे किसी भी प्रकार के काम को करने में काफी ज्यादा कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है ! और वह ऐसी परिस्थिति में बेहोश भी हो सकता है।कई लोगों का मानना है कि पानी की कमी होने पर हमें ज्यादा मात्रा में पानी पीना चाहिए, परंतु यह पानी की कमी को पूरा करने का कोई भी पक्का सलूशन नहीं है। पानी की कमी महसूस होने पर तुरंत ही हमें पीड़ित व्यक्ति को ओआरएस का घोल देना चाहिए और इस घोल से शरीर में पानी की कमी की पूर्ति करने के साथ-साथ आवश्यक मिनरल्स भी मिल जाते हैं।

दस्त के इलाज में सहायक ors powder usage in hindi

खासकर शिशु और बच्चों में दस्त की समस्या आम होती है और इसलिए हमें ओआरएस ors powder घोल को अपने घरों में अवश्य रखना चाहिए।जब शिशु और बच्चे को ज्यादा मात्रा में दस्त होने लगते हैं तब उनका शरीर सुस्त पड़ जाता है और फिर वह धीरे-धीरे खाना पीना भी छोड़ देते हैं। ऐसे में दस्त की समस्या होने पर बच्चों को तुरंत ओआरएस के घोल बनाकर देने शुरू कर देनी चाहिए और इससे बच्चे के अंदर पानी की कमी भी नहीं होगी।

एथलीट्स और ट्रेनर के लिए लाभदायक

एथलेटिक्स और ट्रेनर काफी ज्यादा मेहनत करते हैं ! और जिसकी वजह से उन्हें पसीने भी काफी होते हैं ऐसे में यदि वे अपने शरीर को डिहाइड्रेशन जैसी समस्या से सुरक्षित रखना चाहते हैं, तो ऐसे लोग हमेशा निरंतर रूप से ओआरएस ors powder का घोलक बनाकर समय-समय पर पीते रहते हैं, ताकि उन्हें पानी की और शरीर में आवश्यक एनर्जी की जरूरी चीजें हमेशा सही मात्रा में उपलब्ध होती रहे।

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है, कि ओआरएस के ऊपर लिखा गया यह लेख आपके लिए अवश्य लाभदायक सिद्ध हुआ होगा। इस लेख के माध्यम से हमने ओआरएस ors powder usage in Hindi से संबंधित सभी प्रकार की आवश्यक जानकारियां आप तक पहुंचाई हैं।