Shilajit ke fayade शिलाजीत के इतने फायदे क्या आपको पता है

You are currently viewing Shilajit ke fayade शिलाजीत के इतने फायदे क्या आपको पता है

शिलाजीत जो एक प्रकार का खनिज है यह एक चिपचिपा एवं काला टार जैसा पदार्थ है ! जो ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं की चट्टानों से आता है ! शिलाजीत पारंपरिक रूप से भारत और तिब्बत में पाया जाने वाला खट्टा पदार्थ है ! हालांकि अब यह कई अन्य देशों में भी पाया जाता है ! शिलाजीत का उपयोग सदियों से पारंपरिक भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता रहा है ! और इसमें मौजूद यौगिक कई चिकित्सा स्थितियों के लिए फायदेमंद होते हैं ! यहां तक कि यह ह्रदय रोगों और हाई ब्लड प्रेशर के लिए भी सहायक उपचार का काम कर सकता है ! इस लेख में, प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले Shilajit ke fayade और संभावित दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी प्रकाशित की जा रही है !

शिलाजीत एक आश्चर्यजनक चिपचिपा टार जैसा राल पदार्थ है ! यह एक प्रकार का खनिज पिच है ! जो समुद्र तल से 1000 से 5000 मीटर की ऊँचाई पर हिमालय में मौजूद चट्टानों से निकलने वाले धरण और विघटित पौधों के अवशेषों से बना है ! प्राचीन आयुर्वेदिक शास्त्रों में विस्तार से बताया गया है कि जेश्ता और आषाढ़ के गर्मियों के महीनों में पर्वत सीधे सूर्य की किरणों के कारण गर्म हो जाते हैं और पर्वत की परतों को पिघलाते हैं और एक राल जैसे अर्ध-तरल पदार्थ का निर्माण होता है जिसे शिलाजीत के नाम से जाना जाता है ! इसे बिना मलाई के हल्की गर्म दूध के साथ मिलाकर पिया जा सकता है !

शिलाजीत के फायदे shilajit ke fayade

जब इसे सही तरीके से इस्तेमाल किया जाता है तो शिलाजीत के शरीर के लिए कई फायदे हो सकते हैं ! इसमें पाए जाने वाले फुल्विक और ह्यूमिक एसिड की उच्च सांद्रता के साथ-साथ कई खनिज मनुष्य की शरीर पर अच्छे प्रभाव दिखाते हैं ! अब शिलाजीत के कई फायदे के बारे में समझते हैं जो निम्नलिखित हैं !

अल्जाइमर रोग

शिलाजीत अल्जाइमर रोग के उपचार में अच्छा प्रभाव दिखाता है ! जो याददाश्त, स्मृति, सोच और व्यवहार के साथ समस्याओं का कारण बनता है ! 2012 में इंटरनेशनल जर्नल ऑफ अल्जाइमर डिजीज में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार ! शिलाजीत में पाया जाने वाला फुल्विक एसिड टाउ (tau) नामक प्रोटीन के निर्माण को अवरुद्ध करने में मदद कर सकता है ! यह एक प्रकार का प्रोटीन है जो न्यूरोफिब्रिलरी टैंगल्स बनाता है ! जिसे अल्जाइमर रोग और अन्य न्यूरोडीजेनेरेटिव का एक प्रमुख कारक माना जाता है ! एक अल्जाइमर रोग उपचार के रूप में शिलाजीत की प्रभावशीलता बहुत ही महत्वपूर्ण मानी गई है !

क्रॉनिक थकान सिंड्रोम CFS

क्रोनिक थकान सिंड्रोम (सीएफएस) एक ऐसी स्थिति है ! जो अत्यधिक शारीरिक थकान को दर्शाता है !जिसे एक अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति द्वारा समझाया नहीं जा सकता है ! 2012 में नृवंशविज्ञान के जर्नल में प्रकाशित एक प्रारंभिक चूहे के अध्ययन के अनुसार ! शिलाजीत पुरानी थकान सिंड्रोम के उपचार में मदद कर सकता है ! 21 दिनों के लिए प्रयोगशाला मे चूहों को शिलाजीत देने के बाद, वैज्ञानिकों ने पाया कि उपचार कई प्रक्रियाओं को प्रभावित कर सकता है ! यह शरीर के ऊर्जा उत्पादन में इसके अलावा, चिंता को कम करने और ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने के लिए उपयुक्त है !

स्पर्म काउंट बढ़ाने में लाभदायक shilajit ke fayade

2010 में प्रकाशित एक अध्ययन मे 35 पुरुषों पर पूरक आहार के प्रभावों की 90 दिन तक जांच की गई ! जिसमें सभी को शिलाजीत कैप्सूल की 100 मिलीग्राम दी गई ! अध्ययन पूरा करने वाले लोगों ने सामान्य और कुल शुक्राणुओं की संख्या और शुक्राणु गतिशीलता में सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण वृद्धि दिखाई !

सहनशक्ति और स्टेमिना को बढ़ाता है

शुद्ध शिलाजीत का एक प्रमुख लाभ (shilajit ke fayade) यह है ! कि यह पुरुष शक्ति और सहनशक्ति को बढ़ाने में मदद करता है ! इसमें फुल्विक एसिड की एक समृद्ध मात्रा होती है जो इसे समग्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए एक प्रभावी पूरक बनाती है ! इसके द्वारा स्वाभाविक रूप से शक्ति, स्टैमिना और सहनशक्ति को बढ़ावा मिलता है ! इसमें विभिन्न अम्लों का सम्मिश्रण होने के कारण, यह आपके शरीर को दैनिक रूप से अपेक्षित बढ़ावा देता है !

तनाव और एनजाइना को कम करें

शिलाजीत का एक प्रमुख लाभ यह है कि इसका शरीर पर शांत प्रभाव पड़ता है ! इसके कई गुण मस्तिष्क में डोपामाइन स्राव को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं ! जो बदले में तनाव और चिंता को रोकने में मदद करता है ! पोटेशियम और मैग्नीशियम के उच्च घटक, आपकी मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करते हैं। व्यस्त जीवन में, एक मटर के आकार का शिलाजीत वास्तव में बड़े चमत्कार कर सकता है !

एनीमिया में लाभदायक shilajit ke fayade

आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया एक सामान्य स्थिति है ! जिसमें लोहे की कमी के कारण रक्त में पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं (आरबीसी) या एरिथ्रोसाइट्स नहीं होते हैं ! यह खतरनाक हो सकता है क्योंकि आरबीसी में हीमोग्लोबिन के संश्लेषण के लिए लोहा आवश्यक है ! हीमोग्लोबिन एक प्रोटीन है जो शरीर के विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन पहुंचाता है ! कई महिलाओं को आयरन की कमी से होने वाली एनीमिया का अनुभव होता है ! क्योंकि उन्हें अपने आहार से पर्याप्त आयरन नहीं मिलता है ! लोहे की कमी वाले एनीमिया को रोकने के लिए शिलाजीत लेना फायदेमंद हो सकता है ! क्योंकि इस जड़ी बूटी में अधिक मात्रा में लोहा होता है !

विभिन्न प्रकार के कैंसर से बचाव

शिलाजीत में एंटीट्यूमर, एंटी-म्यूटाजेनिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, इम्यूनो-मॉड्यूलेटर और रेडियो-प्रोटेक्टिव गुण होते हैं ! कई अध्ययनों के अनुसार, शिलाजीत को कुछ प्रकार के कैंसर जैसे फेफड़ों, डिम्बग्रंथि, स्तन, बृहदान्त्र और यकृत कैंसर मे लाभदायक माना जाता है ! क्योंकि इस जड़ी बूटी में फुल्विक एसिड और ह्यूमिक एसिड की उच्च मात्रा होती है ! जो कैंसर कोशिकाओं के विकास और प्रसार को रोकते हैं ! फुल्विक एसिड एक “सुपर एंटीऑक्सिडेंट” के रूप में कार्य करता है ! जो कैंसर से लड़ने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को उत्तेजित करता है !

उम्र बढ़ने से रोके

एक अध्ययन में कहा गया है कि शिलाजीत में प्रमुख यौगिकों में से एक फुल्विक एसिड और एक एंटीऑक्सिडेंट दोनों एंटी एजिंग के रूप में कार्य करता है ! यह शरीर में मुक्त कणों और सेलुलर क्षति को कम करने में मदद कर सकता है ! जो उम्र बढ़ने के दो प्रमुख कारक हैं ! शिलाजीत की दैनिक पूरकता कुछ लोगों में समग्र जीवन शक्ति और धीमी उम्र बढ़ने की प्रक्रिया में योगदान कर सकते हैं !

इंप्रूव एनर्जी shilajit ke fayade

कई लोगों मे कोई कार्य करने में बहुत जल्दी थक जाना स्वाभाविक है ! खासकर महिलाऐ जो ना केवल बाहर कार्य करती हैं बल्कि, वे घर भी आती हैं और फिर अपने परिवार का ख्याल रखती हैं ! अतिरिक्त जिम्मेदारियों और तनाव के कारण महिलाएं अधिक तेज़ी से थकान महसूस कर सकती हैं ! शिलाजीत ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने और महिलाओं को अच्छा महसूस करने में मदद करने के लिए एक बेहतरीन पूरक है ! इसके द्वारा वे अपने सभी दैनिक काम आसानी से निपटा सकते हैं ! ऐसा इसलिए है क्योंकि शिलाजीत कोशिकाओं में माइटोकॉन्ड्रिया 1 के कार्य को बढ़ा देता है ! यह वह जगह है जहाँ आपके शरीर की ऊर्जा उत्पन्न होती है ! ऊर्जा का अतिरिक्त बढ़ावा आपको दिन भर काम करने के तरीके और आपके दृष्टिकोण को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है !

ह्रदय स्वास्थ्य

शिलाजीत भी दिल की रक्षा कर सकता है और हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है ! हाल ही में चूहों पर किए गए एक अध्ययन में शिलाजीत के दिल पर पड़ने वाले सुरक्षात्मक प्रभावों का उल्लेख किया गया है ! कार्डियक स्ट्रोक होने पर शिलाजीत के साथ जिन जानवरों का इलाज किया गया था ! उनमें अन्य की तुलना में दिल को कम नुकसान हुआ था ! यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि शिलाजीत कुछ मामलों में रक्तचाप को भी कम कर सकता है ! शिलाजीत को किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा नहीं लिया जाना चाहिए जिनके पास सक्रिय हृदय रोग की स्थिति है !

मोटापा कम करें

जर्नल ऑफ मेडिसिनल फूड के एक अध्ययन में कहा गया है कि जो लोग मोटापे से ग्रस्त थे ! उन्हें शुद्ध शिलाजीत का मौखिक पूरक दिया गया ! उन्होंने उन लोगों की तुलना में व्यायाम करने के लिए बेहतर प्रतिक्रिया दी जिन्होंने शिलाजीत नहीं लिया ! शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया कि शिलाजीत शरीर में जीन को सक्रिय करने में मदद करता था ! जो कंकाल की मांसपेशियों को जल्दी से नए वर्कआउट के अनुकूल बनाने में मदद करता था। इसका मतलब कम थकान और समय के साथ अधिक ताकत हो सकती है !

लिवर कैंसर shilajit ke fayade

शिलाजीत कुछ प्रकार के कैंसर कोशिकाओं के खिलाफ लड़ने में सक्षम है। एक अध्ययन में पाया गया है कि शिलाजीत ने जिगर में कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने में सहायक है। साथ ही इन कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोक भी सकता है ! शोधकर्ताओं ने कहा कि उनके परिणामों से पता चलता है कि शिलाजीत का कैंसर विरोधी प्रभाव है ! लेकिन और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है !

शिलाजीत का प्रयोग कैसे करें how to use shilajit in hindi

शिलाजीत लिक्विड, कैप्सूल और पाउडर के रूप में उपलब्ध है ! जिसे दूध या पानी में मिलाकर लिया जा सकता है ! एक व्यक्ति किसी तरल में शिलाजीत के मटर के आकार के हिस्से को मिला कर पी सकता है !और इसे पैकेज पर दिए गए निर्देशों के आधार पर दिन में तीन बार तक पी सकता है ! शिलाजीत की अनुशंसित खुराक 300 से 500 मिलीग्राम प्रति दिन है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि कोई भी व्यक्ति प्राकृतिक सप्लीमेंट लेने से पहले डॉक्टर से बात करे !

साइड इफेक्ट shilajit ke side efect

शोध बताते हैं कि आहार पूरक के रूप में लंबे समय तक उपयोग के लिए शिलाजीत सुरक्षित है ! हालांकि, शिलाजीत का उपयोग करने के कुछ संभावित दुष्प्रभाव हैं ! शिलाजीत रक्तचाप को कम कर सकता है ! जो उच्च रक्तचाप की दवाओं के साथ लोगों के लिए खतरनाक हो सकता है ! सक्रिय हृदय रोग वाले या हाइपोटेंशन के इतिहास वाले लोगों को रक्तचाप में गिरावट को रोकने के लिए शिलाजीत लेने से बचना चाहिए ! एक विश्वसनीय स्रोत से पूरक प्राप्त करना महत्वपूर्ण है ! कम गुणवत्ता वाले शिलाजीत में भारी धातुओं, मुक्त कणों और यहां तक ​​कि आर्सेनिक की भी उपस्थिति होती है !

निष्कर्ष-

हमें उम्मीद है कि Shilajit ke fayade के ऊपर लिखा गया यह लेख आपके लिए अवश्य लाभदायक सिद्ध हुआ होगा। इस लेख के माध्यम से हमने शिलाजीत से संबंधित सभी प्रकार की आवश्यक जानकारियां आप तक पहुंचाई हैं। अगर आपको यह कंटेंट पसंद आया हो तो लाइक और शेयर अवश्य करें धन्यवाद ,