Symptoms of depression in Hindi डिप्रेशन का लक्षण और उपचार

Symptoms of depression in Hindi डिप्रेशन का लक्षण और उपचार

अवसाद को एक मूड डिसऑर्डर के रूप में जाना जाता है ! इसे उदासी या क्रोध की भावनाओं के रूप में संदर्भित किया जा सकता है ! यह किसी व्यक्ति की रोज की गतिविधियों को दिशाहीन बनाती है ! वैसे यह एक सामान्य परंतु घातक प्रकार का मानसिक रोग है ! जो सही उपचार से ठीक हो जाता है ! लोग विभिन्न तरीकों से अवसाद Symptoms of depression in Hindi का अनुभव कर सकते हैं !

यह आपके दैनिक कार्य में बाधा उत्पन्न कर सकता है ! जिसके परिणामस्वरूप समय और कार्य की गुणवत्ता कम हो सकती है ! यह व्यवहार और कुछ पुरानी बीमारी को भी प्रभावित कर सकता है !

यह महसूस करना महत्वपूर्ण है कि कई बार सुखद महसूस करना जीवन का सामान्य हिस्सा है ! दुखद और परेशान करने वाली घटनाएं आप के साथ होती हैं ! लेकिन यदि आप नियमित रूप से कम या जादा निराश महसूस कर रहे हैं !

तो आप कुछ उपाय करके अवसाद से निपट सकते हैं ! अवसाद को एक अंतर्निहित चिकित्सा स्थिति माना जाता है ! जो उचित उपचार के बिना ठीक नहीं हो सकता है !

जो लोग उपचार की तलाश करते हैं वे अक्सर कुछ हफ्तों में लक्षणों में सुधार पा सकते हैं !

डिप्रेशन या अवसाद क्या है what is depression in hindi

उदासी या तनाव महसूस करना और दैनिक गतिविधियों में रुचि या खुशी का कम होना डिप्रेशन के रूप में जाना जाता है ! लेकिन अगर वे हमारे जीवन को दृढ़ता से प्रभावित कर रहे होते हैं ! तो यह घातक अवसाद हो सकता है ! विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार यह दुनिया भर में मानसिक विकलांगता का मुख्य कारण है !

यह वयस्कों, किशोरों और बच्चों को प्रभावित कर सकता है। इस लेख में जानें कि अवसाद क्या है और इसके कारण क्या हैं। हम इसके प्रकारों, उनके उपचारों आदि का भी वर्णन करने वाले हैं ! Symptoms of depression in Hindi

डिप्रेशन का लक्षण symptoms of depression in hindi

डिप्रेशन एक ऐसी बीमारी है जिससे हर कोई जीवन में एक बार पीड़ित होता ही है ! इस बीमारी के कई एपिसोड होते हैं ! डिप्रेशन का लक्षण अधिकांश दिन मे होते हैं ! इसके लक्षणों में उदासी, अशांति, शून्यता या निराशा की भावनाएं गुस्सा, चिड़चिड़ापन या निराशा इत्यादि शामिल है !

यहां तक ​​कि कम तीव्रता के मामलों पर भी सबसे अधिक या सभी सामान्य गतिविधियों में रुचि और खुशी की कमी ! जैसे कि शौक या खेल, नींद की गड़बड़ी, अनिद्रा या नींद बहुत अधिक आना, थकावट और ऊर्जा की कमी सहित ! कई लक्षण होते हैं !

अपराधबोध की भावनाएँ, अतीत की असफलताओं या आत्म-दोष करना मुसीबत को सोचना, ध्यान केंद्रित करना इत्यादि समस्याएं उत्पन्न होती है ! डिप्रेशन के परिणाम स्वरूप आवर्ती विचार, आत्महत्या के विचार, आत्महत्या के प्रयास

या आत्महत्या जैसी शारीरिक समस्याऐं हो सकती हैं ! कुछ लोग बिना किसी कारण के आम तौर पर दुखी महसूस करते हैं ! Symptoms of depression in Hindi

बच्चों और युवाओं में डिप्रेशन का लक्षण

बच्चों और किशोरों में अवसाद के सामान्य लक्षण लगभग वयस्कों के समान होते हैं ! लेकिन कुछ मामलों में अंतर हो सकता है ! छोटे बच्चों में अवसाद के लक्षणों में उदासी, चिड़चिड़ापन, अकड़न, चिंता, दर्द शामिल हो सकते हैं ! स्कूल जाने से इनकार करना या कम वजन का होना भी इसका एक लक्षण है ! किशोरावस्था के लक्षणों में, लक्षणों में उदासी, चिड़चिड़ापन, नकारात्मक और बेकार महसूस होना, क्रोध, स्कूल में खराब प्रदर्शन या खराब उपस्थिति, गलतफहमी और अत्यधिक संवेदनशील महसूस करना हो सकता है ! मनोरंजक दवाओं या शराब का उपयोग करना इसके लक्षणों को और बढ़ाते हैं !

वयस्कों में डिप्रेशन का लक्षण symptoms of Dipression in hindi

डिप्रेशन बढ़ती उम्र का एक सामान्य हिस्सा नहीं है ! और इसे कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए ! दुर्भाग्य से अवसाद अक्सर पुराने वयस्कों में बिना निदान के अनुपचारित हो जाता है ! और वे मदद लेने के लिए भी अनिच्छुक महसूस कर सकते हैं !

वृद्ध वयस्कों में अवसाद के लक्षण अलग-अलग या कम स्पष्ट हो सकते हैं ! जैसे कि याददाश्त में कठिनाई या व्यक्तित्व में परिवर्तन शारीरिक दर्द या थकान, भूख न लगना, नींद की समस्या होना इत्यादि ! Symptoms of depression in Hindi

डिप्रेशन का कारण Causes of depression

मानसिक अवस्थाओं के साथ अवसाद के कई कारण है। जादातर मानसिक विकारों के साथ तो कई परिस्थिति जन्य प्रकार के कारक शामिल हो सकते हैं जैसे-

  • बायोलॉजिकल परिवर्तन biological difference- जैविक अंतर। अवसाद ग्रस्त लोगों के दिमाग में जैविक परिवर्तन होता है ! इन परिवर्तनों का महत्व अभी भी अनिश्चित है ! लेकिन अंततः pinpoint यह है कि यह डिप्रेशन के कारणों में मदद कर सकते हैं !
  • मस्तिष्क रसायन brain chemistry- न्यूरोट्रांसमीटर स्वाभाविक रूप से मस्तिष्क रसायन होते हैं जो संभवतः अवसाद में भूमिका निभाते हैं ! हाल के शोध से संकेत मिलता है कि इन न्यूरोट्रांसमीटरों के कार्य और प्रभाव में परिवर्तन और मूड स्थिरता को बनाए रखने में शामिल न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क मस्तिष्क के साथ कनेक्ट होते हैं ! यह अवसाद और इसके उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है
  • हारमोंस hormones- हार्मोन के संतुलन को स्थापित करने में शरीर के परिवर्तन अवसाद पैदा करने या ट्रिगर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं ! हॉर्मोन में बदलाव गर्भावस्था और प्रसव के बाद के हफ्तों या महीनों के दौरान (थायराइड की समस्या), रजोनिवृत्ति या अन्य कई स्थितियों में हो सकते हैं !
  • विरासत में मिलने वाले लक्षण inherited traits- जिन लोगों के रक्त संबंधियों में भी डिप्रेशन की स्थिति होती है ! उनमें डिप्रेशन अधिक पाया जाता है। शोधकर्ता उन जीनों को खोजने की कोशिश कर रहे हैं जो अवसाद पैदा करने में शामिल हो सकते हैं !

डिप्रेशन की जटिलताएं depression complication

अवसाद एक घातक मनोविकार है जो आप और आपके परिवार पर एक भयानक प्रतिकूल प्रभाव कर सकता है ! यदि इसका इलाज नहीं किया जाता है ! तो अवसाद अक्सर बदतर हो जाता है ! जिसके परिणामस्वरूप भावनात्मक, व्यवहारिक और स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं ! जो आपके जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित करती हैं ! अवसाद से जुड़ी जटिलताओं के उदाहरणों में शामिल हैं अत्यधिक वजन या मोटापा !

जो हृदय रोग और मधुमेह का कारण बन सकता है ! दर्द या शारीरिक बीमारी, शराब या नशीली दवाओं के दुरुपयोग, चिंता, ड़र या सामाजिक भय भावनाऐं, आत्महत्या के प्रयासों या आत्म-उत्परिवर्तन, जैसे कि चिकित्सा स्थितियों से समय से पहले मौत इत्यादि ! Symptoms of depression in Hindi

डिप्रेशन का प्रकार types of depression in hindi

हेल्थकेयर प्रदाता लक्षणों और कारणों के अनुसार अवसाद के प्रकार को परिभाषित करते हैं ! इन प्रकरणों का अक्सर कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है ! कुछ लोगों में यह बिना किसी स्पष्ट कारण के दूसरों की तुलना में अधिक लंबे समय तक रह सकता हैं ! अवसाद के प्रकार निम्नलिखित है !

  • प्रमुख अवसाद ग्रस्तता विकार major depressive disorder (MDD)- प्रमुख अवसाद (नैदानिक ​​अवसाद) में तीव्र या भारी लक्षण होते हैं ! जो दो सप्ताह से अधिक समय तक रहते हैं। ये लक्षण रोजमर्रा की जिंदगी में हस्तक्षेप करते हैं !
  • बाइपोलर डिप्रैशन bipolar depression- द्विध्रुवी विकार वाले लोगों ! में बारी-बारी से कम मूड और अत्यधिक उच्च-ऊर्जा (उन्मत्त) अवधि तक होती है ! कम अवधि के दौरान, उनमें अवसाद के लक्षण हो सकते हैं ! जैसे उदास या निराश या ऊर्जा की कमी इत्यादि !
  • प्रसव काल और प्रसव के बाद डिप्रेशन perinatal and postpartum depression- प्रसवकालीन और प्रसवोत्तर अवसाद को “पेरिनाटल” के नाम से जाना जाता है ! कई लोग इस प्रकार को प्रसवोत्तर अवसाद के रूप में संदर्भित करते हैं ! गर्भावस्था के दौरान और बच्चे के जन्म के एक साल बाद तक प्रसव पीड़ा हो सकती है ! जो मामूली उदासी, चिंता या तनाव का कारण बनता है !
  • लगातार अवसाद ग्रस्तता persistent depressive disorder (PDD)- पीडीडी को डिस्टीमिया के रूप में भी जाना जाता है ! पीडीडी के लक्षण प्रमुख अवसाद से कम इंटेंसिटी के होते हैं ! लेकिन लोग दो साल या उससे अधिक समय तक पीडीडी के लक्षणों का अनुभव करते हैं !
  • माहवारी से पहले अवसाद Premenstrual dysphoric disorder (PMDD) प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर ! प्रीमेन्स्ट्रुअल डिसऑर्डर (PMS) का एक घातक रूप है ! यह महिलाओं को मासिक के ठीक पहले ! या महिलाओं को मासिक धर्म के समय तक प्रभावित करता है !
  • मानसिक अवसाद psychotic depression- साइकोटिक डिप्रेशन वाले लोगों में ! गंभीर अवसाद के लक्षण और भ्रम या मतिभ्रम होते हैं ! भ्रम जैसे उन चीजों में विश्वास करना जो वास्तविकता में आधारित नहीं हैं ! जबकि मतिभ्रम में उन चीजों को देखना, सुनना या महसूस करना शामिल है ! जो वास्तव में वहां नहीं हैं !
  • मौसमी भावनात्मक विकार seasonal behavior disorder- मौसमी अवसाद, या मौसमी स्नेह विकार, आमतौर सर्दियों के शुरुआत में शुरू होता है ! यह अक्सर वसंत और गर्मियों के दौरान ठीक हो जाता है।
क्या डिप्रेशन को रोका जा सकता है can prevent depression

आप पर्याप्त नींद लेकर, स्वस्थ आहार खाने और व्यायाम, ध्यान और योग जैसी नियमित स्व-देखभाल गतिविधियों का अभ्यास करके अवसाद को रोकने में मदद कर सकते हैं ! यदि आपको पहले अवसाद था तो आपको फिर से इसका अनुभव होने की संभावना हो सकती है ! यदि आपके पास अवसाद के लक्षण हैं तो आपको सहायता की जरूरत पड़ सकती है !

देखभाल आपको जल्द बेहतर महसूस करने में मदद करेगी ! अवसाद के लक्षण होने पर मैं क्या कर सकता हूं यदि आपके पास अवसाद के लक्षण हैं ! तो अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता को दिखाएं। वे आपको एक सटीक निदान दे सकते हैं ! आपको एक विशेषज्ञ के पास भेज सकते हैं या उपचार के विकल्प सुझा सकते हैं ! उचित उपचार से डिप्रेशन को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है !

डिप्रेशन का उपचार depression treatment in hindi

कई प्रकार के एंटीडिपेंटेंट्स द्वारा depression treatment डिप्रेशन का उपचार किया जाता है ! आप अपने डॉक्टर से संभावित प्रमुख लक्षणों के अनुसार उपचार प्राप्त कर सकते हैं ! कुछ प्रमुख उपचार निम्नलिखित हैं !

  • चयनात्मक सेरोटोनिन रीपटेक इनहिबिटर Selective serotonin reuptake inhibitors (SSRIs)डॉक्टर अक्सर एक SSRI आधारित दवाएं लिखते हैं। इन दवाओं को सुरक्षित माना जाता है और आम तौर पर अन्य प्रकार के एंटीडिपेंटेंट्स की तुलना में कम दुष्प्रभाव होते हैं। SSRIs में सीतालोप्राम (सेलेक्सा), एस्सिटालोप्राम (लेक्साप्रो), फ्लुओक्सेटीन (प्रोज़ैक), पैरॉक्सिटिन (पैक्सिल, पिश्व), सेराट्रलाइन (ज़ीलॉफ्ट) और विलाज़ोडोन (विब्रीड) शामिल हैं !
  • एटिपिकल एंटीडिप्रेसेंट atypical antidepressant- ये दवाएं अन्य एंटीडिप्रेसेंट श्रेणियों से अलग है ! उनमें बुप्रोपियन (वेलब्यूट्रिन एक्स्ट्रा लार्ज, वेलब्यूट्रिन एसआर, अपेलेंजिन, फॉरफिवो एक्सएल), मिर्ताज़ापाइन (रेमरॉन), नेफाज़ोडोन, ट्रैज़ोडोन और वोर्टेओक्सिन (ट्रिंटेलिक्स) इत्यादि शामिल हैं।
  • ट्राईसाईकलिक एंटीडिप्रेसेंट्स tricyclics antidepressants- ये दवाएं हैं जैसे कि इमीप्रामाइन (टॉफ्रेनिल), नॉर्ट्रिप्टीलीन (पेमेलोर), एमिट्रिप्टिलाइन, डोक्सेपिन, ट्रिमिप्रामाइन (सरमोंटिल), डेसिप्रामाइन (नॉरप्रिन) और प्रोट्रिप्टिलाइन इत्यादि अगर आप पहले SSRI सेवन कर चुके हैं तब ट्राइसिकल आमतौर पर निर्धारित नहीं की जाती हैं !
अन्य चिकित्सा विकल्प other depression treatment

पारंपरिक उपचारों के अलावा कुछ उपचार ऐसे होते हैं जिन्हें अपनाकर डिप्रेशन में लाभ प्राप्त किया जा सकता है जो निम्नलिखित है !

  • इलेक्ट्रोमैग्नेटिक चिकित्सा electroconvulsive therapy (ECT)- ईसीटी में, अवसाद से राहत देने के लिए आपके मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर के कार्य और प्रभाव को प्रभावित करने के लिए मस्तिष्क के माध्यम से विद्युत धाराओं को प्रवाहित किया जाता है। ईसीटी आमतौर पर उन लोगों के लिए उपयोग किया जाता है जो दवाओं (depression treatment) द्वारा ठीक नहीं हो रहे होते हैं ! अथवा स्वास्थ्य कारणों से एंटीडिप्रेसेंट नहीं ले सकते हैं या जिन लोगों को आत्महत्या का खतरा अधिक है !
  • ट्रांसक्रेनियल चुंबकीय उत्तेजना चिकित्सा Transcranial magnetic stimulation (TMS)टीएमएस उन लोगों के लिए एक विकल्प हो सकता है जिन्होंने एंटीडिपेंटेंस द्वारा लाभ प्राप्त नहीं किया है। टीएमएस के दौरान, आपके खोपड़ी पर रखा गया एक उपचार कुंडल आपके मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं को उत्तेजित करने के लिए संक्षिप्त चुंबकीय तरंगों को भेजता है ! यह depression treatment मूड विनियमन और अवसाद को दूर करने में सहायक होते हैं !
डिप्रेशन से कैसे बचें

अवसाद से बचने के लिए कुछ बेहतर तरीकों को आजमाएं जो निम्नलिखित हैं ! Symptoms of depression in Hindi

व्यायाम

नियमित रूप से व्यायाम करना आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छी चीजों में से एक है ! मायो क्लिनिक के अनुसार, व्यायाम कई प्रमुख तरीकों से अवसाद के उपचार और रोकथाम में मदद कर सकता है ! यह आपके शरीर के तापमान को बढ़ाता है ! जिससे केंद्रीय तंत्रिका तंत्र पर अनुकूल प्रभाव पड़ सकता है ! व्यायाम करने से एंडोर्फिन जैसे रसायन का स्राव होता है जो मूड को खुशनुमा बना सकता है ! यह प्रतिकूल प्रतिरक्षा प्रणाली रसायनों को कम करता है !

जो अवसाद को बढ़ावा देते हैं सभी प्रकार के शारीरिक व्यायाम अवसाद का इलाज करने में मदद कर सकते हैं ! लेकिन नियमित रूप से व्यायाम करना सबसे अच्छा है ! एक स्पोर्ट्स टीम या स्टूडियो (जैसे योग या किकबॉक्सिंग) में शामिल हों जहाँ आप सक्रिय होने के अलावा एक समुदाय का हिस्सा होंगे ! लिफ्ट के बजाय सीढ़ियों का उपयोग करें !

सोशल मीडिया समय कम करें

अनुसंधान मे यह स्पष्ट हो चुका है कि सामाजिक मीडिया के अत्यधिक उपयोग अवसाद को बढ़ावा देते हैं ! इसके कारण परिवार, दोस्तों और यहां तक ​​कि सहकर्मियों के साथ जुड़ाव कम हो जाता है ! हालांकि, सोशल मीडिया के समय को सीमित करने से अवसाद को रोकने में मदद मिल सकती है !

अश्वगंधा

डिप्रेशन एक आम मानसिक बीमारी है जो भारत में लाखों लोगों को परेशान करती है। कई दवाएं हैं जो अवसाद को ठीक करने के लिए उपयोग की जाती हैं, लेकिन इनमें से अधिकांश दवाओं के व्यापक दुष्प्रभाव हैं। हालांकि, अश्वगंधा का उपयोग अवसाद के खिलाफ एक वैकल्पिक उपचार के रूप में किया जा सकता है !

60-दिवसीय शोध में अवसादग्रस्त लोगों के एक समूह को प्रतिदिन 600 मिलीग्राम अश्वगंधा जड़ी बूटी निर्धारित की गई थी। और दूसरे नियंत्रण समूह को एक प्लेसबो दवा दी गई थी ! पहले समूह वाले 79% लोगों में अवसाद में जबरदस्त सुधार पाया गया !

जबकि दूसरे समूह के केवल 10% लोगों ने ही अवसाद के प्रति सुधार पाया ! Symptoms of depression in Hindi