Arthritis in Hindi अर्थराइटिस, (गठिया) क्या है और इसका उपचार ऐसे करें

You are currently viewing Arthritis in Hindi अर्थराइटिस, (गठिया) क्या है और इसका उपचार ऐसे करें

अर्थराइटिस एक सूजन युक्त अस्थि विकार है Arthritis in Hindi ! यह समस्या वहीं होती है जहां दो अलग-अलग हड्डियां मिलती हैं ! अर्थात हड्डियों के जोड़ों में यह विकार उत्पन्न होता है ! गठिया का शाब्दिक अर्थ है एक या अधिक जोड़ों की सूजन ! जोड़ों के दर्द के साथ अक्सर गठिया होता है ! जोड़ों के दर्द को आर्थ्राल्जिया भी कहा जाता है ! इस समस्या में जब चार या अधिक जोड़ शामिल होते हैं, तो गठिया को पॉलीआर्थराइटिस कहा जाता है ! जब दो या तीन जोड़ शामिल होते हैं, तो इसे ओलिगोआर्थराइटिस कहा जाता है ! जब केवल एक संयुक्त शामिल होता है, तो इसे मोनोआर्थराइटिस कहा जाता है !

गठिया के मुख्य लक्षणों में जोड़ों में सूजन, कोमलता, घुटनों में दर्द और जकड़न हैं ! जो आमतौर पर उम्र के साथ बढ़ते हैं ! गठिया का सबसे आम प्रकार ऑस्टियोआर्थराइटिस और संधिशोथ हैं ! ऑस्टियोआर्थराइटिस के कारण उपास्थि प्रभावित होती है ! जबकि संधिशोथ एक बीमारी है जिसमें प्रतिरक्षा प्रणाली जोड़ों पर हमला करती है !

यूरिक एसिड क्रिस्टल, जो आपके रक्त में बहुत अधिक यूरिक एसिड होने पर बनता है ! यह गाउट का कारण बन सकता है ! संक्रमण या अंतर्निहित बीमारी, जैसे कि सोरायसिस या ल्यूपस, अन्य प्रकार के गठिया का कारण बन सकता है ! गठिया के प्रकार के आधार पर उपचार अलग-अलग होते हैं ! गठिया उपचार का मुख्य लक्ष्य लक्षणों को कम करना और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना होता है !

अर्थराइटिस के प्रकार types of arthritis in Hindi

  • ओस्टियोआर्थराइटिस osteoarthritis
  • रूमेटाइड अर्थराइटिस rheumatoid arthritis
  • एंकीलॉजिंग स्पोंडिलाइटिस ankylosing spondylitis
  • नॉन रेडियोग्राफिक एक्सल स्पोंडिलअर्थराइटिस Non-radiographic Axial Spondyloarthritis
  • सॉरियाटिक अर्थराइटिस psoriatic arthritis
  • जुवेनाइल ऑडियोपैथिक अर्थराइटिस Juvenile idiopathic arthritis (children)
  • एंटीरियर नी पेन Anterior knee pain (children)
  • चिलब्लेंन Chilblains / Perniosis (children)
  • मल्टीफोकल ओस्टियोमाइलाइटिस Chronic recurrent multifocal osteomyelitis (children)
  • फाइब्रॉम्याल्जिया fibromyalgia
  • जियानट सेल अर्थराइटिस Giant Cell Arteritis
  • गाउट gout

आर्थराइटिस के कारण Causes of arthritis in Hindi

सभी प्रकार के गठिया का कोई एक कारण नहीं होता है ! गठिया के प्रकार के अनुसार कारण भिन्न होते हैं ! संभावित कारणों में शामिल हो सकते हैं जैसे

  • चोट
  • अपक्षयी गठिया
  • असामान्य चयापचय
  • गाउट
  • स्यूडोगाउट
  • ऑस्टियोआर्थराइटिस संक्रमण
  • प्रतिरक्षा प्रणाली की शिथिलता
  • यूरिक एसिड का बढ़ना इत्यादि

कुछ अर्थराइटिस का कोई स्पष्ट कारण नहीं है और उनके उद्भव अप्रत्याशित रूप से होता है। कुछ लोगों को आनुवंशिक रूप से गठिया की स्थिति विकसित होने की संभावना हो सकती है ! अतिरिक्त कारक, जैसे कि चोट, संक्रमण, धूम्रपान और शारीरिक रूप से अक्षम इत्यादि हैं, गठिया के जोखिम को और बढ़ाने के लिए जीन भी सहायक हो सकते हैं ! आहार और पोषण गठिया के प्रबंधन और गठिया के जोखिम में भूमिका निभा सकते हैं ! हालांकि विशिष्ट खाद्य पदार्थ, खाद्य संवेदनशीलता, गठिया का कारण बनते हैं ! कुछ खाद्य पदार्थ जो सूजन को बढ़ाते हैं, विशेष रूप से पशु-व्युत्पन्न खाद्य पदार्थ और परिष्कृत चीनी में उच्च आहार, लक्षणों को और बदतर बना सकते हैं !

उपास्थि आपके जोड़ों में एक लचीला संयोजी ऊतक होता है ! जब आप चलते हैं तो यह दबाव और झटके को अवशोषित करके जोड़ों की रक्षा करते हैं ! इस उपास्थि ऊतक की सामान्य मात्रा में कमी गठिया के कुछ रूपों का कारण बनती है ! osteo arthritis in hindi गठिया के सबसे आम रूपों में से एक है ! जोड़ों में संक्रमण या चोट उपास्थि ऊतक के इस प्राकृतिक तरल को घटा सकती है ! यदि आपके पास बीमारी का पारिवारिक इतिहास है तो OA विकसित होने का जोखिम अधिक हो सकता है !

आर्थराइटिस के मुख्य दोनों प्रकार के कारण

ऑस्टियोआर्थराइटिस और संधिशोथ इन दोनों के अलग-अलग कारण होते हैं जो निम्नलिखित हैं !

*ओस्टियोआर्थराइटिस

अर्थराइटिस के सबसे आम प्रकार के पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस के कारणों मे हड्डियों के सिरों पर कठोरता, उपास्थि के तरल में कमी इत्यादि पर्याप्त क्षति सीधे हड्डी के जोड़ों पर घर्षण पैदा करती हैं ! जो दर्द और सूजन का कारण बनती है ! यह अर्थराइटिस कई वर्षों में हो सकता है, या यह एक संयुक्त चोट या संक्रमण अगर प्रोग्रेसिव है तो कुछ समय पर ही इसके परिणाम दिखने लगते हैं ! ऑस्टियोआर्थराइटिस पूरे जोड़ को भी प्रभावित करता है ! यह हड्डियों में परिवर्तन और संयोजी ऊतकों की गिरावट का कारण बनता है ! जो मांसपेशियों को हड्डी से जोड़ते हैं !

*रूमेटिक अर्थराइटिस

इसे संधिशोथ के नाम से जाना जाता है ! इसमें शरीर की कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली संयुक्त कैप्सूल के स्तर को प्रभावित करती है ! एक विशिष्ट झिल्ली जो सभी संयुक्त भागों को घेरती है ! यह अस्तर (श्लेष झिल्ली) मे सूजन हो जाता है ! यह प्रक्रिया अंततः संयुक्त कैप्सूल के अंदर उपास्थि और हड्डी को नष्ट कर देती हैं !

अर्थराइटिस के लक्षण

जोड़ों में दर्द किसी भी स्नायुबंधन, या संयुक्त के आसपास के tendons को प्रभावित करने वाली चोट के कारण हो सकता है ! जो संयुक्त के भीतर स्नायुबंधन, उपास्थि और हड्डियों को प्रभावित कर सकती है ! दर्द भी संयुक्त सूजन (गठिया, जैसे संधिशोथ और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस) और संक्रमण की एक विशेषता है ! और बहुत ही कम मात्रा में यह संयुक्त उपास्थि के कैंसर का कारक हो सकता है ! साथ ही संयुक्त दोष, सूजन, लालिमा, जोड़ों में गर्मी इत्यादि लक्षण होते हैं ! इसके अलावा कुछ लक्षण निम्नलिखित है!

  • उपास्थि की कोमलता
  • संयुक्त सूजन की कोमलता दर्द के साथ या बिना मौजूद हो सकती है
  • चलने फिरने में दिक्कत महसूस होना
  • जोड़ों में लालिमा
  • जोड़ों में सूजन
  • शारीरिक कमजोरी
  • शारीरिक जकड़न

अर्थराइटिस का निदान diagnosis of arthritis in Hindi

शारीरिक परीक्षा के दौरान, आपका डॉक्टर सूजन, लालिमा और जोड़ों में गर्माहट के लिए आपके जोड़ों की जांच करेगा ! वह यह भी देखना चाहेगा कि आप अपने जोड़ों को कितनी अच्छी तरह हिला सकते हैं ! संदिग्ध गठिया के प्रकार के आधार पर, आपका डॉक्टर निम्नलिखित कुछ परीक्षणों का सुझाव दे सकता है !

  • प्रयोगशाला परीक्षण: प्रयोगशाला परीक्षण विभिन्न प्रकार के शरीर के तरल पदार्थों के विश्लेषण से आपको होने वाले गठिया ! के प्रकार को इंगित करने में मदद मिल सकती है ! आमतौर पर विश्लेषण किए गए तरल पदार्थों में रक्त, मूत्र और संयुक्त द्रव शामिल हैं ! आपके संयुक्त तरल पदार्थ का एक नमूना प्राप्त करने के लिए, आपका डॉक्टर आपके जोड़ों के संयुक्त स्थान में एक सुई इंजेक्ट करते हैं ! और तरल पदार्थ को प्राप्त करते हैं !
  • एक्स रे X Ray: हड्डी की एक छवि प्राप्त करने के लिए विकिरण के निम्न स्तर का उपयोग करते हुए, एक्स-रे किया जाता है ! इसकी सहायता से उपास्थि के नुकसान, हड्डी की क्षति और हड्डी के स्पर्स को देख सकते हैं ! एक्स-रे प्रारंभिक गठिया क्षति को प्रकट नहीं कर सकते हैं, लेकिन वे अक्सर रोग की प्रगति को ट्रैक करने के लिए उपयोग किए जाते हैं !
  • कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी CT: कम्प्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी) ! सीटी स्कैनर कई अलग-अलग कोणों से एक्स-रे प्राप्त करने मे मदद करते हैं ! और आंतरिक संरचनाओं के क्रॉस-अनुभागीय निदान करने के लिए मदद करते हैं ! कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी हड्डी और आसपास के नरम ऊतकों दोनों की छवि प्राप्त कर सकते हैं !
  • चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग MRI: चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग (MRI)। एक मजबूत चुंबकीय क्षेत्र के साथ रेडियो तरंगों को मिलाकर हाई डेफिनेशन इमेज बनाता है ! MRI नरम ऊतकों जैसे उपास्थि, कण्डरा और स्नायुबंधन की अधिक विस्तृत छवियों का उत्पादन करता है !
  • सोनोग्राफी Ultrasound: यह तकनीक जोड़ों के पास नरम ऊतकों, उपास्थि और तरल पदार्थ युक्त संरचनाओं की छवि के लिए उच्च-आवृत्ति ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है ! अल्ट्रासाउंड का संयुक्त आकांक्षाओं और इंजेक्शन के लिए सुई लगाने के लिए उपयोग की जाती है ! arthritis in Hindi
आर्थराइटिस मेडिकेशन arthritis medication in Hindi

कई दवाएं हैं जो गठिया के दर्द के लिए अच्छी हैं ! उनमें से कोई भी दवा शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें ! सामान्य ओवर-द-काउंटर दवाएं एस्पिरिन, इबुप्रोफेन और नेप्रोक्सन हैं ! प्रिस्क्रिप्शन दवाओं में ऑक्सीकोडोन और हाइड्रोकोडोन शामिल हैं ! एक अन्य विकल्प भी है जो आपके जोड़ों के दर्द के स्थल पर कॉर्टिकोस्टेरॉइड इंजेक्शन है। यह आमतौर पर केवल तभी दिया जाता है जब दर्द बहुत ज्यादा हो !

फिजिकल एक्टिविटी

आपको भले ही ऐसा करने का मन न करें, फिर भी व्यायाम सबसे अच्छा काम है ! जो आप गठिया के दर्द से राहत पाने और जोड़ों के नुकसान को कम करने के लिए कर सकते हैं ! वजन कम करने में व्यायाम भी आपकी मदद कर सकता है ! जिसकी वजह से आपके जोड़ों पर अतिरिक्त भार पड़ता है ! आपके लिए स्ट्रेचिंग सबसे अच्छा व्यायाम हो सकता है ! ये आपके लचीलेपन और गति की सीमा को बढ़ाने और आपके जोड़ों को लुब्रिकेट करने के लिए सहायक सिद्ध होता है ! आपका डॉक्टर विशिष्ट स्ट्रेचिंग अभ्यास लिख सकता है !

आर्थराइटिस का घरेलू उपचार arthritis home remedy in Hindi

अर्थराइटिस में घरेलू उपचार लाभदायक हो सकता है ! इसके साथ ही एक स्वस्थ जीवन शैली, स्वस्थ वजन और व्यायाम अपनाना महत्वपूर्ण रहेगा ! कुछ घरेलू उपचार निम्नलिखित है !

*ग्रीन टी

ग्रीन टी में पॉलीफेनोल्स होते हैं ! ये यौगिक सूजन और दवाओं की आवश्यकता को कम करने में मदद कर सकते हैं ! आर्थराइटिस रिसर्च और थेरेपी थ्रू सोर्स में एक अध्ययन में बताया गया है कि ग्रीन टी से कार्टिलेज की सुरक्षा बढ़ती है ! यकृत की समस्याओं के जोखिम के तौर पर ग्रीन टी एक अच्छा विकल्प है !

*नीलगिरी

नीलगिरी एक आसानी से उपलब्ध उपाय है जिसका उपयोग लोग कई तरह की स्थितियों के लिए करते हैं ! नीलगिरी के पत्तों का अर्क गठिया के दर्द का इलाज करने के लिए एक अच्छा उपचार है ! इस पौधे की पत्तियों में टैनिन होता है, जो गठिया से संबंधित सूजन और दर्द को कम करने में मदद कर सकता है ! नीलगिरी अरोमाथेरेपी आर ए के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है !

*हल्दी

हल्दी एक पीले रंग का पाउडर है जो एक फूल वाले पौधे की जड़ों से बनाया जाता है ! यह मीठे और नमकीन व्यंजन में स्वाद और रंग को सम्मिलित करता है ! इसके मुख्य घटक, करक्यूमिन में सूजन-रोधी गुण होते हैं ! इसने लंबे समय तक पारंपरिक आयुर्वेदिक और चीनी चिकित्सा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है ! यह ओए, आरए और अन्य कृत्रिम स्थितियों मे मदद कर सकता है !

*अदरक

कई लोग अदरक को खाना बनाने में इस्तेमाल करते हैं ! लेकिन इसके औषधीय लाभ भी हो सकते हैं ! इसके यौगिक जो अदरक को इसका मजबूत स्वाद देते हैं ! अध्ययन में पाया गया है की अदरक में सूजन रोधी गुण होते हैं। कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि अदरक एक दिन नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) का विकल्प हो सकता है ! लोगों ने लंबे समय से अदरक का इस्तेमाल पारंपरिक चिकित्सा में किया है, लेकिन आप इसे गठिया, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हैं !

*एलोवेरा

वैकल्पिक चिकित्सा में एलोवेरा सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली जड़ी-बूटियों में से एक है। यह कई रूपों में उपलब्ध है, जैसे कि गोलियां, पाउडर, जैल और पत्ती के रूप में। यह अपने उपचार गुणों के लिए जाना जाता है ! चेहरे पर निखार लाने के लिए लोकप्रिय है ! लेकिन यह जोड़ों के दर्द में भी मदद कर सकता है। संभावित लाभों में इसमें सूजन रोधी गुण हैं ! इसको किसी भी फार्म में उपयोग किया जा सकता है यह पूरी तरह सुरक्षित है ! arthritis in Hindi