Aids kaise hota hai जानिए एड्स कैसे होता है और इसके कारण लक्षण क्या हैं

Aids kaise hota hai एड्स कैसे होता है और इसके कारण लक्षण क्या हैं

HIV जिसे हम AIDs के नाम से भी हम जानते है AIDs एक बीमारी है ! जब हमारे शरीर के अंदर HIV नाम के वायरस आ जाते है तो AIDs जैसी समस्या देखने को मिलती है ! AIDs बीमारी से व्यक्ति का इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है ! जिससे कई प्रकार की बीमारियाँ हो सकती है ! आज हम aids kaise hota hai इस विषय पर चर्चा करेंगे !

आज के इस आर्टिकल में मै आपको AIDs/HIV के बारें में पूरी जानकारी देने वाला हूँ ! जैसे कि AIDs/HIV क्या होता है? AIDs के लक्षण क्या-क्या है? क्या AIDs बीमारी का इलाज है? AIDs बीमारी से कैसे बचा जा सकता है इत्यादि ! इससे जुड़ी पूरी जानकारी आपको दूंगा !

यह एक ऐसी बीमारी जिसके विषय में लोग खुलकर बात नहीं करते है ! और नहीं सभी व्यक्ति को AIDs के बारें में पूरी जानकारी होती है ! जानकारी के अभाव के कारण यह रोग नियंत्रण से बाहर हो जाता है ! जिससे भविष्य में एक छोटी-सी बीमारी लाइलाज बीमारी का रूप धरण कर लेती है !

एड्स क्या है Aids kaise hota hai

AIDs एक तरह की सेक्शुअल बीमारी है ! जो कि HIV (Human Immunodeficiency Virus) के कारण होती है ! Aids एक संक्रामक बीमारी है ! जो कि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को बिभिन्न कारक के कारण हो जाता है !

AIDS को एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिसिएंशी सिंड्रोम (Acquired Immuno Deficiency Syndrome) कहते है ! जो कि HIV (Human Immunodeficiency Virus) वायरस से होता है !

यह जरूरी नहीं है कि जिसको HIV है उसे AIDs भी हो ! दरअसल AIDs HIV वायरस के कारण होता है ! AIDs बीमारी के कारण मनुष्य के अंदर इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है ! जिससे मनुष्य का शरीर रोगों से लड़ने में अक्षम हो जाता है !

अगर समय-समय पर AIDs बीमारी का इलाज उपलब्ध हो जाए तो इसका खतरा बहुत कम हो जाता है ! वही अगर इसका इलाज सही से न हो तो AIDs से व्यक्ति की मौत भी हो सकती है ! Aids kaise hota hai

AIDs के क्या-क्या लक्षण है? Symptoms of aids in Hindi

डॉक्टरों की एक रिपोर्ट के अनुसार HIV/AIDs के शुरुआती दिनों में इस बीमारी का पता करना थोड़ा मुस्किल होता है ! क्योंकि सुरुआती दिनों में यह जल्दी कन्फर्म नहीं होता है कि HIV वायरस हमारे शरीर के अंदर कब आया !

AIDs का इलाज अभी तक संभव नहीं हो पाया है ! हालांकि दवाइयों की मदद से AIDs को कम किया जा सकता है लेकिन इस AIDs बीमारी को पूरी तरह से समाप्त नहीं किया सकता है !

एक प्रापर जांच की मदद से AIDs का पता लगाया जा सकता है ! नीचे मैंने Aids बीमारी के कुछ लक्षण के बारें में बताया हूँ ! अक्सर देखा जाता है कि जिन लोगों को AIDS बीमारी होती है उनमे यह लक्षण जरूर देखे जाता है ! अगर आपके अंदर इस प्रकार के लक्षण दिखाई देते है तो डॉक्टर से जरूर संपर्क करें !

सिर दर्द

HIV से पीढ़ित व्यक्ति को हमेशा सर दर्द होता है ! वैसे तो सिर दर्द होने के कई और भी कारण हो सकते है ! लेकिन अगर आपका सर बार-बार दर्द कर रहा है ! और आपके अंदर AIDS के और भी लक्षण दिखाई दे रहे है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें ! पुरुषों को महिलाओ के मुकाबले AIDS काफी अलग होते है ! कई बार दोनों में अलग-अलग लक्षण दिखाई देते है ! आज में आपको कुछ कॉमन AIDS के लक्षण के बारें में बताने वाला हूँ !

बुखार रहना

AIDS से पीढ़ित मरीज को हमेशा बुखार बने रहने की समस्या भी होती है ! Aids kaise hota hai

लिम्फ नोड्स का बढ़ना Aids kaise hota hai

गर्दन के पीछे लिंफ नोडस, कमर, और बांजु में सूजन आ जाता है ! लिंफ में सूजन या कोई भी बदलाव दिखे को तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर को जरूर दिखाएँ !

इम्यून सिस्टम का कमजोर होना

AIDS हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाता है ! HIV वायरस से हमारे शरीर के इम्यून सिस्टम कमजोर जो जाते है ! और रोग प्रतिरोधक क्षमता कम को जाती है ! जिससे हम बहुत ही जल्दी बीमारियों के शिकार हो जाते है !

अनियमित पीरियड Aids kaise hota hai

जब भी किसी महिला के अंदर HIV वायरस जाते है तो महिलाओं के मेंस्ट्रुअल साइकिल पूरी तरह से बदल जाता है ! और कुछ महिलाओं के तो पीरीअड भी सही समय पर आना बंद हो जाते है ! या तो कम पीरीअड आएंगे या तो पहले के मुकाबले ज्यादा पीरीअड आएंगे !

ज्यादा नीँद आना

AIDS के लक्षण में से एक लक्षण “ज्यादा निंद लगना” भी है ! इस बीमारी से पीढ़ित व्यक्ति को हमेशा ऐसा प्रतीत होता है वे बहुत थके हुए है ! बिना कोई काम किए भी थकान का आना भी AIDs ले लक्षण की तरफ इशारा करते है !

अचानक वजन घटना Aids kaise hota hai

एड्स का मरीज खाना तो खाते है लेकिन वजन अपने आप कम होने लगता है ! और आदर्श वजन पाना एड्स रोगी के लिए एक चुनौतीपूर्ण कार्य होता है !

लाल चकत्ते

एड्स के मरीज के शरीर पर लाल चकत्ते का पड़ना एक मुख्य लक्षण है ! साथ ही इसका शरीर के स्किन पर भी काफी बुरा प्रभाव पड़ता है ! Aids kaise hota hai

AIDs कैसे होता है? | AIDs होने के कारण Causes of aids in Hindi

एचआईवी तब संचारित हो सकता है जब वायरस युक्त शरीर के तरल पदार्थ शरीर में एक पारगम्य अवरोध के संपर्क में आते हैं ! या जननांगों जैसे क्षेत्रों के नम ऊतकों में छोटे-छोटे टुकड़ों में टूटने पर होता हैं ! इसका मुख्य वाहक रक्त वीर्य पूर्व वीर्य द्रव योनि तरल पदार्थ मलाशय के तरल पदार्थ स्तन का दूध इत्यादि हैं ! Hiv होने कुछ कारण निचे सूचीबद्ध हैं !

  • जब भी कोई व्यक्ति किसी HIV/AIDS से पीड़ित व्यक्ति से यौन संबंध बनता है तो उसे AIDS होने के ज्यादा चांस होते है !
  • HIV से संक्रमित चीजों का उपयोग करने से जैसे कि संक्रमित सिरिन्ज !
  • अगर माँ को HIV की बीमारी होती है तो उसके बच्चे के अंदर भी HIV वायरस प्रवेश कर सकता है !
  • जब एक बच्चा छोटा होता है तो अगर उस बच्चे की माँ को HIV है तो स्तनपान करने से उसके बच्चे को भी एड्स होने के ज्यादा चांस होते है !
  • अगर आप किसी संक्रमित महिला/पुरुष के साथ सेक्स करते है तो आप भी HIV वायरस से संक्रमित हो सकते है !
  • जब संक्रमित पुरुष का सिमेन/वीर्य किसी महिला के शरीर के अंदर जाता है तो वह महिला भी HIV से संक्रमित हो सकती है !
HIV/AIDS जैसे बीमारी से कैसे बचें? How prevent aids in Hindi

अगर आप चाहते है कि आपको भविष्य में कभी भी HIV जैसे वायरस से पीढ़ित न होना पड़े तो नीचे दिए गए पॉइंट को अच्छे से समझे !

  • कभी भी किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संबंध न बनाएँ !
  • पत्नी के अलावा किसी दूसरी औरत, समलैंगिक, वेश्याओं के साथ यौन संबंध न बनाए !
  • संभोग के बाद अपने गुप्तांश अंगों को अच्छी तरह से साफ करें !
  • शेविंग के लिए हमेशा नई ब्लेडस, रेजर का उपयोग करें !
  • ब्लड को लेने से पहले ब्लड की जांच जरूर करवाएँ !
  • HIV से संक्रमित महिलाओं को गर्वधारण नहीं करना चाहिए क्योंकि HIV रोग उनके शिशु को भी हो सकता है !
एड्स सम्बंधित स्वास्थ्य समस्या Aids related issue in Hindi

पुराने एचआईवी या अवसरवादी संक्रमण वाले व्यक्ति को जटिलताओं का अनुभव हो सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • एचआईवी से संबंधित एन्सेफैलोपैथी
  • प्रगतिशील मल्टीफोकल ल्यूकोएन्सेफालोपैथी (पीएमएल)
  • वेस्टिंग सिंड्रोम
  • एचआईवी मस्तिष्क में एन्सेफैलोपैथी, या सूजन को ट्रिगर कर सकता है !

यह वायरस कई लोगों में मौजूद होता है, और यह आमतौर पर किडनी में निष्क्रिय रूप से रहता है !

यदि किसी व्यक्ति की कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली है तो संभवतः एचआईवी या दवाओं जैसे कि मल्टीपल स्केलेरोसिस के लिए जॉन कनिंघम वायरस मस्तिष्क पर हमला कर सकता है ! जिससे पीएमएल होता है, जो जीवन के लिए खतरा हो सकता है ! और पक्षाघात और संज्ञानात्मक कठिनाइयों का कारण बन सकता है !

वेस्टिंग सिंड्रोम तब होता है जब कोई व्यक्ति दस्त, कमजोरी या बुखार के कारण अपनी मांसपेशियों का 10% अनैच्छिक रूप से खो देता है ! Aids kaise hota hai

एड्स के बारे में गलत मिथ्य Aids kaise hota hai

दुर्भाग्य से लोगों मे HIV को लेकर तमाम गलतफहमियाँ है इस लिए यह समझना भी जरूरी है कि HIV-AIDS किन किन वजहों से नही फैलता हैं ! Aids kaise hota hai

  • कीड़े मकोड़ो या मछरों के काटने से !
  • किसी HIV AIDS के रोगी के मूत्र और पसीने से !
  • शौचालय या स्विमिंग पूल के साझा इस्तेमाल करने से !
  • HIV AIDS के मरीज का तौलिया या कपड़ा इस्तेमाल करने से !
  • HIV AIDS के व्यक्ति को छूने से या साथ साथ काम करने से !
  • HIV AIDS के व्यक्ति के साथ एक थाली में खाने से !
  • HIV AIDS के रोगी का किसी के पास छींकने या खाँसने से भी HIV AIDS नही फैलता है !