Olive oil in Hindi ऑलिव ऑयल का त्वचा बालों के लिए  फायदे खुराक और नुकसान

Olive oil in Hindi ऑलिव ऑयल का त्वचा बालों के लिए फायदे खुराक और नुकसान

आज हम जानेंगे कि ओलिव आयल के फायदे क्या-क्या है ! और इसका उपयोग कब कब किया जाता है इत्यादि ! यह खाने में इस्तेमाल होने वाला एक तेल है ! भले ही इस olive oil in Hindi का नाम साधारण है ! लेकिन इस तेल में अनेक फायदे पाए जाते है !

यह Olive oil जैतून के पौधे से बनाया जाता है ! इसलिए olive oil in hindi को हम जैतून का तेल कहते है !

पहले यह तेल इतना प्रसिद्ध नहीं था ! लेकिन पिछले कुछ सालों में इस तेल पर हुए शोधों के बाद पता चला कि यह तेल बहुत ही औषधि तत्वों से भरपूर है ! डायबिटीज, माइग्रेन, और डिप्रेशन जैसी बीमारियों से पीड़ित लोग इस olive oil का इस्तेमाल करते है !

आज के इस आर्टिकल में मै आपको olive oil in hindi, olive oil के फायदे, olive oil क्या है? इत्यादि के बारें में जानकारी देने वाला हूँ ! तो चलिए आलिव ऑइल के फायदे, और नुकसान के बारें में अच्छे से जानते है !

इसे भी पढ़ें: Drumstick in Hindi मुनगा खाने के बेहतरीन फायदे

ऑलिव ऑयल क्या है? What is Olive Oil in Hindi

Table of Sub heading

आज के समय के भाग दौड़ के जिंदगी में लोगों को अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए समय ही नहीं मिल पाता है ! जिससे उन्हे आगे चलकर स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारीयों का सामना करना पड़ता है !

ऐसे में अगर हम अपने शरीर को इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में स्वस्थ रखना चाहते है ! तो अपने खान-पान पर विशेष ध्यान चाहिए !

अगर आप अपने शरीर के स्वास्थ्य से इतना ही प्यार करते है तो अपने खान-पान में Olive oil in Hindi का इस्तेमाल जरूर करें !

Olive oil जिसे जैतून के पौधे से बनाया जाता है ! Olive oil में काफी पौष्टिक तत्व पाए जाते है ! जिसका इस्तेमाल हम अपने खान-पान के साथ-साथ शरीर के त्वचा, बालों इत्यादि में भी कर सकते है !

Olive oil जिसे काफी लोग जैतून का तेल के नाम से भी जानते है ! अक्सर लोग olive oil का istemal (uses of olive oil in hindi) का इस्तेमाल बहुत ही कम मात्रा में करते है !

लेकिन आज के इस आर्टिकल में मै आपको olive oil के कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण फ़ायदों (olive oil ke fayade) के बारें में बताऊँगा जिसके बाद आप भी जैतून का तेल इस्तेमाल करने लग जाएंगे !

चलिए सबसे पहले Olive oil के फ़ायदों के बारें में एक-एक करके जानते हैं ! लेकिन उससे पहले यह जान लेते है कि olive oil में कौन-कौन से पौष्टिक तत्व पाए जाए है?

ऑलिव ऑयल (जैतून तेल) में मौजूद पौष्टिक तत्व

Olive oil में अनेक प्रकार के पौष्टिक तत्व पाए जाते है ! जो हमारे शरीर को काफी हेल्थी बनाए रखते है !

  • Olive Oil में विटामिन A,D,E और K पाया जाता है !
  • जैतून के तेल में एंटीऑक्सीडेंट काफी भरपूर मात्रा में रहता है !
  • और Olive oil में कुछ और अन्य पौष्टिक तत्व जैसे कि पालीफिनोल, विटामिन ई, सायटोस्टेरोल, इत्यादि पाए जाते है !

ऑलिव ऑयल के फायदे| Benefits Of Olive Oil In Hindi

जैतून के तेल के अनेक फायदे है ! मैंने इस आर्टिकल में कुछ महत्वपूर्ण फ़ायदों की लिस्ट नीचे संदर्भित किया है !

आलिव आयल डायबिटीज, दिल के रोगी, कैंसर जैसे बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है ! और साथ ही यह कब्ज को ठीक करने में भी असरदार होता है ! Olive oil in Hindi

कोलेस्ट्रॉल को कम करता है

कोलेस्ट्रॉल हर मनुष्य के शरीर के खून में पाए जाना वाला एक मोम जैसा पदार्थ होता है ! जो कि शरीर के कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है ! अगर हमारे शरीर के अंदर कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है तो दिल से जुड़ी बीमारी, हार्ट अटैक, हार्ट फैल्यर, जैसी घातक बीमारियों के होने का ज्यादा चांस होता है !

अगर आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा हमेशा ज्यादा रहती है तो इस आलिव आयल का इस्तेमाल अपने खाने में जरूर से करें ! क्योंकि आलिव आयल में 70% से जादा मोनोसेचूरेटेड ऐसिड पाया जाता है ! यह ऐसिड हमारे शरीर के अंदर कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रण करने में मदद करता है !

पाचनतंत्र में सुधार Olive oil in Hindi

लगभग 50% व्यक्ति को पाचन तंत्र की समस्या होती है ! वे जब कोई भी भोजन करते है तो उनका भोजन नहीं पचता है ! ऐसा तभी होता है जब आपका पाचन तंत्र सही से काम नहीं करता है !

और पाचन तंत्र खराब होने का सबसे मुख्य कारण आहार है ! अगर हम सही आहार नहीं लेते है तो इससे पचन तंत्र खराब होने की ज्यादा समस्या आती है ! ऐसे में आप olive oil का सेवन अपने आहार के साथ कर सकते है ! अगर आयुर्वेद की माने तो जैतून के तेल में कुछ पौष्टिक तत्व पाए जाते है जो पेट के लिए फायदेमंद होता है ! और हमारे आंतों को भी मजबूत बनाता है !

माइग्रेन के सिरदर्द में राहत

काफी केसेस में देखा गया है कि आलिव आयल माइग्रेन के सिरदर्द में अच्छा माना गया है ! आलिव आयल के रोजाना इस्तेमाल से किसी भी प्रकार से सिरदर्द से राहत मिलता है !

और इसका इस्तेमाल करने की विधि भी काफी आसान है ! इसे आप रात को सोने से पहले 30ml आलिव आयल गुनगुने पानी के साथ सेवन करें !

वजन घटाने में सहायक

वजन बढ़ने की समस्या अधिक लोगों में देखा जाता है ! जैतून के तेल में मोनो सेचूरेटेड फैट पाया जाता है ! आपको बता दूँ की सेचुरेटेड फैट वजन कम करने में काफी सहायक होता है !

अगर आप इस ऑलिव आयल का सेवन अपने भोजन के साथ सही मात्रा में करते है तो इससे जरूर आपका वजन कम होगा ! इस तेल का सेवन करने से हमारे शरीर का वजह बैलन्स रहता है !

बालों के लिए मददगार

आज के समय में कम उम्र में लोगों के बाल झड़ने, सफेद होने लगते है ! और काफी लोगों को दो मुंह वाले बालों से समस्या होती है ! ऐसा तभी होता है जब आपके बालों को सही मात्रा में पोषण नहीं मिल पाता है !

अगर आपको भी बाल झड़ने की समस्या है तो आप जैतून के तेल का सेवन कर सकते है ! जैतून के तेल में में कुछ ऐसे पौष्टिक त्वत पाए जाते है ! जो हमारे बालों के लिए काफी जरूरी होता है !

जैसे की olive oil में एंटी ऑक्सीडेंट के साथ-साथ विटामिन ई भी पाया जाता है ! एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन ई बालों के लिए बढ़िया होता है !

ऑलिव टेल के इस्तेमाल से बालों को अच्छी मात्रा में पोषण मिलता है ! जिससे की सूखे बालों, क्षतिग्रस्त बाल, दो मुंह वाले बालों, इत्यादि से राहत मिलता है !

दिल के लिए फायदेमंद होता है

यह प्रूफ हो चुका है की दिल के रोगों में एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव तेल दिल के लिए काफी फायदेमंद होता है ! अगर आप या आपके परिवार में कोई भी व्यक्ति दिल से जुड़ी बीमारियों से पीड़ित है ! तो उन्हे एक्स्ट्रा वर्जिन (olive oil in Hindi) तेल का इस्तेमाल करने के लिए जरूर बोलिए !

हड्डियों को मजबूत बनाता है

अगर आप अपने आहार में आलिव ऑइल का भी इस्तेमाल करते है तो यह तेल आपके हड्डियों को मजबूत बनाए रखता है ! और यह बढ़ती उम्र में भी हड्डियों को मजबूत बनाए रखता है !

और साथ में ही आप जैतून के तेल से मालिश कर सकते है ! यह हड्डी को मजबूत बनाने में मदद करता है !

अन्य दर्द से आराम Olive oil in Hindi

आलिव आयल में कुछ औषदी और ओलीयोकैन्थअल यौगिक पाया जाता है ! यह एक प्राकृतिक एंटी-इंफलेमेटरी यौगिक की तरह काम करता है ! यह दर्द निवारक दवा की तरह काम करता है ! और शरीर के दर्द को कम करने में मदद करता है !

इसके लिए आप थोड़ी से मात्रा में जैतून के तेल को अपने हथेली पर लीजिए और दर्द वाली जगह हल्के-हल्के हाथों से मसाज कीजिए !

अल्ज़ाइमर के खतरे को कम करता है

अल्जाइमर रोग दुनिया में सबसे आम न्यूरोडीजेनेरेटिव स्थिति है ! इस तेल की प्रमुख विशेषताओं में से एक आपके मस्तिष्क की कोशिकाओं के अंदर तथाकथित बीटा-एमिलॉइड सजीले टुकड़े का निर्माण है !

ध्यान रखें कि अल्जाइमर पर जैतून के तेल के प्रभाव पर और अधिक शोध की आवश्यकता है !

मधुमेह के खतरे को कम करे

जैतून का तेल टाइप 2 मधुमेह के खिलाफ अत्यधिक सुरक्षात्मक प्रतीत होता है ! कई अध्ययनों ने जैतून के तेल को रक्त शर्करा और इंसुलिन संवेदनशीलता पर लाभकारी प्रभाव प्रदर्शित किया है !

418 स्वस्थ लोगों में एक यादृच्छिक नैदानिक ​​परीक्षण ने हाल ही में जैतून के तेल के सुरक्षात्मक प्रभावों की पुष्टि की !

इस अध्ययन में, जैतून के तेल से भरपूर आहार ने टाइप 2 मधुमेह के खतरे को बहुत कम कर दिया !

कैंसर से लड़ने में सहायक

भूमध्यसागरीय देशों के लोगों में कुछ कैंसर का जोखिम कम होता है, और कई शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि जैतून का तेल इसका कारण हो सकता है !

जैतून के तेल में एंटीऑक्सिडेंट मुक्त कणों के कारण ऑक्सीडेटिव क्षति को कम कर सकते हैं, जिसे कैंसर का एक प्रमुख चालक माना जाता है !

कई टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों से पता चलता है कि जैतून के तेल में मौजूद यौगिक कैंसर कोशिकाओं से लड़ सकते हैं !

रूमेटोइड आर्थराइटिस का उपचार करने में सहायक

रुमेटाइड गठिया बीमारी एक ऑटोइम्यून समस्या है जिसमे विकृत जोड़ और दर्दनाक जोड़ों से गुजरना पड़ता है ! यद्यपि सटीक कारण अच्छी तरह से समझ में नहीं आता है, संभवतः इसमें आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली गलती से सामान्य कोशिकाओं पर हमला करती है !

जैतून के तेल की खुराक सूजन में सुधार करती है और रूमेटोइड गठिया वाले व्यक्तियों में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करती है !

बैक्टीरिया से लड़ने में सहायक

जैतून के तेल में कई पोषक तत्व होते हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया को रोक सकते हैं या मार सकते हैं !

इनमें से एक है हेलिकोबैक्टर पाइलोरी, एक जीवाणु जो आपके पेट में रहता है और पेट के अल्सर और पेट के कैंसर का कारण बन सकता है !

टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों से पता चला है कि अतिरिक्त वर्जिन जैतून का तेल इस जीवाणु के आठ उपभेदों से लड़ता है ! जिनमें से तीन एंटीबायोटिक दवाओं के प्रतिरोधी हैं !

अवसाद को कम करें Olive oil in Hindi

जैतून के तेल के दीर्घकालिक प्रशासन से यह संकेत मिलता है कि जैतून के तेल में चिंताजनक और अवसादरोधी गुण होते हैं ! न्यूरोकेमिकल परिणामों से पता चलता है कि जैतून के तेल के बार-बार प्रशासन ने मस्तिष्क के स्तर 5-HT (5-हाइड्रॉक्सिट्रिप्टामाइन), 5-HIAA (5-हाइड्रॉक्सीइंडोलैसेटिक एसिड), और DA (डोपामाइन) के स्तर को कम किया जा सकता है !

इसलिए, वर्तमान निष्कर्ष संकेत करते हैं कि जैतून के तेल में न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रभाव होते हैं ! यह 5-HT और DA मेटाबॉलिज्म में बदलाव करके व्यवहार संबंधी कमियों को कम करता है ! इसलिए यह अवसाद और चिंता के इलाज के लिए एक चिकित्सीय पदार्थ के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है !

त्वचा में निखार लाए

जैतून का तेल हमारी त्वचा के लिए वरदान है ! जैतून के तेल की विटामिन ई और एंटीऑक्सीडेंट सामग्री त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करती है ! यह हमारी त्वचा को हाइड्रेट और प्रभावी रूप से मॉइस्चराइज़ करता है, महीन रेखाओं और झुर्रियों को बनने से रोकता है, निशान और खिंचाव के निशान को हल्का करने में मदद करता है, मुँहासे रोकता है और फटी एड़ियों को ठीक करने में मदद करता है !

ऑलिव ऑइल का हिंदी में मतलब Meaning of olive oil in Hindi

ऑलिव ऑइल को हिंदी में जैतून का तेल कहते हैं यह एक प्रकार के पौधे से बनाया जाता है ! यह मनुष्य के आंतरिक और वाह्य बिमारियों के लिए बेहद फायदेमंद है !

ऑलिव ऑयल (जैतून तेल) के नुकसान | Side effect of Olive Oil In hindi

अब तक आपने जाना की जैतून तेल क्या होता है? जैतून तेल के फायदे क्या-क्या है इत्यादि ! चलिए अब मै आपको जैतून तेल के कुछ नुकसान के बारें में बताता हूँ !

  • संवदेनशील जगहों पर आलिव ऑइल का का इस्तेमाल न करें जैसे कि जननांग !
  • जिन लोगों की त्वचा टैलिय होती है वो इस तेल का उपयोह न करें तो ही अच्छा है !
  • इस तेल के इस्तेमाल के बाद अपने ब्लड प्रेसर, और शुगर लेवल को समय-समय पर चेक करते रहें !
ओलिव ऑइल का मौखिक डोज़ Oral doses of olive oil in Hindi

जैतून के तेल के प्रभावों की जांच करने वाले परीक्षण उपरांत कम से कम 4 एमएल / दिन के रूप में इस्तेमाल का सुझाव दिया जाता है ! लेकिन आमतौर पर बिना किसी प्रतिकूल प्रभाव के 25 से 40 एमएल तक की दैनिक खुराक का उपयोग किया जा सकता है !

यह कान के मैल को नरम करने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है ! साथ ही कब्ज के लिए एनीमा के रूप में प्रशासित किया गया है !

ऑलिव ऑयल (जैतून तेल) का इस्तेमाल कैसे करें? | Use of Olive Oil In Hindi

Olive oil in Hindi जैतून तेल का इस्तेमाल कुछ इस प्रकार से करते है !

जैतून के तेल से मसाज कैसे करें?

  • आलिव ऑइल को गरम करें और फिर थोड़ा ठंडा होने दे !
  • फिर शरीर पर मसाज करें !
  • करीब आधे घंटे ऐसे छोड़ दें !
  • और फिर सम्पू से धो लें !
चेहरे और बालों के लिए ऑलिव ऑयल (जैतून तेल) का इस्तेमाल कैसे करें? How to use olive oil for face and hair in Hindi
  • अगर आप चेहरे पर जैतून के तेल को लगाना चाहते है तो जैतून के तेल में थोड़ा-सा नारियल का तेल या फिर और अन्य किसी माश्चराइजर क्रीम में मिक्स कर लें ! और हपते में 2-3 बार अपने चेहरे पर लगाएँ !
  • वहीं अगर आप अपने बालों में आलिव आयल का इस्तेमाल करना चाहते है तो रात को सोने से पहले जैतून के तेल को अपने बालों में लगा लें ! और फिर रात भर ऐसे ही छोड़ दें ! इसके बाद सुबह सम्पू से अपने बाल को धो लें ! इस प्रक्रिया को एक सप्ताह में 2-3 बार दोहरा सकते है !
निष्कर्ष Conclusion in Hindi

आज मैंने आपको इस आर्टिकल की मदद से olive oil in hindi, के फायदे और इस्तेमाल के बारें में पूरी डीटेल में समझाया हूँ !

आलिव ऑइल जो की जैतून पौधे से बनता है ! इसलिए हम इसे जैतून के तेल के नाम से भी जानते है ! जैतून का तेल हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है ! और शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है !

अगर हम रोजाना सही मात्रा में जैतून के तेल का इस्तेमाल करते है तो यह हमारे इम्यूनीटी को मजबूत बनाता है ! और रोगों से लडने में मदद करता है !

Aids kaise hota hai एड्स कैसे होता है और इसके कारण लक्षण क्या हैं Previous post Aids kaise hota hai जानिए एड्स कैसे होता है और इसके कारण लक्षण क्या हैं
Banyan tree in Hindi बरगद पेड़ के उपयोग फायदे और नुकसान Next post Banyan tree in Hindi बरगद पेड़ के उपयोग फायदे और नुकसान

चिकित्सा की स्थिति, डाइट, उपचार, निदान और घरेलू उपचार के बारे में उपलब्ध जानकारी, केवल सामान्य रूप से पढ़ने के लिए है ! उपर्युक्त लेख हमेशा त्रुटि रहित, पूर्ण या अद्यतित नहीं भी हो सकता है ! हालाँकि कोई त्रुटि ना हो इसका पूरा रिव्यु लिया जाता है ! Fit & Well Health का उद्देश्य किसी चिकित्सक से परामर्श को प्रतिस्थापित करना नहीं है ! कोई भी स्वास्थ्य समस्या होने पर किसी डॉक्टर से उपचार अवश्य करवायें !

Social Link