Blood pressure in hindi- ब्लड प्रेशर 100% बिना दवा के इलाज योग्य !

Blood pressure in hindi- ब्लड प्रेशर 100% बिना दवा के इलाज योग्य !

आज का विषय BLOOD PRESSURE है हाई ब्लड प्रेशर को एक साइलेंट किलर के रूप में भी जाना जाता है ! पूरे वर्ल्ड में 100 करोड़ से अधिक लोग हाई ब्लड प्रेशर से प्रभावित हैं ! सिर्फ भारत में ही 20 करोड़ से अधिक लोग इस बीमारी से प्रभावित हैं !

यह बीमारी ग्रामीण क्षेत्रों की अपेक्षा शहरों में अधिक लोगों को प्रभावित करती है ! और सभी आयु वर्ग के लोग इससे प्रभावित हैं ! 10 साल के बच्चे से लेकर 60 साल के बुजुर्ग लोग भी इस बीमारी से पीड़ित हैं ! दो तिहाई लोग इससे पीड़ित हैं !

अर्थात 65 प्रतिशत से अधिक लोग इस बीमारी से प्रभावित हैं ! ब्लड प्रेशर हाई होने के कारण तमाम तरह की परेशानियां होती हैं !

ब्लड प्रेशर क्या है ! what is blood pressure –

जब शरीर में तनाव उत्पन्न होता है ! तो ब्लड प्रेशर एक आपातकाल मोड में आ जाता है ! और रक्तचाप blood pressure बढ़ जाता है ! रक्तचाप का मतलब है शरीर में ब्लड का ब्लड सरकुलेशन द्वारा पूरे शरीर में पहुंचना ! शरीर के विभिन्न अंगों तक रक्त पहुंचने के लिए हृदय द्वारा रक्त पर एक प्रेशर बनाया जाता है ! इसी प्रेशर की दर को ब्लड प्रेशर कहा जाता है !

दिल और मस्तिष्क की नसें बहुत महीन एक बाल के समान होती है ! इन रक्त वाहिकाओं में अगर ब्लड प्रेशर बढ़ता है तो नसें छतिग्रस्त हो सकती हैं ! और रक्त का थक्का जम सकता है जिसकी वजह से शरीर के कोई भी अंग कार्य करना बंद कर सकते हैं !

कभी-कभी जब हम कसरत करते हैं व्यायाम करते हैं या दौड़ते हैं तब हमारा ब्लड प्रेशर अस्थाई रूप से बढ़ जाता है ! परंतु इस प्रकार का ब्लड प्रेशर कुछ ही समय में सामान्य हो जाता है ! इससे शरीर पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है !

परंतु अगर यह दीर्घकालिक रूप से बढ़ा हुआ होता है ! तो रक्त वाहिकाऐं नष्ट हो सकती हैं ! साथ ही मस्तिष्क और ह्रदय छतिग्रस्त हो सकते हैं ! गुर्दे एवं शरीर के किसी भी अंग मैं खराबी आ सकती है ! क्योंकि ब्लड प्रेशर सामान्य नहीं होने के कारण

ऐसी समस्याएं हो सकती हैं ! हमारा शरीर ब्लड प्रेशर के अधिकतम उच्च रक्तचाप को नहीं संभाल सकता ! इसका स्थाई समाधान खोजना महत्वपूर्ण है ना की छणिक !

इसका स्थाई समाधान खोजा जाना अति आवश्यक है !

इसे भी पढ़ें.. ब्लड प्रेशर सामान्य करने के लिए …

/dhanurasana-yoga-in-hindi/

ब्लड प्रेशर में दवाओं के दुष्परिणाम !

ब्लड प्रेशर कम करने के लिए जब हम दवाओं का सेवन करते हैं तब इससे शरीर को नुकसान पहुंचता है और तंत्रिका तंत्र प्रभावित होता है ! यह बीमारी उतना घातक नहीं है जितना हम इसको दवाओं से बात करते हैं ! अधिकांश इलाज के रूप में ओरली दवाओं का सेवन शामिल है !

दवाई लेते रहने के 10 15 साल बाद फिर अन्य बीमारियां भी आने लगती हैं ! फिर हम उन अन्य बीमारियों की दवाइयों का सेवन करते हैं ! तब वह और खतरनाक होता जाता है दवाइयों का सेवन ब्लड प्रेशर का स्थाई समाधान नहीं है !

इसको नियंत्रित करने के लिए आजकल दो प्रकार के उपाय अपनाए जाते हैं पहला है ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए दवा का प्रयोग ! दूसरा है ब्लड को थिन (पतला) करने के लिए दवा का प्रयोग ! मेरे हिसाब से दोनों प्रकार का समाधान गलत है !

ब्लड प्रेशर के कारण ! causes of blood pressure –

आइए समझते हैं कुछ मुख्य कारणों को जो ब्लड प्रेशर बढ़ाने में सहायक होते हैं ! जैसे ओवरबेट होना अर्थात अधिक वजन होना उच्च कोलेस्ट्रॉल से संबंधित है ! कोलेस्ट्रोल तभी बढ़ता है जब अम्ल वसा तंबाकू गुटखा शराब इत्यादि का सेवन किया जाए ! साथ ही लंबे समय तक बैठे रहने या आराम करने से भी ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है !

नींद की कमी भी इसका मुख्य कारण हो सकता है ! हमारे शोध के अनुसार यह सभी भौतिक कारण ब्लड प्रेशर बढ़ाने में सहायक होते हैं ! यह भी स्वीकार करना पड़ेगा कि ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में मानसिक कारण 80% उत्तरदाई है !

मानसिक कारण जैसे तनाव चिंता भय क्रोध नकारात्मक विचार उदासी इत्यादि ! वैसे ब्लड प्रेशर बढ़ने के 50 से अधिक कारण है ! डॉक्टरों के अनुसार एक बार ब्लड प्रेशर बढ़ जाने के बाद आपको हमेशा दवा खानी है !

लेकिन मैं ऐसा नहीं मानता तीन चार महीने की बात दवा बंद की जा सकती है ! परंतु अनिवार्य यह है कि घर पर ही निगरानी करने के लिए एक ब्लड प्रेशर मशीन होना जरूरी है !

 blood pressure

ब्लड प्रेशर से बचने के उपाय ! prevention from blood pressure –

कार्डैमम चाय पिए, लहसुन खाए, प्याज खाएं, आंवला खाएं, संतरे खाएं, सेव खाएं, काली मिर्च खाएं, एलोवेरा जूस पीएं, फ्लैक्स बीज का सेवन करें और नमक कम खाएं, नारियल पानी पीऐ नारियल पानी में पोटेशियम होता है ! जो ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने में मदद करता है !

जब तलक प्रेशर की समस्या आती है तब डॉक्टर सलाह देते हैं कि नमक का सेवन कम करें ! क्योंकि सफेद नमक का सेवन खतरनाक है ! आइए अब हम इस समस्या के समाधान पर चर्चा करते हैं जो दीर्घकालिक हो सकता हैं !

शरीर में एसिडिटी बढ़ जाने पर यह समस्या उत्पन्न होती है ! मनोवैज्ञानिक कारणों से भी यह बढ़ सकता है ! और शारीरिक कारण से भी जैसे कोई व्यक्ति जो आलसी है और केवल एक ही स्थान पर बैठा रहता है !

वह एसिडिटी की ओर जाता है ! नींद न आना, तनाव, चिंता भी अम्लता की ओर ले जाती है ! परंतु आपका पहला लक्ष्य एसिड को कम करना होना चाहिए !

Blood pressure in hindi- ब्लड प्रेशर 100% बिना दवा के इलाज योग्य !

ब्लड प्रेशर की करें निगरानी !

जीसे भी ब्लड प्रेशर की समस्या हो उसे मैं घर पर ही बीपी की मशीन रखने की सलाह देता हूं ! जिसके द्वारा वह स्वयं अपना ब्लड प्रेशर जब चाहें नाप सके ! ब्लड प्रेशर नापने की मशीन यहां .amazon. से बाय (खरीद) कर सकते हैं !

योग ध्यान और व्यायाम इसे सामान्य रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं ! शुरूआत में रक्तचाप के केवल कुछ लक्षण ही मिलते हैं परंतु समय बीतने के साथ जब ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है !

तब चक्कर आना धुंधला दिखाई देना नजरों की समस्या सिर दर्द और उल्टी नाक से खून आना आदि लक्षण मिलते हैं !

ब्लड प्रेशर की डिजिटल मशीन रखें अपने साथ !

Blood pressure in hindi- ब्लड प्रेशर 100% बिना दवा के इलाज योग्य !

ब्लड प्रेशर आमतौर पर दो संख्याओं सिस्टोलिक और डिस्टोलिक के आधार पर गिना जाता है ! जो 120 बाई 80 मानक के रूप में है ! जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है तब यह 130 या 140 बाई 80 या 90 mmhg हो जाता है जिसको सामान्य माना जाता है ! ऐसी स्थिति होने पर घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है ! दवा लेने की भी जरूरत नहीं पड़ती है !

परंतु जब यह 160 बाय 90 या 160 बाय 100 mmhg हो जाता है ! तब डॉक्टर से सलाह लेना अनिवार्य है ! अगर ब्लड पेसर 200 mmhg से ज्यादा है तब यह और खतरनाक हो जाता है ! ऐसी स्थिति में ब्रेन स्ट्रोक और लकवा होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है ! साथ ही हार्ट अटैक और किडनी खराब होने की भी संभावना बढ़ जाती है !

इस प्रकार कई जटिलताएं हो सकती हैं जो बहुत खतरनाक होती है ! ऐसी आपातकालीन स्थिति में दवाएं लेना जरूरी है परंतु इसका स्थाई समाधान खोजना भी महत्वपूर्ण होगा ! जो लोग शराब और तंबाकू का सेवन करते हैं अधिक वजन वाले हैं या तनाव से ग्रसित है !

उनमैं इसका जोखिम अत्यधिक है ! मुझे विश्वास है कि इसे 1 महीने से लेकर 3 महीने तक में ठीक किया जा सकता है ! बस आप अपना खान-पान और जीवनशैली में बदलाव करें साथ ही व्यायाम करना भी शुरू करें ! और तनाव को कम करने की कोशिश करते रहें ! पर आपके पास अगर पर्याप्त संसाधन है तो घर पर ही बीपी मशीन रखें !

जो मुश्किल से हजार रुपए में मिल जाएगी ! जिसके द्वारा आप ठीक और फिट रहने का मौका प्राप्त कर सकते हैं !

Leave a Reply