Frequent urination : बार-बार पेशाब होने के कारण और घरेलू उपचार !

Frequent urination : बार-बार पेशाब होने के कारण और घरेलू उपचार !

वैसे तो पेशाब का खुलकर होना स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा माना जाता है ! परंतु जब यह सामान्य से अधिक मात्रा में होने लगे तो यह किसी मूत्र संबंधित समस्या का संकेत है ! बार बार पेशाब (Frequent urination) होना शरीर में कफ और वात के असंतुलन के कारण भी हो सकता है ! कभी-कभी तो यह ज्यादा पानी पीने और ठंडे वातावरण में रहने की वजह से भी होता है ! इसके अलावा और कई अन्य कारण भी हैं जिनकी वजह से पेशाब अधिक मात्रा में होता है ! कभी-कभी डिहाइड्रेशन की वजह से भी गहरे पीले कलर की कम मात्रा में बार-बार पेशाब होती है ! ऐसी स्थिति में अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए ! लीवर की समस्या और तनाव की वजह से भी पेशाब अधिक मात्रा में होता है ! पेशाब का बार बार आना शुरुआती लक्षण हो सकते हैं ! लेकिन इसके बाद और भी समस्याएं होने लगती हैं !

कभी-कभी पेशाब का कलर नारंगी रंग का होता है !ऐसा तब होता है जब आप दवा का सेवन कर रहे होते हैं ! अथवा साइट्रिक एसिड युक्त पदार्थों का सेवन कर रहे होते हैं ! सामान्यत: एक व्यक्ति युवावस्था में गर्मियों में 1 से 2 लीटर पेशाब 24 घंटे में करता है ! क्योंकि गर्मियों में शरीर से पसीने के रूप में पानी और नमक की मात्रा बाहर निकल जाती है ! सर्दियों और बरसात के मौसम में शरीर से पसीना कम निकलता है ! इसलिए पेशाब की मात्रा ज्यादा होती है ! इस समस्या से बचने के लिए अपने गुप्तांगों की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए ! साथ ही शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत होने पर भी ध्यान दें ! क्योंकि तनाव की स्थिति में भी बार-बार पेशाब होती है !

बार-बार पेशाब होने के कारण : causes of frequent urination !

बार-बार पेशाब होना अपने आप में कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह अन्य बीमारियों का लक्षण मात्र है ! जो निम्नलिखित है !

डायबिटीज :

डायबिटीज में भी पेशाब बार-बार होता है यह समस्या टाइप 1 और टाइप 2 दोनों में ही होती है ! ऐसी स्थिति में शरीर से ग्लूकोज की मात्रा बार-बार पेशाब के साथ बाहर निकलने लगती है ! डायबिटीज में होने वाली बार-बार पेशाब की स्थिति में शरीर का वजन तेजी से घटता है !

मूत्राशय की सक्रियता :

मूत्राशय की सक्रियता में तेजी की वजह से भी पेशाब बार बार होता है ! यह स्थिति ज्यादा नुकसानदायक नहीं होती है !

बढ़ी हुई प्रॉस्टेट ग्रंथि :

मूत्राशय में स्थित प्रोस्टेट -prostate ग्रंथि जब बढ़ जाती है तो यह ब्लाडर पर दबाव डालती है ! तो भी पेशाब अधिक मात्रा में बार-बार होती है ! प्रोस्टेट बढ़ने की समस्या में बाथरूम जाने के बाद भी हल्का महसूस नहीं होता है! तथा पेशाब करने में भी हल्का दर्द होता है !

मानसिक कारण :

पेशाब अधिक होने के फिजिकल कारण के साथ-साथ मानसिक कारण भी महत्वपूर्ण होते हैं ! मानसिक तनाव चिंता या डर के कारण भी पेशाब बार बार होता है !

मूत्र नली में संक्रमण :

यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन, सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डिजीज, गोनोरिया, masturbation या किसी अन्य कारण से मूत्र नली में संक्रमण होने पर भी पेशाब बार बार होता है ! इन समस्याओं में पेशाब होने के साथ जलन भी होती है !

इसके अलावा किडनी इन्फेक्शन या किडनी में स्टोन होने पर भी पेशाब बार बार होता है ! साथ ही तंबाकू गुटखा शराब और कैफीन युक्त पदार्थ जैसे चाय कॉफी चॉकलेट आदि के अधिक सेवन से यह समस्या हो सकती है ! प्रेगनेंसी के दौरान भी ब्लाडर पर दबाव बनता है जिसकी वजह से बाथरूम बार-बार होता है ! इसके अलावा मूत्राशय का कैंसर होने पर भी पेशाब बार बार होता है ! साथ ही लीवर की समस्याओं में भी पेशाब बार-बार होता है जैसे हेपेटाइटिस मेलानोमा लिवर सिरोसिस इत्यादि ! पेट में कीड़े होना भी इसका एक मुख्य कारण है !

Frequent urination : बार-बार पेशाब होने के कारण और घरेलू उपचार !

बार-बार पेशाब होने पर क्या करें : in frequent urination !

संक्रमण से बचने के लिए साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें इनरवियर के रूप में सूती कपड़ों का इस्तेमाल करें ! टॉयलेट में साफ सफाई रखें ! खड़े-खड़े पानी ना पिए पानी हमेशा बैठ कर ही पिए ! एवं पेशाब करते समय या पेशाब करने के तुरंत बाद पानी ना पिए ! खाने में हरी सब्जियों को शामिल करें !

बार-बार पेशाब होने पर क्या नहीं करें : in frequent urination !

ऐसी स्थिति में शक्कर का इस्तेमाल कम से कम करें मीठी चीजों से बने पदार्थ मूत्र के रास्ते में बैक्टीरिया उत्पन्न कर सकते हैं ! साथ ही कार्बोनेटेड ड्रिंक केक कुकिज चाय काफी मिर्च मसालेदार खाना खटाई का कम से कम प्रयोग करें !

बार-बार पेशाब होने का घरेलू उपचार : frequent urination home remedy !

बार बार पेशाब होने के एलोपैथिक मे कोई पेटेंट इलाज उपलब्ध नहीं है ! इसलिए घरेलू उपचार ही सबसे अच्छा माना जाता है ! जो निम्नलिखित है

मेथी दाने !

बार-बार पेशाब होने की स्थिति में मेथी दानों को तवे पर भूंन कर इसका पाउडर बना लें इसका 10 दिन तक सेवन करने से बार बार पेशाब होने की समस्या दूर होती है ! चाहे तो मेथी पाउडर का काढ़ा बनाकर भी पी सकते हैं !

दही !

दही में मौजूद प्रोबायोटिक लैक्टिक एसिड बार-बार होने वाली पेशाब में बहुत फायदेमंद होती है ! इसलिए अपने रोजाना के खाने में दही को शामिल करें ! दही में खतरनाक बैक्टीरिया को मारने की क्षमता होती है ! साथी लीवर समस्या से भी छुटकारा मिलता है लीवर की समस्या से छुटकारा मिलने पर बार-बार पेशाब होने की समस्या भी दूर होती है !

भुना चना !

अगर आप भुना चना गुड़ के साथ खाते हैं तो बार-बार पेशाब होने की समस्या जल्द ही दूर हो जाएगी ! यहां तक कि भुना चना खाने से स्पर्म काउंट में भी बढ़ोतरी होती है !

पालक !

अपने रोज के खाने में पालक की मात्रा बढ़ाकर बार-बार होने वाली पेशाब की समस्या को ठीक किया जा सकता है ! पालक के विशेष फायदे की वजह से डायबिटीज के मरीज तक को भी इसे खाने की सलाह दी जाती है !

सेब

कुछ लोग जिन्हें रात में बार बार पेशाब करने की समस्या होती है ! ऐसे लोगों के लिए सेब का सेवन करना विशेष फायदेमंद होता है ! ऐसी स्थिति में रात के समय खाने के बाद एक से दो सेव खाने चाहिए इससे बार-बार पेशाब आने की समस्या से छुटकारा मिल जाता है ! साथ ही केला अनार आंवला का सेवन दिन में कभी भी करना चाहिए ! इसके अलावा सिंघाड़े का सेवन भी पेशाब संबंधित समस्या में किया जा सकता है !

Leave a Reply