Brain hemorrhage – ब्रेन हेमरेज के कारण लक्षण और उपचार

Brain hemorrhage – ब्रेन हेमरेज के कारण लक्षण और उपचार

ब्रेन हेमरेज क्या है brain hemorrhage

मस्तिष्क में होने वाले रक्तस्राव जो एक्सीडेंट स्ट्रोक ब्रेन ट्यूमर हाई ब्लड प्रेशर अनियमित हृदय पंप क्रिया गलत दवा का सेवन ! अथवा अन्य हेल्थ इश्यू के कारण हो सकता है जिसे ब्रेन हेमरेज (Brain hemorrhage) कहते हैं ! मस्तिष्क में होने वाले रक्त स्राव मस्तिष्क के आसपास की कोशिकाओं को डैमेज कर सकता है !

कभी-कभी यह एन्यूरिज्म (मस्तिष्क की नसों की दीवारों का कमजोर होना) के कारण भी होता है ! रक्तस्राव होने के बाद यह मस्तिष्क में थक्के के रूप में जमने लगता है ! और रक्त परिसंचरण में बाधा पहुंचाता है ! और उस विशेष क्षेत्र में ऑक्सीजन की कमी होने लगती है !

जिसके परिणामस्वरूप लकवा (Paralysis) अपंगता आदि दीर्घकालिक बीमारियों का सामना करना पड़ता है ! सिर के अंदर कहीं भी होने वाले रक्त स्राव (खोपड़ी और मस्तिष्क के बीच) को इंट्राक्रेनियल हेमोरेज के रूप में जाना जाता है !

जबकि मस्तिष्क के बीच होने वाले रक्तस्राव को सेरेब्रल हैम्रेज कहते हैं ! खासकर मस्तिष्क के बीच में होने वाला रक्त स्राव खतरनाक साबित होता है ! इसमें आजीवन अनकॉन्शसनेस तक या मृत्यु भी हो सकती है ! मस्तिष्क में रक्तस्राव उपरांत !

खून को पतला करने वाली दवा से कुछ मामलों में सफलता मिल जाती है ! बाकी के लिए ऑपरेशन ही एकमात्र उपाय बचता है ! ऑपरेशन द्वारा मस्तिष्क में रक्त के बने थक्के और मृत कोशिका (इनफारक्ट) को निकाला जाता है !

मानव मस्तिष्क भी ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए ब्लड सरकुलेशन पर निर्भर करता है ! जब मस्तिष्क में रक्त स्राव होता है ! तब उस क्षेत्र में रक्त के थक्के बनने की वजह से रक्त मार्ग अवरुद्ध हो जाता है ! और ब्लड उस खास क्षेत्र में नहीं पहुंच पाता है !

ऑक्सीजन थक्के के आसपास नहीं पहुंच पाती है ! और विशेष मानव अंग कार्य करना बंद कर देते हैं ! जो लकवा या स्ट्रोक के रूप में मानव शरीर को प्रभावित करते हैं !

brain hemorrhage- ब्रेन हेमरेज के कारण लक्षण और उपचार

ब्रेन हेमरेज के कारण causes of brain hemorrhage in Hindi

ब्रेन हेमरेज Brain hemorrhage के अनेकों कारण हो सकते हैं उनमें कुछ धमनी विषयक विकृतियां भी होती हैं ! जिनमें मस्तिष्क की बालो जैसी महीन रक्त वाहिकाएं आपस में उलझी हुई हो सकती हैं ! इसके अलावा रक्त स्राव विकार सेरेब्रल एन्यूरिज्म सिर पर चोट नशीली दवाओं के उपयोग हाई ब्लड प्रेशर अनियमित हृदय पंप क्रिया के कारण भी ब्रेन हेमरेज होता है !

मस्तिष्क रक्तस्राव जानलेवा हो सकता है यह रक्तस्राव तब होता है जब मस्तिष्क की धमनी फट जाती है ! मस्तिष्क में रक्तस्राव उसके आसपास के क्षेत्र उसके आकार एवं सूजन से निर्धारित होता है ! कुछ केशो में मनुष्य को स्थाई छति के साथ छोड़ दिया जा सकता है ! जबकि अन्य में यह पूरी तरह से ठीक हो जाता है ! आइए अब लिस्ट के अनुसार कुछ मुख्य कारणों को समझते हैं !

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • सिर पर चोट
  • मानसिक साक
  • धमनियों में कोलेस्ट्रोल का जमना
  • एन्यूरिज्म
  • धमनी में एमीलाइड़ प्रोटीन का निर्माण
  • मस्तिष्क धमनियों का आपस में उलझना
  • अत्यधिक एंटीकोगुलेंट दवा का सेवन
  • ब्रेन ट्यूमर
  • धूम्रपान ड्रग्स और शराब का सेवन
  • प्रसव आक्षेप
  • रक्त वाहिका दीवारों में कोलेजन का गठन
  • अनियमित हिर्दय पंप क्रिया
  • रक्त विकार

ब्रेन हेमरेज के लक्षण symptoms of brain hemorrhage in Hindi

ब्रेन हेमरेज brain hemorrhage के मरीज को देखकर आसानी से उसके लक्षणों को समझा जा सकता है ! मस्तिष्क के बाएं भाग में अगर ब्रेन हेमरेज या रक्त का थक्का बनता है ! तो शरीर के दाएं हिस्से के अंगों को प्रभावित करता है ! उसी प्रकार मस्तिष्क के दाएं हिस्से में हेमरेज या रक्त का थक्का बनने पर शरीर के बाएं हिस्से को प्रभावित करता है !

ब्रेन हेमरेज brain hemorrhage के लक्षण उस क्षेत्र पर निर्भर करते हैं जहां पर रक्षा हुआ होता है ! ब्रेन हेमरेज के लक्षणों को पूर्वाभास के साथ नहीं जोड़ा जा सकता क्योंकि यह अचानक होता है ! आइए मस्तिष्क रक्तस्राव के कुछ लक्षणों को निम्नानुसार समझते हैं !

  • सुन्नता, चेहरे हाथ पैरों में लकवा
  • चलने फिरने पर बैलेंस की कमी
  • अचानक झुंझुनी
  • अचानक तेज सिर दर्द
  • मिचली उल्टी
  • सिर चकराना
  • भ्रम की स्थिति उत्पन्न होना
  • निगलने में कठिनाई
  • देखने में कठिनाई
  • प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता
  • एक ही हाथ के अंगूठे से उसी हाथ की उंगलियों को खुजलाना
  • बोलने में कठिनाई
  • समझने में कठिनाई
  • अनकॉन्शसनेस
  • सांस लेने में तकलीफ
  • ऊर्जा की कमी या सुस्ती

ब्रेन हेमरेज का निदान कैसे करें how to diagnose brain hemorrhage in Hindi

अगर किसी को रक्तस्राव brain hemorrhage के लक्षण आ रहे हैं तो डॉक्टर एक न्यूरोलॉजिकल परीक्षा करने के लिए सीटी स्कैन की सलाह दे सकते हैं ! इस प्रकार के परीक्षण में मस्तिष्क की एक छवि बनती है जो रक्त स्राव की पुष्टि कर सकता है ! जिसके आधार पर आपके डॉक्टर सिर में हुए आघात या अन्य सबूतों के लिए आकलन करते हैं ! इसके अलावा एम आर आई स्कैन भी की जाती है जिसके आधार पर डॉक्टर रक्त स्राव के मुख्य कारणों का पता लगाते हैं !

साथ ही एंजियोग्राम भी किया जा सकता है जो रक्त प्रवाह के भीतर की तस्वीरें लेने में प्रयुक्त होता है ! यह रक्त वाहिनीओं में किसी भी प्रकार की असमानता को दर्शाता है ! इसके अलावा कुछ अन्य रक्त परीक्षण भी करने जरूरी होते हैं जो रक्त के थक्के की विशेषता की पहचान करते हैं !

इन्हें भी पढ़ें..

ब्रेन हेमरेज से कैसे बचें how to prevent from brain haemorrhage in Hindi

ब्रेन हेमरेज brain hemorrhage से बचने के लिए एक स्वास्थ्य जीवन शैली अपनाया जा सकता है ! जिनमें खानपान में बदलाव से लेकर योग व्यायाम तक शामिल हैं ! धूम्रपान एवं शराब के सेवन से बचें दिल की बीमारियों और हाई ब्लड प्रेशर का तुरंत इलाज कराना चाहिए ! साथ ही मधुमेह के समय इंसुलिन के स्तर को सामान्य रखना बेहद जरूरी होता है ! वजन न बढ़ने दें उन खाद्य पदार्थों से दूरी बनाए जिन से कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की समस्याएं होती हैं !

Brain hemorrhage-  ब्रेन हेमरेज के कारण लक्षण और उपचार

ब्रेन हेमरेज के प्रकार types of brain haemorrhage

ब्रेन हेमरेज brain hemorrhage मुख्यतः मस्तिष्क के चार भागों में होता है जिसे ब्रेन हेमरेज के चार प्रकार के रूप में जाना जाता है!

इंटरासेरेब्रल हैम्रेज / मस्तिष्क में होने वाले रक्त स्राव में यह सबसे कठिन अवस्था होती है ! जिसमें मस्तिष्क के अंदर रक्त स्राव होता है !

एपिडीयूरल हेमरेज / खोपड़ी और मस्तिष्क के बीच होने वाले रक्त स्राव को एपीड्यूरल हेमरेज कहते हैं !

सबआकनाइङ हेमरेज / इस प्रकार का रक्त स्राव मस्तिष्क और उसे सुरक्षित रखने वाली झिल्ली के बीच होता है !

सबड्यूरल हेमरेज / मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के आसपास के क्षेत्र में होने वाले रक्तस्राव को सबड्यूरल हैम्रेज के नाम से जाना जाता है !

ब्रेन हेमरेज का इलाज कैसे किया जाता है

मस्तिष्क रक्तस्राव brain hemorrhage के लक्षणों की शुरुआत होते ही पहले 1 घंटे के भीतर उपचार कराना एक बेहतर परिणाम दे सकता है ! डॉक्टर बेहद सावधानी से ब्लड थिनर का इस्तेमाल कर सकते हैं जो मस्तिष्क में बने रक्त के थक्के को कम करता है कुछ परसेंट में प्रभावी सिद्ध होता है !

बाकी अन्य में पक्के के दबाव को कम करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है ! सर्जरी करके रक्त के थक्के को बाहर निकाला जाता है यह एक बेहद कठिन और महंगी प्रक्रिया है ! जिसमें कुछ समय के बाद मरीज बिल्कुल सामान्य जीवन जी सकता है !

This Post Has One Comment

Leave a Reply