RBS test in Hindi रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है क्यों किया जाता है और आरबीएस नार्मल वैल्यू

RBS test in Hindi रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है क्यों किया जाता है और आरबीएस की नार्मल वैल्यू

बिना किसी उपवास की स्थिति के आपके रक्त में ग्लूकोज (शर्करा) की मात्रा को मापने के लिए ! रक्त शर्करा परीक्षण (RBS test in Hindi) का उपयोग किया जाता है ! इस परीक्षण में, रक्त एक दिन में किसी भी समय लिया जाता है ! डायबिटीज का पता लगाने के लिए यह सबसे आम परीक्षण है !

हमारे शरीर की सभी कोशिकाओं के लिए मुख्य रूप से मस्तिष्क की कोशिकाओं के लिए ऊर्जा का मुख्य स्रोत ग्लूकोज से आता है ! ग्लूकोज कार्बोहाइड्रेट के लिए बिल्डिंग ब्लॉक के रूप में कार्य करता है ! कार्बोहाइड्रेट आमतौर पर चावल, अनाज, ब्रेड, फल या पास्ता में पाए जाते हैं !

कार्बोहाइड्रेट शरीर में पहुंचते ही तुरंत ग्लूकोज में परिवर्तित हो जाते हैं ! और ब्लड में इंसुलिन की कमी की वजह से रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है। इस स्थिति को मधुमेह कहते हैं !

यदि आपको पेशाब करने की इच्छा में वृद्धि, धुंधली दृष्टि, हाल ही में वजन घटना, भ्रम, व्यवहार में बदलाव, चेतना की हानि आदि जैसे लक्षणों का अनुभव करते हैं ! तो आपको इस परीक्षण की सिफारिश की जा सकती है ! वैसे रक्त शर्करा का स्तर और मधुमेह में हमेशा सभी लक्षण नही भी हो सकते है !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्या है What is RBS test in Hindi

रक्त शर्करा के बढे हुए स्तर को मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है ! जो किसी व्यक्ति के रक्त में शर्करा की मात्रा है ! रक्त शर्करा या ग्लूकोज शरीर की एक महत्वपूर्ण इकाई है ! और यह ऊर्जा के प्राथमिक स्रोत के रूप में कार्य करता है ! यह विभिन्न ऊतकों और सबसे महत्वपूर्ण मस्तिष्क के सामान्य कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है !

दिन के पहले भोजन से पहले सुबह ग्लूकोज का स्तर कम होता है ! और भोजन करने के बाद बढ़ जाता है ! रक्त शर्करा के लगातार उच्च स्तर को हाइपरग्लाइसीमिया के रूप में जाना जाता है ! इस बढे हुए रक्त शर्करा के स्तर का पता लगाने के लिए Rbs Test in Hindi टेस्ट किया जाता है !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट की कीमत RBS test price in Hindi

ब्लड शुगर या ब्लड ग्लूकोज टेस्ट की कीमतें एक पैथोलॉजिकल लैब से दूसरे में भिन्न होती हैं ! हालांकि, आरबीएस परीक्षण की लागत आमतौर पर बहुत अधिक नहीं होती है ! और आसानी से अफोर्ड की जा सकती है ! घर पर की जाने वाली आरबीएस जांच की लागत भी पारंपरिक पैथोलॉजिकल लैब से अलग है ! यह परीक्षण आमतौर पर 70-100 रुपये की कीमत पर उपलब्ध है !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्यों किया जाता है

रक्त ग्लूकोज परीक्षण मधुमेह के लोगों को रक्त शर्करा के स्तर की सावधानीपूर्वक निगरानी करने में मदद करता है ! ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे सामान्य सीमा के भीतर हैं या नहीं ! यह परीक्षण आमतौर पर तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति की उम्र 45 वर्ष से अधिक हो !

या उसमें मधुमेह के जोखिम लक्षण हों ! मधुमेह के लोग अक्सर रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी के लिए दिन में कई बार स्वयं जांच के लिए इस परीक्षण RBS test in Hindi का उपयोग करते हैं !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट का दवाओं के साथ इंटरएक्शन RBS test interaction in Hindi

परीक्षण से पहले अपने चिकित्सक को अपनी पुरानी बीमारी या दवा के बारे में सूचित करें ! कुछ दवाएं आपके रक्त शर्करा के स्तर को बदल सकती हैं ! वे दवाएँ निम्नलिखित हैं जैसे !

गर्भनिरोधक गोलियां, मूत्रवर्धक जैसे फ़्यूरोसेमाइड, टॉरसेमाइड, आदि ! यदि आप हार्मोन कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स थेरेपी पर हैं ! जैसे प्रेडनिसोन, डेक्सामेथासोन, आदि, साथ ही एस्पिरिन, फ़िनाइटोइन, लिथियम, एपिनेफ्रिन, सल्फोनील्यूरिया ! ग्लिमेपाइराइड, ग्लिपिज़ाइड, ट्राईसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट जैसे एमिट्रिप्टिलाइन ! आदि दवाएं rbs टेस्ट परिणाम को प्रभावित कर सकती हैं !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट की नार्मल वैल्यू RBS test normal value in Hindi

लिंग आयु वर्ग वैल्यू
पुरुष All age groups79 – 140 mg/dl
महिला All age groups79 – 140 mg/dl

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट करने के तरीके RBS test in Hindi

फास्टिंग ब्लड शुगर – इस तरह का टेस्ट खाली पेट किया जाता है !
आरबीएस- यह परीक्षण RBS test in Hindi किसी भी समय किया जाता है !
पोस्ट प्रैन्डियल ब्लड टेस्ट – इस प्रकार का टेस्ट खाना खाने के बाद किया जाता है !
पहला और तीसरा परीक्षण करके सटीक रक्त शर्करा का स्तर प्राप्त किया जा सकता है !

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट क्यों आवश्यक है Why RBS test necessary in Hindi

ग्लूकोज परीक्षण द्वारा अस्थायी या दीर्घकालिक हाइपरग्लेसेमिया या हाइपोग्लाइसीमिया का पता लगाया जाता हैं ! ये ऐसी स्थितियां हैं जिनमें स्पष्ट लक्षण नहीं हो सकते हैं ! और लंबी अवधि में अंगों को नुकसान पहुंच सकते हैं ! जिस व्यक्ति का परीक्षण किया जा रहा है, उसे शायद किसी प्रकार की चिकित्सा स्थिति है ! जैसे कि टाइप 2 मधुमेह, जो इन्सुलिन असंवेदनशीलता के कारण होता है ! इस प्रकार अक्सर ऐसी स्थितियों का निदान करने के लिए ग्लूकोज परीक्षण का उपयोग किया जाता है !

200mg/dl या उससे अधिक की यादृच्छिक रक्त शर्करा सीमा मधुमेह मेलेटस की उपस्थिति का एक स्पष्ट संकेत है ! मधुमेह के निदान के साथ, यादृच्छिक रक्त शर्करा परीक्षण उपचार के दौरान और बाद में निगरानी के माध्यम से रोग के समय पर उपचार में मदद करता है ! यदि व्यक्ति निम्नलिखित लक्षणों की शिकायत करता है तो हमारे डॉक्टर RBS test in Hindi आरबीएस परीक्षण लिख सकते हैं !

  • अनपेक्षित वजन घटाना
  • धुंधली दृष्टि
  • अधिक बार पेशाब करना
  • अत्यधिक प्यास लगना
  • पर्याप्त खाने के बावजूद बहुत भूख लगना
  • अस्पष्टीकृत वजन घटाना
  • अत्यधिक थकान
  • चोट या फोड़े के निशान की धीमी चिकित्सा

रैंडम ब्लड शुगर टेस्ट कैसे कार्य करता है How work RBS test in Hindi

यदि परिणाम इंगित करता है कि किसी व्यक्ति के पास अपेक्षित ग्लूकोज स्तर सामान्य से अधिक है ! तो डॉक्टर आमतौर पर निदान की पुष्टि करने के लिए निम्नलिखित सहित एक अनुवर्ती परीक्षण को आदेशित कर सकता है !

खाली पेट ग्लूकोज परीक्षण: यह एक परीक्षण है जो रक्त शर्करा के स्तर को मापता है ! यह तब किया जाता है ! जब कोई व्यक्ति 8 घंटे तक कुछ भी खाया या पीया नहीं रहता है ! हमारे डॉक्टर आमतौर पर यह परीक्षण सुबह नाश्ते से पहले करते हैं !
ओरल ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (OGTT): मधुमेह वाले लोग कभी-कभी उपवास या यादृच्छिक ग्लूकोज परीक्षणों में सामान्य परिणाम प्रदर्शित कर सकते हैं ! फिर भी उन्हें मधुमेह होता है ! हमारे डॉक्टरों को अगर संदेह है कि किसी व्यक्ति को मधुमेह है ! तो वे ओजीटीटी की सिफारिश कर सकते हैं ! इस परीक्षण के लिए एक व्यक्ति को 8 घंटे तक न खाने-पीने की भी आवश्यकता होती है और पहला रक्त नमूना देना होता है ! इसके बाद व्यक्ति ग्लूकोज युक्त तरल पीता है ! और दूसरा रक्त सैंपल देना होता है !

रैंडम ब्लड शुगर परीक्षण प्रक्रिया

यह यादृच्छिक ग्लूकोज परीक्षण एक त्वरित परीक्षण है ! जिसे डॉक्टर या नर्स अपने कार्यालय या क्लिनिक में अल्प सूचना पर कर सकते हैं ! रोगी को पहले से उपवास करने की आवश्यकता नहीं है !

RBS test in Hindi परीक्षण के लिए रक्त के एक छोटे से नमूने की आवश्यकता होती है ! जिसे डॉक्टर या नर्स सुई का उपयोग करके अक्सर उंगली से सैंपल लेते हैं !

प्रेगनेंसी में रैंडम ब्लड टेस्ट कैसे किया जाता है RBS test in pregnancy in Hindi

अगर आप प्रेग्नेंट हैं तो आपको ऐसा तरल पीने के लिए कहा जाएगा जिसमें ग्लूकोज (75 ग्राम) हो ! तरल पीने से पहले आपका खून निकाला जाएगा ! और तरल पीने के बाद हर 60 मिनट में फिर से 2 बार ब्लड सैंपल लिया जायेगा ! हर बार, आपके रक्त शर्करा के स्तर की जाँच की जाएगी ! इस परीक्षण के लिए कम से कम 2 घंटे का समय लग सकता है !

रैंडम ब्लड सुगर टेस्ट के नुकसान RBS test side effect in Hindi

रैंडम ब्लड ग्लूकोस टेस्ट RBS test in Hindi की प्रक्रिया के दुष्प्रभाव बहुत कम होते हैं ! यह टेस्ट होने पर व्यक्ति को हल्के-फुल्के दुष्प्रभाव हो सकते हैं जैसे !

  • सिर दर्द
  • सैंपल वाले हिस्से में सूजन होना
  • शरीर में दर्द होना
  • चक्कर आना