Home remedies for Ringworm दाद, रिंगवर्म होने के कारण और घरेलू उपचार

You are currently viewing Home remedies for Ringworm दाद, रिंगवर्म होने के कारण और घरेलू उपचार

दाद एक त्वचा का संक्रमण है जो कवक (Fungus infection) के कारण होता है ! दाद आपके शरीर की त्वचा को प्रभावित कर सकता है ! सिर पर होने वाले इन्फेक्शन को टिनिया कॉर्पोरिस ! कमर और पीठ के आस पास होने वाले इन्फेक्शन को टिनिआ कैपिटिस ! और पैरों पर होने वाले इन्फेक्शन को टिनिआ क्रूसिस के नाम से जाना जाता है ! या पैर पर होने वाले इन्फेक्शन को (टिनिया पेडिस, जिसे एथलीट फुट भी कहा जाता है ! अक्सर, आपकी त्वचा पर एक बार में दाद के कई पैच होते हैं ! Home remedies for ringworm in Hindi आज का यह विषय इसी समस्या पर आधारित दाद के 10 प्राकृतिक समाधान है !

टिनिया वर्सीकोलर संक्रमण किसी को भी हो सकता है, चाहे वह किसी उम्र या लिंग का हो ! यह संक्रमण आमतौर पर जांघों, कंधे और पीठ पर हुआ करता है ! यह चर्म रोगों का एक प्रमुख प्रकार है ! मामूली मामलों में टिनिआ का इलाज किसी लिए गए सरल घरेलू उपचार से किया जा सकता है ! हालांकि पुनरावृत्ति को रोकने के लिए बिना देरी के संक्रमण का दवा मूल कारण उपचार प्राप्त करना आवश्यक है !

दाद क्या है what IS home remedies for ringworm

दाद एक बहुत ही आम कवक संक्रमण है ! जो किसी बैक्टीरिया के कारण नहीं होता है ! बल्कि यह कवक टीनिया के कारण होता है जो अत्यधिक संक्रामक है ! किसी को भी दाद हो सकता है ! हालांकि कुछ लोग दूसरों की तुलना में अधिक संवेदनशील होते हैं ! जैसे कि कमजोर प्रतिरक्षा और छोटे बच्चे ! दाद के लक्षणों में त्वचा या नाखूनों पर लाल, पपड़ीदार, गोलाकार पैच शामिल हैं ! यह आमतौर पर खोपड़ी, गर्दन और बाहों को प्रभावित करता है !

लेकिन यह शरीर के किसी भी हिस्से पर दिखाई दे सकता है ! जॉक खुजली और एथलीट फुट दाद के सामान्य रूप हैं ! जबकि इस फंगल संक्रमण के इलाज के लिए कई दवाएं उपलब्ध हैं ! वैसे प्राकृतिक उपचार home remedies for ringworm in Hindi भी प्रभावी हो सकते हैं !

दाद होने के कारण causes of ringworm

गर्म और नम जलवायु, बहुत अधिक पसीना या गीले कपड़े पहनने से फंगल संक्रमण का विकास हो सकता है। अंतर्निहित रोग जैसे मधुमेह, एचआईवी, कैंसर आदि के कारण कमजोर प्रतिरक्षा भी फंगल संक्रमण का कारण बन सकता है। अशुद्ध वातावरण में रहना और व्यक्तिगत स्वच्छता को बनाए नहीं रखने से फंगल संक्रमण हो सकता है। गंदे कपड़े जैसे अशुद्ध मोजे और इनरवियर पहनने से फंगल इंफेक्शन हो सकता है। बहुत तंग होने वाले कपड़े पहनने से पसीना आ सकता है, जिसके परिणामस्वरूप फंगल संक्रमण का प्रादुर्भाव हो सकता है। मोटापे के कारण फंगल संक्रमण हो सकता है। तनाव हमारी प्रतिरक्षा को कमजोर कर सकता है जिससे फंगल संक्रमण हो सकता है। गर्भावस्था में हार्मोनल परिवर्तन से अंदरूनी अंगों में संक्रमण हो सकता है ! जो दाद का कारण बन सकता है !

दाद के घरेलू उपचार Home remedies for ringworm

दाद के संक्रमण को घरेलू उपचार से भी पूरी तरह ठीक किया जा सकता है ! दाद के 10 प्राकृतिक उपचार निम्नलिखित हैं ! home remedies for ringworm in Hindi

लहसुन garlic

लहसुन का उपयोग अक्सर संक्रमण के इलाज के लिए किया जाता है ! हालांकि ऐसे कोई अध्ययन नहीं हैं ! जो दाद पर लहसुन के प्रभाव की जांच करते हैं ! फिर भी यह कैंडिडा, टोरुलोप्सिस, ट्राइकोफाइटन और क्रिप्टोकोकस ! सहित अन्य प्रकार के कवक के लिए प्रभावी साबित हुआ है ! उपचार के रूप में लहसुन का उपयोग करने के लिए ! लहसुन को कुछ जैतून या नारियल के तेल के साथ मिश्रित करके कुचल कर लहसुन और लौंग का पेस्ट बनाएं ! प्रभावित त्वचा पर पेस्ट की एक पतली परत अप्लाई करें ! Rinsing से पहले 2 घंटे के लिए दांद की जगह पर रहने दें ! लक्षणों के कम होने तक रोजाना दो बार दोहराएं ! अगर लहसुन का पेस्ट चुभने, सूजन या लालिमा का कारण बनता है ! तो टेस्ट की मामूली हल्की परत लगाएं !

एलोवेरा aloe vera

एलोवेरा में कई एंटीसेप्टिक एजेंट होते हैं ! जो अनुसंधान के अनुसार, ऐंटिफंगल, जीवाणुरोधी और एंटीवायरल गतिविधियों मे लाभ प्रदान करते हैं ! दैनिक रूप से तीन या चार बार दाद के पैच पर एलोवेरा के पौधे से जेल लगाएं ! जेल में शीतलन गुण भी होते हैं ! इसलिए यह खुजली और सूजन वाली त्वचा को शांत भी कर सकता है !

सरसों तेल mustard oil

सरसों तेल दाद के उपचार के लिए बेहतर साबित हो सकता है ! सरसों तेल में एंटीफंगल्स गुण बहुतायत मात्रा में विद्यमान होते हैं ! जो दाद को जड़ से ठीक कर सकते हैं ! यह मेरे द्वारा प्रयोग के तौर पर उपयोग की गई दाद की औषधि है ! तेल शुद्ध सरसों का होना चाहिए जिसके द्वारा एक हफ्ते में दाद पूरी तरह से ठीक होने लगता है ! इसे दिन भर में 3 बार दाद के स्थान पर अप्लाई किया जा सकता है !

नारियल तेल coconut oil

नारियल तेल में पाए जाने वाले कुछ फैटी एसिड ! फंगस कोशिका झिल्ली को नुकसान पहुंचाकर फंगल कोशिकाओं को मार सकते हैं ! कुछ शोध बताते हैं कि हल्के से मध्यम त्वचा संक्रमण वाले लोगों के लिए नारियल तेल एक प्रभावी उपाय हो सकता है ! प्रति दिन तीन बार त्वचा पर तरल नारियल तेल लगाकर दाद के इलाज के लिए इसका उपयोग करें ! इसके अलावा मॉइस्चराइजिंग लोशन के रूप में नारियल तेल का उपयोग कर सकते हैं ! जो भविष्य के दाद के संक्रमण को रोकने के लिए एक प्रभावी तरीका हो सकता है !

अजवाइन का तेल oregano oil

अजवायन की पत्ती का तेल जो जंगली अजवायन (ओर्गानम वल्गारे) से बनाया जाता है ! इसमें दो तरह के एंटीफंगल होते हैं जिन्हें थायमोल तथा कारवाक्रोल के नाम से जाना जाता है ! कुछ शोधों से पता चला है कि अजवायन का तेल कवक कैंडिडा एल्बीकैंस के विकास को रोकने में सक्षम है ! साधारण रूप से एक संदर्भित तेल के साथ अजवायन की पत्ती को पीसकर उपयोग करें ! प्रभावित क्षेत्र पर रोजाना तीन बार तक अप्लाई करें ! ध्यान दें कि बाजार में अजवायन के तेल के बहुमत में उपलब्ध होते हैं ! आम अजवायन की पत्ती के बजाय आम अजवायन तेल (ओर्गानम मार्जोरम) बेहतर होता है !

अदरक Ginger

अदरक में मौजूद जिंजेरोल में शक्तिशाली एंटीफंगल गुण होते हैं। अदरक की चाय के रूप में हमारे आहार में अदरक को शामिल करने और अदरक का रस प्रभावित जगह पर लगाने से कैंडिडा जैसे फंगल संक्रमण को रोकने और इलाज में प्रभावी रूप से मदद मिलती है !

नीम की पत्ती neem leaves

नीम के पत्तों में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं ! और ये त्वचा के लिए बहुत अच्छे माने जाते हैं। संक्रमित क्षेत्र को नीम के पानी से धोकर फंगल संक्रमण का इलाज करने में मदद मिलती है। नीम का पानी बनाने के लिए, नीम के पत्तों को 2 से 3 मिनट के लिए पानी में उबालें और प्रयोग में लाएं !

टी ट्री आयल tea tree oil

चाय के पेड़ का तेल स्वाभाविक रूप से ऐंटिफंगल और जीवाणुरोधी है। इसे नारियल के तेल या जैतून के तेल जैसे किसी भी तेल के साथ मिलाएं और संक्रमित क्षेत्र पर दिन में तीन से चार बार से लगायें। यह फंगल संक्रमण के इलाज के लिए सबसे प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक है !

हाइड्रोजन पराक्साइड hydrogen peroxide, h202

हाइड्रोजन पेरोक्साइड एथलेट्स फुट को ठीक करने में मदद करता है। पानी और हाइड्रोजन पेरोक्साइड के बराबर भागों का उपयोग करके बनाए गए घोल में पैरों को भिगोने से एथलीटों के पैर में फंगस का संक्रमण ठीक होता है।

हल्दी turmeric

हल्दी एक शक्तिशाली रोगाणुरोधी और एंटीबैक्टीरियल मसाला है। थोड़े पानी के साथ मिलाएं और संक्रमित क्षेत्र पर लागू करें। अथवा शुद्ध सरसों के तेल में हल्दी का पेस्ट बनाकर प्रभावित स्थान पर लेपन करें ! शरीर के आंतरिक वातावरण में लाभ प्राप्त करने के लिए हल्दी की चाय पी सकते हैं।

दाद की ओवर द काउंटर दवाएं OTC

दाद के लिए सामयिक ऐंटिफंगल दवाओं को लागू करें ! और इसे कम से कम दो सप्ताह के लिए रोजाना दो बार दाद वाली स्थान और उसके आसपास के क्षेत्रों पर अप्लाई करें ! संक्रमित क्षेत्र को साफ और सूखा रखें। दवा की दुकान पर उपलब्ध ओवर-द-काउंटर दवाएं आसानी से मिल जाती हैं इनमें शामिल हैं !

  • माईकॉनाजोल 2% (Monistat-Derm, Lotrimin AF Powder, Lotrimin AF Powder Spray, Lotrimin AF Liquid Spray, and Micatin)
  • क्लोट्रिमाजोल 1% (Lotrimin AF Cream and Mycelex)
  • बुटेनाफाइन 1% (Lotrimin Ultra, and Mentax)
  • टरबीनाफाइन 1% (Lamisil AT)
  • लोबेट GN क्रीम इत्यादि
क्या दाद संक्रामक है is ringworm contagious ?

दाद बहुत संक्रामक है और यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है, साथ ही प्रभावित व्यक्ति द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले कपड़ों से या घरेलू पालतू जानवरों से भी हो सकता है। दाद को फैलने से रोकने के लिए कपड़ों और शरीर की साफ-सफाई का ध्यान रखना चाहिए ! home remedies for ringworm in Hindi