Anulom vilom ke fayade अनुलोम विलोम के फायदे

Anulom vilom ke fayade अनुलोम विलोम के फायदे

अनुलोम विलोम क्या है: अनुलोम विलोम योग अभ्यास का एक विशिष्ट प्रकार है ! जो स्वास प्रश्वास को नियंत्रित करता है ! इसमें साँस लेते समय एक नथुने को बंद करना होता है ! फिर साँस छोड़ते समय दूसरे नथुने को बंद करना होता है ! फिर इसी प्रक्रिया को बार-बार दोहराया जाता है ! इस श्वास प्रश्वास प्रक्रिया के कई शारीरिक और मनोवैज्ञानिक लाभ हैं ! जिसमें तनाव में कमी और श्वास और परिसंचरण में सुधार शामिल हैं ! यह इस्नोफीलिया, दमा और सर्दी जुखाम के लिए विशेष लाभप्रद है ! साथ ही तनाव, ब्लड प्रेशर और हृदय रोग के लिए Anulom vilom ke fayade बेहद महत्वपूर्ण हैं !

इनमें से कुछ दावों का समर्थन करने वाले वैज्ञानिक प्रमाण भी हैं ! अधिकाँश लोग सुरक्षित और बिना साइड इफ़ेक्ट के अनुलोम विलोम सांस लेने का अभ्यास कर सकते हैं !

अनुलोम विलोम के फायदे anulom vilom ke fayade

जैसा कि आप इसके द्वारा अपनी श्वास पर अधिक जागरूकता और नियंत्रण प्राप्त कर सकते हैं ! साथ ही आप महसूस कर सकते हैं कि इसका तत्काल प्रभाव मिलना शुरू हो जाता है। सुबह में सांस लेने का अभ्यास करना आपके दिन को एक बेहतर जगह से शुरू करने में मदद कर सकता है। इसके कई संभावित लाभ हैं। कुछ दावे शोध द्वारा समर्थित हैं, लेकिन कुछ विशिष्ट दावों का पूरी तरह से अध्ययन नहीं किया गया है। इस बात के प्रमाण हैं कि वैकल्पिक नथुने से सांस लेने से आपके मस्तिष्क, साथ ही आपके श्वसन और हृदय प्रणाली को लाभ हो सकता है। यह तनाव को कम करने के लिए भी जाना जाता है। ये ऐसे परिवर्तन हैं जो आपके स्वास्थ्य और कल्याण के हर पहलू को प्रभावित कर सकते हैं ! Anulom vilom ke fayade निम्नलिखित हैं !

मस्तिष्क के लिए

एक शोध के अंतर्गत 96 मेडिकल छात्रों को दो समूहों में विभाजित किया गया। एक समूह ने 6 सप्ताह तक भस्त्रिका और दूसरे समूह ने अनुलोम विलोम प्राणायाम किया। दोनों समूहों ने सामान्य स्वास्थ्य में सुधार पाया। लेकिन केवल प्राणायाम समूह ने अनुभूति और तनाव पर महत्वपूर्ण सुधार दिखाया। 2018 की यह समीक्षा बताती है कि विभिन्न प्रकार के वैकल्पिक सांस लेने से लोगों में न्यूरोकेनगेटिव, साइकोफिजियोलॉजिकल, बायोकेमिकल और चयापचय संबंधीत सुधार होते हैं !

ह्रदय के लिए anulom vilom ke fayade

2011 और 2013 में हुए अध्ययनों में पाया गया कि वैकल्पिक नाक की सांस (अनुलोम विलोम) करने से हृदय पर सकारात्मक प्रभाव (anulom vilom ke fayade) हुए ! जिससे रक्तचाप और हृदय गति सामान्य हो गई। अनुलोम विलोम करने से हाई ब्लड प्रेशर और हृदय रोगों से बचा जा सकता है !

सांस रोगों के लिए

एक अध्ययन के अनुसार, योगिक साँस लेने के तरीके फेफड़ों के कार्य और स्थिरता में सुधार कर सकते हैं !इस शोध में प्रतिस्पर्धी तैराकों को शामिल किया गया था ! जो वैकल्पिक रूप से नाक की श्वास और दो अन्य श्वास प्रथाओं का उपयोग करते थे ! प्रतिभागियों ने 30 मिनट के लिए सप्ताह में 5 दिन पूरे एक महीने के लिए श्वास अभ्यास किया ! इस 2019 समीक्षा लेख में पाया गया कि योगिक श्वास फेफड़े के कार्य को बढ़ाने का एक प्रभावी तरीका है। अन्य शोध के स्रोत से पता चलता है कि एक दिन में 30 मिनट के लिए साँस अभ्यास करने से उल्टी होने से साइनस में सूजन (राइनोसिनिटिस) में सुधार हो सकता है। यह स्थिति आपकी नाक और साइनस से बलगम को बाहर निकालने के लिए महत्वपूर्ण है !

आंखों के लिए anulom vilom ke fayade

आपने सुना होगा कि अनुलोम विलोम सांस लेने से आँखों की रोशनी में सुधार हो सकता है ! लेकिन शोध की उपलब्धता बहुत ही कम है ! हालांकि यह ज्ञात है कि नेत्र स्वास्थ्य ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति पर निर्भर करता है। वैकल्पिक नथुने की सांस लेने से श्वसन और हृदय स्वास्थ्य में सुधार होता है ! इसलिए यह आपकी आंखों के लिए भी कुछ लाभ प्रदान कर सकता है !

त्वचा के लिए

कई दावे हैं कि अनुलोम विलोम त्वचा के लिए अच्छा है। त्वचा शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, और यह तनाव, साथ ही श्वसन और हृदय स्वास्थ्य से प्रभावित हो सकता है। हालांकि इस विशिष्ट दावे पर शोध की कमी है ! फिर भी यह संभव है कि आपकी त्वचा अनुलोम विलोम के व्यायाम से ग्लो प्राप्त करेगी !

पाचन के लिए

विनियमित श्वास हमें पेट के संक्रमण, कब्ज और अन्य बीमारियों से बचाता है। यह पाचन तंत्र के कामकाज को मजबूत करता है ! और अतिरिक्त यह वजन घटाने और मोटापे के विकारों में भी मदद कर सकता है। अनुलोम विलोम न केवल पाचन में सुधार करता है बल्कि सकारात्मक ऊर्जा को भी बढ़ाता है !

साइनस के लिए

लगातार साँस लेने से नासिका की रुकावट दूर होती है ! और शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति का सुचारू प्रवाह सुनिश्चित होता है ! साइनस और खर्राटे जैसी समस्या ठीक हो जाती है ! और नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है और सामान्य सर्दी और खांसी जैसे वायरस से लड़ने में मदद करता है !

फेफड़ों के लिए anulom vilom ke fayade

अनुलोम विलोम फेफड़ों की सहनशक्ति में तेजी से सुधार करता है ! अस्थमा और अन्य एलर्जी जैसे श्वसन संबंधी विकारों का इलाज करता है ! यह ब्रोंकाइटिस या सीने में संक्रमण जैसी समस्याओं का मुकाबला करने में मदद करता है ! समग्र श्वास पैटर्न मे सुधार के साथ साथ, व्यक्ति के अंदर सकारात्मक ऊर्जा लाता है ! और नकारात्मक ऊर्जा बाहर करने में मदद करता है !

ब्लड प्रेशर के लिए

शरीर के अंगों और एक स्थिर दिमाग को बनाए रखने के लिए रक्त परिसंचरण महत्वपूर्ण है ! प्राणायाम रक्तचाप को सामान्य बनाए रखता है ! और पूरे शरीर में नसों को शुद्ध करता है ! यह बीपी से जुड़ी बीमारियों, जैसे हार्ट ब्लॉकेज और डायबिटीज को भी ठीक कर सकता है !

Video credit goes to- Swami Ramdev.
अनुलोम विलोम प्राणायाम करने की विधि anulom vilom steps

अनुलोम विलोम को खाली पेट अथवा खाने के 4 घंटे बाद किया जा सकता है ! इसके लिए एक शांत, आरामदायक वातावरण होना चाहिए !

  • ध्यान मुद्रा में बैठेकर अपनी रीढ़ और गर्दन को सीधा रखें और अपनी आँखें बंद करें !
  • इस क्षण तनाव को दूर रखें और अपने मन को साफ़ करें !
  • अपने बाहरी कलाई को अपने घुटनों पर आराम से रखें !
  • अपने दाहिने हाथ का उपयोग करके अपने अंगूठे को अपनी दाईं नासिका पर ! और अपनी अनामिका को बाईं नासिका पर रखें !
  • अपने बाएं नथुने के माध्यम से गहरी सांस लेते हुए ! सांस को अंदर ले जब तक कि आपके फेफड़े हवा से भर ना जाए !
  • इसके बाद, अपना अंगूठा छोड़ें और अपनी अनामिका से अपनी बाईं नासिका को बंद करें ! दाहिनी नासिका से धीरे-धीरे साँस छोड़ें !
  • इस बार दाहिने नथुने से साँस लें और बाएँ से साँस छोड़ें !
  • यही प्रक्रिया बार-बार करते रहें !
अनुलोम विलोम के साइड इफेक्ट anulom vilom ke side efect

अनुलोम विलोम अधिकांश स्वस्थ लोगों के लिए सुरक्षित होता है ! इसके कोई ज्ञात जोखिम नहीं है ! 2019 मे 68 लोगों पर किए गए अध्ययनों की समीक्षा में पाया गया ! कि प्रशिक्षित शिक्षक के निर्देशन में किए जाने पर अनुलोम विलोम सुरक्षित है ! यह एक अच्छा विचार हो सकता है कि सिर्फ एक या दो मिनट के साथ शुरू करें ! और धीरे-धीरे जैसे जैसे आपका आत्मविश्वास बढ़ता है इसका समय बढ़ाते जाएं ! अगर आपको पुरानी सांस लेने में परेशानी या हृदय समस्या है ! तब अनुलोम विलोम श्वास शुरू करने से पहले, एक डॉक्टर से सलाह प्राप्त करें !