Thyroid symptoms in Hindi थायराइड के लक्षण | कारण प्रकार और उपचार

You are currently viewing Thyroid symptoms in Hindi थायराइड के लक्षण | कारण प्रकार और उपचार

गर्दन के आधार पर स्थित थायरॉयड एक तितली के आकार की ग्रंथि है ! यह अंतःस्रावी तंत्र नामक ग्रंथियों के एक जटिल नेटवर्क का हिस्सा है ! एंडोक्राइन सिस्टम शरीर के कई कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है ! जबकि थायरॉयड ग्रंथि द्वारा शरीर के चयापचय को कंट्रोल करने वाले हार्मोन बनते हैं ! जब थायरॉयड ग्रंथि द्वारा बहुत अधिक मात्रा में हार्मोन बनता है ! तब उसे हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है ! और जब यह हार्मोन कम मात्रा में बनते हैं ! तब इन्हें हाइपोथायरायडिज्म के नाम से जाना जाता है ! Thyroid symptoms in hindi नामक विषय इसी समस्या का समाधान है !

इन दोनों परिस्थितियों में कई अलग-अलग विकार उत्पन्न हो सकते हैं ! होसीमोटो थायरॉयडिटिस, ग्रेव्स रोग, घेघा और थायरॉयड नोड्यूल्स इनके चार प्रमुख विकार हैं ! थायराइड होने पर बाल झड़ना, गले में सूजन, शरीर के तापमान में बदलाव ! मूड चेंज, वजन कम होना या वजन का अधिक बढ़ना इत्यादि लक्षण होते हैं ! इसके अलावा कई अन्य लक्षण Thyroid symptoms in hindi होते हैं ! जिन्हें आप विस्तार पूर्वक जानेंगे !

थायरॉयड ग्रंथि लगभग 2 इंच लंबी होती है ! थायराइड की दो भुजाएँ होती हैं जिन्हें लोब कहा जाता है ! जो आपके विंडपाइप के दोनों ओर स्थित होती हैं, और आमतौर पर थायरॉइड ऊतक की एक पट्टी से जुड़ी होती है ! जिसे इस्थमस के रूप में जाना जाता है ! कुछ लोगों में एक इस्थमस नहीं होता है, और इसके बजाय दो अलग थायरॉइड लोब होते हैं ! थायरॉयड अंतःस्रावी तंत्र का हिस्सा है, जो ग्रंथियों से बना होता है, जो हार्मोन को उत्पन्न करते हैं और रक्त प्रवाह में छोड़ते हैं !

ताकि हार्मोन शरीर की कोशिकाओं तक पहुंच सकें ! थायरॉयड ग्रंथि दो मुख्य हार्मोन बनाने के लिए आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों से आयोडीन का उपयोग करती है ! पहला ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) और दूसरा थायरोक्सिन (T4) है ! यह महत्वपूर्ण है कि T3 और T4 का स्तर न तो बहुत अधिक है और न ही बहुत कम है ! थायराइड के दो प्रकार हैं !

1- हाइपरथाइरॉयडिज़्म thyroid symptoms in Hindi

थायराइड एक ग्रंथि है जो आपकी गर्दन के सामने स्थित होती है ! यह टेट्राआयोडोथायरोनिन (T4) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) हारमोंस पैदा करता है ! यह हार्मोन नियंत्रण रखते हैं कि आपकी कोशिकाएं ऊर्जा का उपयोग कैसे करती हैं ! थायरॉयड ग्रंथि इन हार्मोनों के माध्यम से आपके चयापचय को भी नियंत्रित करती है ! हाइपरथायरायडिज्म तब होता है जब थायरॉयड बहुत अधिक टी 4, टी 3, या दोनों बनाता है ! ओवरएक्टिव थायरॉयड का निदान और अंतर्निहित कारण का उपचार लक्षणों से राहत दे सकता है और जटिलताओं को रोक सकता है ! thyroid symptoms in Hindi

2- हाइपोथायरायडिज्म

इसे अंडरएक्टिव थायराइड रोग भी कहा जाता है ! हाइपोथायरायडिज्म के साथ, आपकी थायरॉयड ग्रंथि पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं बनाती है ! थायरॉयड ग्रंथि आपकी गर्दन के सामने के निचले हिस्से में स्थित होती है ! ग्रंथि द्वारा जारी हार्मोन आपके रक्तप्रवाह के माध्यम से पूरे शरीर में पहुंचते हैं ! और आपके शरीर के लगभग हर हिस्से को आपके दिल और मस्तिष्क से लेकर आपकी मांसपेशियों और त्वचा तक प्रभावित करते हैं ! इसके अलावा थायरॉयड नियंत्रित करता है !

कि आपके शरीर की कोशिकाएं भोजन से ऊर्जा का उपयोग कैसे करती हैं ! इसके अलावा, आपका चयापचय आपके शरीर के तापमान, आपके दिल की धड़कन और आप कितनी अच्छी तरह से कैलोरी जलाते हैं इसको भी यह नियंत्रित करता है ! यदि आपके पास पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं है, तो आपके शरीर की प्रक्रिया धीमी हो जाती है ! इसका मतलब है कि आपका शरीर कम ऊर्जा बनाएगा और साथ ही आपका चयापचय सुस्त हो जाता है ! thyroid symptoms in Hindi

थायराइड के लक्षण symptoms of thyroid in hindi

हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म दोनों के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं ! thyroid symptoms in Hindi

बहुत अधिक वजन बढ़ना या कम होना

वजन में परिवर्तन थायरॉयड ग्रंथि के असामान्य कार्य का संकेत हो सकता है ! थायराइड हार्मोन का निम्न स्तर (हाइपोथायरायडिज्म) वजन बढ़ने का कारण बन सकता है ! जबकि अप्रत्याशित वजन घटाने यह संकेत दे सकता है कि बहुत अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन (हाइपरथायरायडिज्म) हो रहा है !हाइपरथायरायडिज्म की तुलना में हाइपोथायरायडिज्म बहुत अधिक आम है !

गले में सूजन

गर्दन मे सूजन थायराइड रोग का संकेत कर सकती है ! कभी-कभी घेघा के कारण भी गर्दन में सूजन होती है ! एक घेघा थायरॉयड ग्रंथि की सूजन को और बढ़ा सकता है ! यह एक तितली के आकार की ग्रंथि है जो गले के सामने होती है ! एक बढ़े हुए थायरॉयड को गर्दन के सामने सूजन के रूप में देखा जा सकता है ! विभिन्न थायरॉयड रोग घेघा (goiter) का कारण बन सकते हैं ! गोइटर कभी-कभी ट्यूमर या नोड्यूल के परिणामस्वरूप भी हो सकते हैं ! जो थायरॉयड के भीतर विकसित होते हैं !

दिल की धड़कन में बदलाव

थायरॉयड ग्रंथि में बने हार्मोन शरीर के लगभग हर अंग को प्रभावित करते हैं जिसमें हृदय भी शामिल है ! हाइपोथायरायडिज्म के कारण हृदय अधिक धीरे-धीरे धड़क सकता है ! जबकि हाइपरथायरायडिज्म तेज धड़कन का कारण बनता है ! थायराइड हार्मोन का ऊंचा स्तर रक्तचाप में वृद्धि भी कर सकता है !

बाल झड़ना

बालों का झड़ना थायराइड की समस्या का एक आम संकेत है ! थायराइड हार्मोन के बहुत अधिक और बहुत कम स्तर दोनों बालों के झड़ने का कारण बन सकते हैं ! थायराइड की समस्या की वजह से बालों का झड़ना सामान्यतः इलाज के बाद बाल आमतौर पर वापस उगते हैं ! thyroid symptoms in Hindi

मूड चेंज

थायराइड विकार भावनाओं, ऊर्जा और मनोदशा को प्रभावित कर सकते हैं ! हाइपोथायरायडिज्म अवसाद, थकान और सुस्त महसूस करने जैसे लक्षण पैदा कर सकता है ! और हाइपरथायरायडिज्म नींद की गड़बड़ी, चिड़चिड़ापन, चिंता और बेचैनी जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं !

शरीर का तापमान

थायराइड शरीर के तापमान के नियमन को प्रभावित करता है ! इसलिए हाइपोथायरायडिज्म वाले लोग अक्सर ठंड महसूस करते हैं ! इसके विपरीत, हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों में अत्यधिक पसीना और गर्मी महसूस होती है !

थायराइड होने के कारण causes of thyroid in hindi

आपका प्रतिरक्षा तंत्र बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ आपके शरीर की कोशिकाओं की रक्षा के लिए बनाया गया है ! जब अज्ञात बैक्टीरिया या वायरस आपके शरीर में प्रवेश करते हैं ! तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिकूलता को नष्ट करने के लिए विरोधी कोशिकाओं को भेजकर प्रतिक्रिया करती है ! कभी-कभी, आपका शरीर आक्रमण करने वाली कोशिकाओं के लिए सामान्य, स्वस्थ कोशिकाओं को भ्रमित करता है ! इसे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया कहा जाता है ! यदि ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया को विनियमित या इलाज नहीं किया जाता है, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ ऊतकों पर हमला कर सकती है ! यह थायराइड चिकित्सा मुद्दों का कारण बन सकता है !

जिसमें हाइपोथायरायडिज्म जैसी स्थितियां भी शामिल हैं ! हाशिमोटो की थायरॉयडिटिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है ! जो थायराइड का सबसे आम कारण है ! यह बीमारी आपके थायरॉयड ग्रंथि पर हमला करती है ! और पुरानी थायरॉयड सूजन का कारण बनती है ! यह मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं को सबसे अधिक प्रभावित करता है ! लेकिन यह पुरुषों और बच्चों में भी हो सकता है ! यदि परिवार के किसी सदस्य को इस बीमारी है ! तो आने वाली पीढ़ी को भी इसके होने का खतरा अधिक है !

* पाठ्य आहार

अपने भोजन में आयोडीन युक्त नमक का ही प्रयोग करें साथ ही दही और दूध खाने में शामिल करे ! इनमें अधिक मात्रा में कैल्शियम, मिनरल्स और विटामिन्स होते हैं ! जो थायराइड के मरीज को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं ! थायराइड ग्लैंड को बढ़ने से रोकने में गेहूं और ज्वार का प्रयोग भी मददगार साबित हो सकता है ! इसके अलावा लहसुन, प्याज, त्रिकटु, सहजन (मोरिंगा), जवा, कुलथी , काकमची, पुराने चावल, जौ, मूंग दाल इत्यादि थायराइड के लिए उपयुक्त होते हैं ! एवं नारियल का तेल हाइपोथायरायडिज्म में बहुत मदद कर सकता है ! थायराइड से बचने के लिए कुछ घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं !

1- भोजन आराम से खाएं

ध्यान पूर्वक खाना और अपने भोजन को चबाना थायरॉयड और मन के बीच संबंध बनाता है ! और आपको अपने भोजन से संतुष्ट करता है ! चूंकि थायरॉयड ग्रंथि चयापचय के लिए जिम्मेदार है ! धीमी गति से खाने से चयापचय प्रक्रियाओं को बढ़ाने में मदद मिलती है !

2- रेगुलर एक्सरसाइज करें

गतिहीन जीवन शैली के कारण बहुत अधिक स्वास्थ्य समस्याएं हैं ! शारीरिक श्रम करें जैसे तेज चलना, नृत्य, योग या अपनी पसंद की किसी अन्य गतिविधि, इसका उद्देश्य अधिक से अधिक कैलोरी जलाना है !

3- हरी सब्जियां पकाकर खाएं

हरी सब्जियों को पूरी तरह से पका कर खाएं इन सब्जियों में शामिल है ! ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, और गोभी इत्यादि ! सब्जियों के कच्चे रूप में गोइट्रोगन्स होते हैं जो थायरॉयड ग्रंथि के संतुलन को खराब करते हैं !

4- दही खाएं

एक और चीज जो थायरॉयड ग्रंथि को संतुलन की स्थिति तक पहुंचने में मदद करती है ! वह है भोजन में पर्याप्त प्रोबायोटिक्स ! इसलिए दही, सेब साइडर सिरका यह सभी आपके आहार का हिस्सा होना चाहिए ! ये गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्वास्थ्य में सुधार करते हैं और थायराइड से निपटने में मदद करते हैं !

5- खाने में वसा की मात्रा बढ़ाएं

थायरॉइड ग्रंथि तब बेहतर तरीके से काम करती है जब इसे मक्खन और घी जैसे पर्याप्त चिकनाई प्रदान की जाती है ! इसलिए यदि आप कम वसा वाले आहार को प्राथमिकता देते रहे हैं ! तो आप इसे बदलना चाह सकते हैं !

6- योगा करें

योग आसनों के चमत्कार से दुनिया वाकिफ है ! योग के अभ्यास से कई लोगों के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है !संपूर्ण अंतःस्रावी तंत्र योग के प्रति अच्छी प्रतिक्रिया देता है ! विशेष रूप से यह थायराइड स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है !

7- जंक फूड फ्री जीवन शैली अपनाएं

जंक फूड और प्रोसेस्ड फूड को अपने खाने की आदतों में शामिल ना करें ! लेकिन एक बार जब आप इनके दुष्प्रभावों को समझ जाते हैं तब उन्हें दूर करना सीख जाते हैं ! तो आपको अपने स्वास्थ्य में खासकर थायराइड में सुधार दिखाई देगा ! Thyroid symptoms in Hindi