Thyroid symptoms in Hindi थायराइड के लक्षण | कारण प्रकार और उपचार

Thyroid symptoms in Hindi थायराइड के लक्षण | कारण प्रकार और उपचार

गर्दन के आधार पर स्थित थायरॉयड एक तितली के आकार की ग्रंथि है ! यह अंतःस्रावी तंत्र नामक ग्रंथियों के एक जटिल नेटवर्क का हिस्सा है ! एंडोक्राइन सिस्टम शरीर के कई कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है ! जबकि थायरॉयड ग्रंथि द्वारा शरीर के चयापचय को कंट्रोल करने वाले हार्मोन बनते हैं ! जब थायरॉयड ग्रंथि द्वारा बहुत अधिक मात्रा में हार्मोन बनता है ! तब उसे हाइपरथायरायडिज्म कहा जाता है ! और जब यह हार्मोन कम मात्रा में बनते हैं ! तब इन्हें हाइपोथायरायडिज्म के नाम से जाना जाता है ! Thyroid symptoms in hindi नामक विषय इसी समस्या का समाधान है !

इन दोनों परिस्थितियों में कई अलग-अलग विकार उत्पन्न हो सकते हैं ! होसीमोटो थायरॉयडिटिस, ग्रेव्स रोग, घेघा और थायरॉयड नोड्यूल्स इनके चार प्रमुख विकार हैं ! थायराइड होने पर बाल झड़ना, गले में सूजन, शरीर के तापमान में बदलाव ! मूड चेंज, वजन कम होना या वजन का अधिक बढ़ना इत्यादि लक्षण होते हैं ! इसके अलावा कई अन्य लक्षण Thyroid symptoms in hindi होते हैं ! जिन्हें आप विस्तार पूर्वक जानेंगे !

थायरॉयड ग्रंथि लगभग 2 इंच लंबी होती है ! थायराइड की दो भुजाएँ होती हैं जिन्हें लोब कहा जाता है ! जो आपके विंडपाइप के दोनों ओर स्थित होती हैं, और आमतौर पर थायरॉइड ऊतक की एक पट्टी से जुड़ी होती है ! जिसे इस्थमस के रूप में जाना जाता है ! कुछ लोगों में एक इस्थमस नहीं होता है, और इसके बजाय दो अलग थायरॉइड लोब होते हैं ! थायरॉयड अंतःस्रावी तंत्र का हिस्सा है, जो ग्रंथियों से बना होता है, जो हार्मोन को उत्पन्न करते हैं और रक्त प्रवाह में छोड़ते हैं !

ताकि हार्मोन शरीर की कोशिकाओं तक पहुंच सकें ! थायरॉयड ग्रंथि दो मुख्य हार्मोन बनाने के लिए आपके द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों से आयोडीन का उपयोग करती है ! पहला ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) और दूसरा थायरोक्सिन (T4) है ! यह महत्वपूर्ण है कि T3 और T4 का स्तर न तो बहुत अधिक है और न ही बहुत कम है ! थायराइड के दो प्रकार हैं !

1- हाइपरथाइरॉयडिज़्म thyroid symptoms in Hindi

थायराइड एक ग्रंथि है जो आपकी गर्दन के सामने स्थित होती है ! यह टेट्राआयोडोथायरोनिन (T4) और ट्राईआयोडोथायरोनिन (T3) हारमोंस पैदा करता है ! यह हार्मोन नियंत्रण रखते हैं कि आपकी कोशिकाएं ऊर्जा का उपयोग कैसे करती हैं ! थायरॉयड ग्रंथि इन हार्मोनों के माध्यम से आपके चयापचय को भी नियंत्रित करती है ! हाइपरथायरायडिज्म तब होता है जब थायरॉयड बहुत अधिक टी 4, टी 3, या दोनों बनाता है ! ओवरएक्टिव थायरॉयड का निदान और अंतर्निहित कारण का उपचार लक्षणों से राहत दे सकता है और जटिलताओं को रोक सकता है ! thyroid symptoms in Hindi

2- हाइपोथायरायडिज्म

इसे अंडरएक्टिव थायराइड रोग भी कहा जाता है ! हाइपोथायरायडिज्म के साथ, आपकी थायरॉयड ग्रंथि पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं बनाती है ! थायरॉयड ग्रंथि आपकी गर्दन के सामने के निचले हिस्से में स्थित होती है ! ग्रंथि द्वारा जारी हार्मोन आपके रक्तप्रवाह के माध्यम से पूरे शरीर में पहुंचते हैं ! और आपके शरीर के लगभग हर हिस्से को आपके दिल और मस्तिष्क से लेकर आपकी मांसपेशियों और त्वचा तक प्रभावित करते हैं ! इसके अलावा थायरॉयड नियंत्रित करता है !

कि आपके शरीर की कोशिकाएं भोजन से ऊर्जा का उपयोग कैसे करती हैं ! इसके अलावा, आपका चयापचय आपके शरीर के तापमान, आपके दिल की धड़कन और आप कितनी अच्छी तरह से कैलोरी जलाते हैं इसको भी यह नियंत्रित करता है ! यदि आपके पास पर्याप्त थायराइड हार्मोन नहीं है, तो आपके शरीर की प्रक्रिया धीमी हो जाती है ! इसका मतलब है कि आपका शरीर कम ऊर्जा बनाएगा और साथ ही आपका चयापचय सुस्त हो जाता है ! thyroid symptoms in Hindi

थायराइड के लक्षण symptoms of thyroid in hindi

हाइपरथायराइडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म दोनों के कुछ सामान्य लक्षण निम्नलिखित हैं ! thyroid symptoms in Hindi

बहुत अधिक वजन बढ़ना या कम होना

वजन में परिवर्तन थायरॉयड ग्रंथि के असामान्य कार्य का संकेत हो सकता है ! थायराइड हार्मोन का निम्न स्तर (हाइपोथायरायडिज्म) वजन बढ़ने का कारण बन सकता है ! जबकि अप्रत्याशित वजन घटाने यह संकेत दे सकता है कि बहुत अधिक थायराइड हार्मोन का उत्पादन (हाइपरथायरायडिज्म) हो रहा है !हाइपरथायरायडिज्म की तुलना में हाइपोथायरायडिज्म बहुत अधिक आम है !

गले में सूजन

गर्दन मे सूजन थायराइड रोग का संकेत कर सकती है ! कभी-कभी घेघा के कारण भी गर्दन में सूजन होती है ! एक घेघा थायरॉयड ग्रंथि की सूजन को और बढ़ा सकता है ! यह एक तितली के आकार की ग्रंथि है जो गले के सामने होती है ! एक बढ़े हुए थायरॉयड को गर्दन के सामने सूजन के रूप में देखा जा सकता है ! विभिन्न थायरॉयड रोग घेघा (goiter) का कारण बन सकते हैं ! गोइटर कभी-कभी ट्यूमर या नोड्यूल के परिणामस्वरूप भी हो सकते हैं ! जो थायरॉयड के भीतर विकसित होते हैं !

दिल की धड़कन में बदलाव

थायरॉयड ग्रंथि में बने हार्मोन शरीर के लगभग हर अंग को प्रभावित करते हैं जिसमें हृदय भी शामिल है ! हाइपोथायरायडिज्म के कारण हृदय अधिक धीरे-धीरे धड़क सकता है ! जबकि हाइपरथायरायडिज्म तेज धड़कन का कारण बनता है ! थायराइड हार्मोन का ऊंचा स्तर रक्तचाप में वृद्धि भी कर सकता है !

बाल झड़ना

बालों का झड़ना थायराइड की समस्या का एक आम संकेत है ! थायराइड हार्मोन के बहुत अधिक और बहुत कम स्तर दोनों बालों के झड़ने का कारण बन सकते हैं ! थायराइड की समस्या की वजह से बालों का झड़ना सामान्यतः इलाज के बाद बाल आमतौर पर वापस उगते हैं ! thyroid symptoms in Hindi

मूड चेंज

थायराइड विकार भावनाओं, ऊर्जा और मनोदशा को प्रभावित कर सकते हैं ! हाइपोथायरायडिज्म अवसाद, थकान और सुस्त महसूस करने जैसे लक्षण पैदा कर सकता है ! और हाइपरथायरायडिज्म नींद की गड़बड़ी, चिड़चिड़ापन, चिंता और बेचैनी जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं !

शरीर का तापमान

थायराइड शरीर के तापमान के नियमन को प्रभावित करता है ! इसलिए हाइपोथायरायडिज्म वाले लोग अक्सर ठंड महसूस करते हैं ! इसके विपरीत, हाइपरथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों में अत्यधिक पसीना और गर्मी महसूस होती है !

थायराइड होने के कारण causes of thyroid in hindi

आपका प्रतिरक्षा तंत्र बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ आपके शरीर की कोशिकाओं की रक्षा के लिए बनाया गया है ! जब अज्ञात बैक्टीरिया या वायरस आपके शरीर में प्रवेश करते हैं ! तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली प्रतिकूलता को नष्ट करने के लिए विरोधी कोशिकाओं को भेजकर प्रतिक्रिया करती है ! कभी-कभी, आपका शरीर आक्रमण करने वाली कोशिकाओं के लिए सामान्य, स्वस्थ कोशिकाओं को भ्रमित करता है ! इसे ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया कहा जाता है ! यदि ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया को विनियमित या इलाज नहीं किया जाता है, तो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली स्वस्थ ऊतकों पर हमला कर सकती है ! यह थायराइड चिकित्सा मुद्दों का कारण बन सकता है !

जिसमें हाइपोथायरायडिज्म जैसी स्थितियां भी शामिल हैं ! हाशिमोटो की थायरॉयडिटिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है ! जो थायराइड का सबसे आम कारण है ! यह बीमारी आपके थायरॉयड ग्रंथि पर हमला करती है ! और पुरानी थायरॉयड सूजन का कारण बनती है ! यह मध्यम आयु वर्ग की महिलाओं को सबसे अधिक प्रभावित करता है ! लेकिन यह पुरुषों और बच्चों में भी हो सकता है ! यदि परिवार के किसी सदस्य को इस बीमारी है ! तो आने वाली पीढ़ी को भी इसके होने का खतरा अधिक है !

* पाठ्य आहार

अपने भोजन में आयोडीन युक्त नमक का ही प्रयोग करें साथ ही दही और दूध खाने में शामिल करे ! इनमें अधिक मात्रा में कैल्शियम, मिनरल्स और विटामिन्स होते हैं ! जो थायराइड के मरीज को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं ! थायराइड ग्लैंड को बढ़ने से रोकने में गेहूं और ज्वार का प्रयोग भी मददगार साबित हो सकता है ! इसके अलावा लहसुन, प्याज, त्रिकटु, सहजन (मोरिंगा), जवा, कुलथी , काकमची, पुराने चावल, जौ, मूंग दाल इत्यादि थायराइड के लिए उपयुक्त होते हैं ! एवं नारियल का तेल हाइपोथायरायडिज्म में बहुत मदद कर सकता है ! थायराइड से बचने के लिए कुछ घरेलू उपचार निम्नलिखित हैं !

1- भोजन आराम से खाएं

ध्यान पूर्वक खाना और अपने भोजन को चबाना थायरॉयड और मन के बीच संबंध बनाता है ! और आपको अपने भोजन से संतुष्ट करता है ! चूंकि थायरॉयड ग्रंथि चयापचय के लिए जिम्मेदार है ! धीमी गति से खाने से चयापचय प्रक्रियाओं को बढ़ाने में मदद मिलती है !

2- रेगुलर एक्सरसाइज करें

गतिहीन जीवन शैली के कारण बहुत अधिक स्वास्थ्य समस्याएं हैं ! शारीरिक श्रम करें जैसे तेज चलना, नृत्य, योग या अपनी पसंद की किसी अन्य गतिविधि, इसका उद्देश्य अधिक से अधिक कैलोरी जलाना है !

3- हरी सब्जियां पकाकर खाएं

हरी सब्जियों को पूरी तरह से पका कर खाएं इन सब्जियों में शामिल है ! ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली, और गोभी इत्यादि ! सब्जियों के कच्चे रूप में गोइट्रोगन्स होते हैं जो थायरॉयड ग्रंथि के संतुलन को खराब करते हैं !

4- दही खाएं

एक और चीज जो थायरॉयड ग्रंथि को संतुलन की स्थिति तक पहुंचने में मदद करती है ! वह है भोजन में पर्याप्त प्रोबायोटिक्स ! इसलिए दही, सेब साइडर सिरका यह सभी आपके आहार का हिस्सा होना चाहिए ! ये गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल स्वास्थ्य में सुधार करते हैं और थायराइड से निपटने में मदद करते हैं !

5- खाने में वसा की मात्रा बढ़ाएं

थायरॉइड ग्रंथि तब बेहतर तरीके से काम करती है जब इसे मक्खन और घी जैसे पर्याप्त चिकनाई प्रदान की जाती है ! इसलिए यदि आप कम वसा वाले आहार को प्राथमिकता देते रहे हैं ! तो आप इसे बदलना चाह सकते हैं !

6- योगा करें

योग आसनों के चमत्कार से दुनिया वाकिफ है ! योग के अभ्यास से कई लोगों के स्वास्थ्य में सुधार हुआ है !संपूर्ण अंतःस्रावी तंत्र योग के प्रति अच्छी प्रतिक्रिया देता है ! विशेष रूप से यह थायराइड स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद साबित होता है !

7- जंक फूड फ्री जीवन शैली अपनाएं

जंक फूड और प्रोसेस्ड फूड को अपने खाने की आदतों में शामिल ना करें ! लेकिन एक बार जब आप इनके दुष्प्रभावों को समझ जाते हैं तब उन्हें दूर करना सीख जाते हैं ! तो आपको अपने स्वास्थ्य में खासकर थायराइड में सुधार दिखाई देगा ! Thyroid symptoms in Hindi

Black salt in Hindi काला नमक क्या है और इसके फायदे क्या क्या है Previous post Black salt in Hindi काला नमक क्या है और इसके फायदे क्या क्या है
Arthritis in Hindi अर्थराइटिस, (गठिया) क्या है और इसका उपचार ऐसे करें Next post Arthritis in Hindi अर्थराइटिस, (गठिया) क्या है और इसका उपचार ऐसे करें

चिकित्सा की स्थिति, डाइट, उपचार, निदान और घरेलू उपचार के बारे में उपलब्ध जानकारी, केवल सामान्य रूप से पढ़ने के लिए है ! उपर्युक्त लेख हमेशा त्रुटि रहित, पूर्ण या अद्यतित नहीं भी हो सकता है ! हालाँकि कोई त्रुटि ना हो इसका पूरा रिव्यु लिया जाता है ! Fit & Well Health का उद्देश्य किसी चिकित्सक से परामर्श को प्रतिस्थापित करना नहीं है ! कोई भी स्वास्थ्य समस्या होने पर किसी डॉक्टर से उपचार अवश्य करवायें !

Social Link