Yogurt in Hindi कर्ड और योगर्ट में अंतर एवं दही के फायदे

Yogurt in Hindi कर्ड और योगर्ट में अंतर एवं दही के फायदे

दही एक मुख्य डेयरी प्रोडक्ट है जो दूध से बनाया जाता है ! इसमें प्रोटीन और कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है ! और यह आंत मे स्वस्थ बैक्टीरिया को बढ़ाता है ! यह विभिन्न आंत्र रोग से राहत देता है और पाचन क्रिfया मजबूत करता है ! साथ ही दही की तासीर ठंडी होने से गर्मी के दिनों में शरीर को लूह (गर्म हवाओं) से बचाता है ! दही के नियमित सेवन से ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा कम हो जाता है ! लेकिन ये दही के सेवन के प्रकार पर निर्भर करता हैं ! चीनी मिश्रित और प्रसंस्कृत दही इसकी गुणवत्ता को कम कर देते हैं ! Yogurt in Hindi दही तब ज्यादा फायदेमंद होती है जब इसे ताजा दूध के साथ प्राकृतिक रूप से बनाया जाता है ! इसके सेवन से डायबिटीज के मरीज को ब्लड शुगर रेगुलेट करने और इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद मिलती हैं !

लैक्टोज Lactose दूध में पाई जाने वाली प्राकृतिक शर्करा को किण्वित करती है ! जिससे लैक्टिक एसिड Lactic acid का उत्पादन होता है ! जो दही को इसका विशिष्ट स्वाद देता है ! यह पौष्टिक गुणों से भरपूर एक स्वास्थ्य उत्पाद है ! इसे नियमित रूप से खाने से आपके शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ पहुंचाता है ! जैसे हृदय रोग, पेट के रोग, आंतों की समस्या और ऑस्टियोपोरोसिस osteoporosis के जोखिम को कम करता है ! साथ ही यह वजन बढ़ाने में भी मदद कर सकता है !

स्किम दूध से बनी किस्मों को वसा रहित माना जाता है ! जबकि पूरे दूध से बने पदार्थ को पूर्ण वसा युक्त माना जाता है ! दही एक सफेद गाढ़ा तरल होता है जिसमें एक तीखा खट्टा स्वाद होता है ! बिक्री वाले ब्रांडों में चीनी और कृत्रिम स्वाद जैसे अतिरिक्त तत्व होते हैं ! ये योगर्ट आपकी सेहत के लिए अच्छे नहीं हैं ! दूसरी ओर नेचुरल तरीके से बनाया हुआ देसी दही कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है !

कर्ड और योगर्ट में अंतर difference between curd and yogurt

इन दोनों में कोई विशेष अंतर नहीं है ! इन दोनों को बनाने के तरीके में थोड़ा अंतर होता है ! भारत में इसे दही Curd के नाम से जाना जाता है ! वही योगर्ट को बनाने के लिए भी यही तरीका अपनाया जाता है ! लेकिन yogurt को बनाने में लैक्टोबैसिलस बुल्गारिस और स्ट्रेप्टोकॉकस थर्मोफिलस बैक्टीरिया का इस्तेमाल किया जाता है ! लैक्टिक एसिड बैक्टीरिया भी मिलाए जाते हैं ! Curd बनाने के लिए उपयोग होने वाला लैक्टोबैसिलस bacteria भी लैक्टिक एसिड बैक्टीरिया ही होता है !

दही बनाने की विधि How to make yogurt

दूध से दही बनाने के लिए सबसे पहले उबले हुए दूध को ठंडा होने दें ! जब यह हल्का गर्म रह जाए तब इसमें दो चम्मच दही या मट्ठे को बीच में डालें ! और इसे अच्छी तरह ढंक कर रात भर के लिए रख दें ! यह दही बनाने की सबसे अच्छी देसी विधि है ! यह प्रक्रिया जो इसे लाभकारी गुण प्रदान करता है यह दूध को किण्वित करता हैं ! और दूध में लैक्टोज को लैक्टिक एसिड में बदल देता हैं ! इस प्रकार उत्पादित लैक्टिक एसिड, दूध में मौजूद प्रोटीन को जमा देता है !

जिससे यह एक गाढ़ा बनावट और खट्टा स्वाद देता है ! इस प्रकार प्राप्त दही, का आनंद लिया जा सकता है ! अगर आप गुड़ के साथ इसका सेवन करते हैं ! तब दही का स्वास्थ्य वर्धक गुण और भी बढ़ जाता है ! ध्यान दें शक्कर मिश्रित दही का सेवन ना करें ! आप दही yogurt in Hindi को कई प्रकार के व्यंजनों को बनाने में भी शामिल कर सकते हैं !

Video credit goes to: Anita jain recipes

दही के फायदे benefits of yogurt in Hindi

दही के अनगिनत फायदे हैं ! इसमें मौजूद पोटेशियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन B2 और विटामिन B12 जैसे पोषक तत्व शरीर के कार्य स्थिति को बेहतर करने में सक्षम है दही के कुछ विशेष फायदे निम्नलिखित हैं !

नीचे दी गई मात्रा 100 ग्राम दही की है –

कैलोरी- 98

फैट- 4.3 ग्राम

कोलेस्ट्रॉल- 17 मिलीग्राम

सोडियम- 364 मिलीग्राम

पोटैशियम- 104 मिलीग्राम

कार्बोहाइड्रेट्स- 3.4 ग्राम

शुगर- 2.7 ग्राम

प्रोटीन- 11 ग्राम

पाचन क्रिया digestive system

प्रतिदिन दही का सेवन करने से मल की गति नियमित रहती है ! और हमारे शरीर की कार्यप्रणाली में सुधार होता है ! यह आंत में हानिकारक जीवाणुओं को मारता है और अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ाता है ! अर्थात हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाता है ! दही में मौजूद लैक्टोज, कब्ज, सूजन, आंत्र रोग और हेलिकोबैक्टर पाइलोरी बैक्टीरिया के कारण होने वाले संक्रमण में प्रभावी है !

मजबूत हड्डियां improve bone health

दही कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत है, इस प्रकार यह हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए आदर्श माना जाता है ! दही का नियमित सेवन, अस्थि द्रव्यमान और शक्ति को संरक्षित करता है ! यह फ्रैक्चर और ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को भी कम करता है ! yogurt in Hindi

इम्यूनिटी बूस्टर immunity booster

दही का नियमित सेवन हमारे इम्यून सिस्टम को बढ़ाता है ! और हमारे शरीर को कई तरह के संक्रमणों से बचाता है ! दही जठरांत्र संबंधी संक्रमण, आम सर्दी, फ्लू और यहां तक ​​कि कैंसर जैसे श्वसन संबंधी समस्याओं से प्रभावी रूप से लड़ता है ! दही में मौजूद मैग्नीशियम, सेलेनियम और जिंक भी प्रतिरक्षा में सुधार करने में मदद करते हैं !

सूजन रोधी reduce inflammation

दही में मौजूद सूजन रोधी गुण ऑटोइम्यून बीमारियों, मधुमेह, कैंसर और गठिया के कारण होने वाली शारीरिक सूजन को कम करते हैं ! दही yogurt in Hindi के सेवन से इन समस्याओं में लाभ मिलता है !

ब्लड शुगर लेवल रेगुलेटर blood sugar level regulator

नियमित रूप से घर का प्राकृतिक रूप से बना हुआ दही का सेवन रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है ! और यह टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के लिए बहुत अच्छा है !

ह्रदय स्वास्थ्य improve heart health

नियमित रूप से दही का सेवन करने से रक्तचाप कम होता है जो हृदय के रोगों के लिए एक मुख्य जोखिम कारक है ! इस प्रकार दही के कारण दिल की बीमारियों का खतरा कम हो जाता है !

एलर्जी के लक्षण कम होते हैं reduce allergic symptoms

दही का सेवन किसी भी प्रकार की एलर्जी के जवाब में हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा उत्पादित एंटीबॉडी की संख्या को कम करता है ! इस क्रिया के लिए दही में मौजूद प्रोबायोटिक्स probiotics जिम्मेदार होते हैं !

कवक संक्रमण reduce yeast infection

दही का सेवन कवक संक्रमण से बचाव करता है ! इसलिए यदि आप इस तरह के संक्रमण से ग्रस्त हैं ! तो इसे अपने आहार में बढ़ाना सबसे अच्छा उपाय हो सकता है !

अल्जाइमर रोग में फायदेमंद reduce Alzheimer

2013 के एक अध्ययन से पता चलता है कि दही का सेवन “भावना और संवेदना” से जुड़ी मस्तिष्क गतिविधि को प्रभावित करती है ! 2018 के एक अन्य अनुसंधान ने पुष्टि की कि “दही सहित डेयरी उत्पाद” अल्जाइमर रोग और संज्ञानात्मक समस्या को रोक सकते हैं !

दस्त और पेचिश ने फायदेमंद

दस्त और पेचिश मे सुधार के लिए दही खाना फायदेमंद साबित हो सकता है ! दही में मौजूद लैक्टो बैसिलस ऐसिड़ आंतों में अच्छे बैक्टीरिया का उत्पादन करता है ! जो दस्त और पेचिश को ठीक करने में सहायक होता है !

त्वचा के लिए improve skin health

यह मृत त्वचा कोशिकाओं से छुटकारा दिलाता है ! साथ ही दही का मास्क आपकी त्वचा की नमी में सुधार कर सकता है ! कुल मिलाकर, कई वैज्ञानिक लेखों में सामयिक अनुप्रयोग का अध्ययन नहीं किया गया है लेकिन प्रारंभिक परिणाम संतोषजनक हैं ! yogurt in Hindi

*दही के नुकसान side effect of yogurt in Hindi

दही आयरन और जिंक को शरीर में सोखने से रोकता है ! इसलिए जिन्हें आयरन और जिंक की कमी है उन्हें ज्यादा दही खाने से बचना चाहिए ! साथ ही अस्थमा अर्थराइटिस और अन्य श्वास रोगों मे रात के समय दही खाने से बचना चाहिए ! अन्यथा यह नुकसान कर सकता है ! yogurt in Hindi