Salmon fish in Hindi सालमन मछली के फायदे प्रकार पकाने का तरीका और नुकसान

Salmon fish in Hindi सालमन मछली के फायदे प्रकार पकाने का तरीका और नुकसान

मछली दुनिया में सबसे अधिक खपत होने वाले प्रोटीन में से एक है ! ऐ स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं ! और बेतहतरीन स्वाद के लिए शानदार खाद्य हैं ! मछलियों को भोजन के रूप में या पूरक के रूप में भी लिया जा सकता है ! मछलियों की अधिकता के बीच Salmon fish in Hindi सैल्मन दुनिया भर में मछली पालन के लिए सबसे स्वस्थ विकल्पों में से एक है ! इसकी लोकप्रियता इसके उच्च पौष्टिक मूल्य और स्वाद पर आधारित है !

सामन एक पोषक तत्व से भरपूर मछली है जिसमें उच्च पोषण मूल्य होता है ! यह प्रोटीन, ओमेगा -3 फैटी एसिड, और विटामिन ए, बी कॉम्प्लेक्स, और डी का उच्च स्रोत है ! यह स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल में भी समृद्ध है ! तो आज के लेख में हम जानेंगे कि सामन मछली क्या है, इसके सेवन के फायदे क्या हैं, सामन के नुकसान क्या हैं इत्यादि !

सैल्मन ओमेगा -3 फैटी एसिड का एक उत्कृष्ट स्रोत है ! जिसमें चिकित्सीय गुण होते हैं ! यह पोषक तत्वों की कमी के उपचार में सहायता करता है ! और शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुणों के साथ एक आवश्यक विटामिन भी प्रदान करता है ! इसके अलावा यह हृदय, मस्तिष्क और आंखों के लिए स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करता है !

इसे भी पढ़ें: Vitamin chart in Hindi सभी विटामिन के चार्ट

सालमन मछली क्या है What is salmon fish in Hindi

Table of Sub heading

सामन मछलियों की एक प्रजाति है ! सामन आम तौर पर सफेद गुलाबी रंग के साथ नारंगी लाल होता है ! लेकिन इनकी अन्य बनावट भी मौजूद हैं ! उदाहरण के लिए, जंगली सामन में सफेद मांस होता है ! इसके अलावा, स्वाद और बनावट एवं प्रजातियों की खेती की विधि ! मौसम और खाना पकाने की विधि के अनुसार भिन्न-भिन्न होती है ! हालांकि, सभी सैल्मन प्रकारों में उच्च वसा सामग्री और एक समृद्ध, तैलीय बनावट होती है !

सालमन मछली के पोषण तत्व

सामन में फाइबर और शुगर नहीं होती है ! ये पोषण मूल्य सामन मछली की प्रजातियों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं ! हालांकि, सभी प्रजातियां कई पोषक तत्वों के भंडार हैं ! जो इसे एक स्वस्थ मछली बनाती हैं ! Salmon fish in Hindi

100 ग्राम सामन मछली में शामिल हैं:

  • कैलोरी – 127
  • प्रोटीन – 20.5 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट – 0 ग्राम
  • फाइबर – 0 जी
  • वसा – 4.4 ग्राम

प्रोटीन में पूर्ण :

सालमन मछली कार्ब मुक्त और प्रोटीन से भरपूर होती है ! सैल्मन प्रजाति में 21.9 ग्राम तक मछली प्रोटीन हो सकता है ! जिसके प्रभावशाली स्वास्थ्य लाभ हैं ! हालांकि, खेती वाले सामन में वसा की मात्रा अधिक होती है !और समुद्र या नदी वाले सामन में संतृप्त वसा होती है ! जबकि जंगली सामन में दुबला वसा होता है !

विटामिन में पूर्ण :

सामन विटामिन ए और कई बी-विटामिन प्रदान करता है ! इसके अलावा, सामन (विशेष रूप से जंगली सामन) विटामिन डी के कुछ प्राकृतिक खाद्य स्रोतों में से एक है !

मिनरल में पूर्ण :

सैल्मन मछली में खाने योग्य हड्डियाँ होती हैं ! जो इसे कैल्शियम और खनिज का एक अच्छा स्रोत बनाती हैं ! इन खनिजों में मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, जस्ता और सेलेनियम शामिल हैं !

सालमन मछली के प्रकार Types of salmon fish in Hindi

1:- किंग सैल्मन :

किंग सैल्मन (जिसे चिनूक भी कहा जाता है) वसा और ओमेगा -3 में उच्च होता है ! किंग सैल्मन पांच फीट तक लंबा हो सकता है ! और इसका वजन 100 पाउंड (0.05 टन) से अधिक हो सकता है ! यह दक्षिणी कैलिफोर्निया के प्रशांत समुद्रों से लेकर उत्तरी अलास्का की बर्फीली नदियों तक, हर जगह पायी जाती है !

2:-साकी सैल्मन :

सॉकी सैल्मन, जिसे कभी-कभी लाल सामन के रूप में जाना जाता है ! यह अपने जीवंत लाल-नारंगी मांस और तीव्र सुगंध के लिए मशहूर है ! ऐ किंग्स की तुलना में छोटे और पतले होते हैं ! स्मोक्ड सॉकी सैल्मन दुनिया भर के रसोइयों के बीच एक लोकप्रिय विकल्प है ! ऐ अपने चमकीले लाल मांस से अपना नाम प्राप्त करते हैं और जब ऐ बढ़ते हैं ! तो त्वचा एक गहरे लाल रंग में बदल जाती है ! सॉकी सैल्मन विटामिन-ए, डी, ई का एक समृद्ध स्रोत है !

3:- सिल्वर सैल्मन :

सिल्वर सैल्मन, जिसे कोहो के नाम से भी जाना जाता है ! इसका नाम इसकी चमकदार चांदी जैसी त्वचा के कारण सिल्वर सैल्मन रखा गया है ! कोहो में मध्यम वसा स्तर और अलग स्वाद होता है ! अपने छोटे आकार के कारण पूरे सामन को पकाते समय कोहोस की उपयोगिता होती है ! कोहो का स्वाद किंग्स के समान होता है, लेकिन उनकी बनावट अधिक नाजुक होती है ! ऐ अलास्का समुद्र और शेष उत्तरी प्रशांत क्षेत्र में प्रचलित हैं ! ऐ विटामिन बी 6, बी 12 और विटामिन डी का अच्छा स्रोत हैं !

4:- गुलाबी या हंपबैक सैल्मन :

Salmon fish in Hindi की पीठ पर एक प्रमुख कूबड़ होता है ! लोग इस सामन को गुलाबी, कूबड़ या यहां तक ​​​​कि “हम्पीज़” के रूप में जानते हैं ! इनका स्वाद मध्यम होता है और ऐ वसा और आकार में कम होते हैं ! जिनका वजन औसतन दो से छह पाउंड के बीच होता है !

5:- सिल्वरब्राइट सैल्मन :

यह हल्की से मध्यम रंग की छोटी मछली होती है ! और इसमें वसा की मात्रा कम होती है ! इसका मांस अक्सर बिक्री के लिए डिब्बाबंद उपलब्ध होता है ! हालाँकि, इसका एक महत्वपूर्ण लाभ यह है ! कि इस मछली के अंडे से व्यंजनों में पौष्टिकता बढ़ जाती है !

6:- अटलांटिक सामन :

साल्मो सालार, जिसे आमतौर पर अटलांटिक सैल्मन के रूप में जाना जाता है। व्यावसायिक रूप से उपलब्ध अटलांटिक सैल्मन की खेती की जाती है। जबकि खेती की गई सामन के मामले में खराब गुणवत्ता का सामना करना पड़ सकता है ! सैल्मन खेती की तकनीकों ने अधिक स्थिरता की दिशा में काफी प्रगति की है ! इसलिए यदि आपके लिए स्थिरता महत्वपूर्ण है तो यह आसान उपलब्धता हो सकती है।

सालमन मछली के फायदे Salmon fish benefits in Hindi

सैल्मन एक तैलीय मछली है जिसमें वसा की मात्रा अधिक होती है ! हालांकि, यह वसा पूरी तरह से स्वस्थ है और दिल और त्वचा के लिए अच्छा है ! Salmon fish in Hindi

सैल्मन हृदय और मस्तिष्क के लिए एक उत्कृष्ट भोजन स्रोत है ! चिकित्सा अध्ययनों में पाया गया है कि 0.45 से 4.5 ग्राम ओमेगा -3 फैटी एसिड लेने से हृदय की कार्यक्षमता में सुधार हो सकता है !

1:- हृदय स्वास्थ्य में सुधार

सामन ओमेगा -3 फैटी एसिड (ईपीए और डीएचए) और पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है ! पोटेशियम के साथ संयुक्त ओमेगा -3 और -6 फैटी एसिड हृदय स्वास्थ्य में बहुत योगदान करते हैं ! क्योंकि वे धमनी की सूजन को कम करते हैं, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करते हैं और रक्तचाप के उचित स्तर को बनाए रखते हैं ! पोटेशियम रक्तचाप को नियंत्रित करने और अतिरिक्त द्रव प्रतिधारण को रोकने में मदद करता है ! इस प्रकार, नियमित रूप से सैल्मन का सेवन दिल से संबंधित चिकित्सा स्थितियों को कम कर सकता है, जिसमें दिल का दौरा, स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप और उच्च ट्राइग्लिसराइड्स शामिल हैं !

2:- क्षतिग्रस्त ऊत्तकों कि मरम्मत

सामन प्रोटीन का अच्छा स्रोत है। आवश्यक पोषक तत्वों के अलावा, हमारे शरीर को प्रोटीन की आवश्यकता होती है क्योंकि यह हड्डियों, मांसपेशियों, उपास्थि, त्वचा और रक्त के लिए निर्माण खंड है। यह शरीर को चोट के बाद ऊतकों के निर्माण और मरम्मत में मदद करता है, हड्डियों के स्वास्थ्य की रक्षा करता है, और वजन घटाने के दौरान मांसपेशियों को बनाए रखता है। यह एक स्वस्थ चयापचय दर को भी बनाए रखता है और हड्डियों के घनत्व और ताकत में सुधार करता है।

3:- विटामिन B काम्प्लेक्स का बेहतरीन स्रोत

सामन पूरे विटामिन बी समूह- बी 3, बी 5, बी 7, बी 6, बी 9, बी 12 से समृद्ध है। विटामिन बी कॉम्प्लेक्स सभी शारीरिक क्रियाओं के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन का बी समूह उपभोग किए गए भोजन को ऊर्जा में बदलने, डीएनए बनाने और मरम्मत करने और सूजन को कम करने के लिए सह-निर्भरता से काम करता है। विटामिन बी 3 कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करता है, जबकि विटामिन बी 6 मस्तिष्क के स्वास्थ्य में सुधार करता है। सैल्मन में भी अच्छी मात्रा में बी12 होता है जो मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के कामकाज, हार्मोनल संतुलन और कई चयापचय कार्यों के लिए महत्वपूर्ण है।

4:- थॉयरॉइड के बेहतर कार्य में सहयोग

सामन से प्राप्त सेलेनियम उचित थायराइड फंक्शन को बनाए रखता है। सैल्मन का एक अच्छा हिस्सा काफी मात्रा में सेलेनियम प्रदान कर सकता है। यह आवश्यक ट्रेस खनिज थायरॉइड ग्रंथि को थायराइड हार्मोन के संश्लेषण के दौरान होने वाले ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है। थायराइड ग्रंथि की कोशिकाएं हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उत्पादन करती हैं जिसका उपयोग थायराइड हार्मोन बनाने के लिए किया जाता है।

5:- मष्तिष्क कार्य को बढ़ावा

सामन से प्राप्त डीएचए का उच्च स्तर विटामिन ए, विटामिन डी और सेलेनियम के साथ मिलकर मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा देने और बेहतर बनाने का काम करता है। वास्तव में, ओमेगा -3 फैटी एसिड की खुराक का उपयोग अल्जाइमर और पार्किंसंस रोग जैसे मनोवैज्ञानिक विकारों के इलाज के लिए किया जाता है। गर्भावस्था के दौरान सैल्मन खाने से भ्रूण के मस्तिष्क के बेहतर विकास और स्वास्थ्य में मदद मिल सकती है।

6:- कैंसर का इलाज कर सकता है

प्रभावशाली ओमेगा -3 फैटी एसिड सामग्री के आधार पर, सैल्मन को एक सुपरफूड माना जाता है। चिकित्सकीय रूप से, यह सिद्ध हो चुका है ! कि ओमेगा -3 फैटी एसिड कैंसर कोशिकाओं पर गहरा प्रभाव डाल सकता है और ट्यूमर को मार सकता है। इसके द्वारा त्वचा कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर, यकृत कैंसर, यूवीबी-प्रेरित त्वचा कैंसर, और ब्रेन ट्यूमर जैसी कुछ कैंसर स्थितियों का इलाज किया जा सकता है ! या रोका जा सकता है।

7:- जॉइंट की सूजन से लड़ना

सामन में फिर से ओमेगा -3 फैटी एसिड ऑस्टियोआर्थराइटिस सहित विभिन्न संयुक्त स्थितियों की सूजन को कम करने में मदद करता है। सैल्मन में प्रोटीन का एक समूह होता है जिसे बायोएक्टिव पेप्टाइड्स कहा जाता है। ऐसा ही एक बायोएक्टिव पेप्टाइड, जिसे कैल्सीटोनिन कहा जाता है ! मानव ऑस्टियोआर्थराइटिक कार्टिलेज में कोलेजन संश्लेषण को बढ़ाने, विनियमित करने और स्थिर करने के लिए जाना जाता है।

8:- बच्चों में संज्ञानात्मक बुद्धि का निर्माण करना

चूंकि सैल्मन मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, इसलिए उम्मीद है कि माताओं को बच्चों में संज्ञानात्मक कौशल और सीखने की क्षमताओं का निर्माण करने के लिए सामन खाना चाहिए। इसे बढ़ते बच्चों के आहार में भी शामिल किया जाना चाहिए, क्योंकि सैल्मन एडीएचडी को रोकने और अकादमिक प्रदर्शन को बढ़ाने में भी मदद कर सकता है।

9:- एंटीऑक्सीडेंट गुण

सैल्मन का गुलाबी रंग एस्टैक्सैन्थिन की उपस्थिति से आता है, जो एंटीऑक्सिडेंट के कैरोटीनॉयड परिवार का एक सदस्य है। अन्य कैरोटीन और कैरोटीनॉयड के विपरीत, एस्टैक्सैन्थिन मानव शरीर में रेटिनोइड में परिवर्तित नहीं होता है। यह स्वभाव से एक एंटीऑक्सिडेंट है ! और हृदय, प्रतिरक्षा, सूजन और न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों को रोकने के लिए अच्छा है !

10:- दृष्टि क्षमता बढ़ाना

ओमेगा -3 फैटी एसिड और विटामिन ए में अविश्वसनीय रूप से समृद्ध, सैल्मन आंखों के लिए एक अद्भुत भोजन स्रोत है। नियमित Salmon fish in Hindi सैल्मन का सेवन ड्राई-आई सिंड्रोम और उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन (एएमडी) के लक्षणों को ठीक करने में मदद कर सकता है।

11:- स्वस्थ त्वचा को बढ़ावा

सैल्मन फैटी एसिड और विटामिन ए की उपस्थिति के कारण त्वचा को लाभ पहुंचाता है। ये स्वस्थ वसा त्वचा की गुणवत्ता और स्वास्थ्य में सुधार करते हैं। ओमेगा -3 फैटी एसिड सैल्मन में एस्टैक्सैन्थिन के कैरोटीनॉयड एंटीऑक्सिडेंट के सहयोग से काम करता है ! जो उम्र बढ़ने के लिए जिम्मेदार मुक्त कणों से होने वाले नुकसान को काफी कम करता है।

12:- वजन कम करने में सहायक

सैल्मन से वजन घटाने में भी फायदा हो सकता है। तैलीय मछली कम कैलोरी सामग्री के साथ प्रोटीन से भरपूर होती है। इसलिए, अपने आहार योजना में सैल्मन को शामिल करना बिल्कुल स्वस्थ और उचित है, क्योंकि यह न केवल आपको भारी मात्रा में प्रोटीन प्रदान करेगा बल्कि शरीर में विभिन्न विटामिन और खनिज की कमी को भी पूरा करेगा। सैल्मन में वसा की मात्रा ज्यादातर अच्छी होती है और इससे आपका वजन नहीं बढ़ता है।

सालमन मछली पकाने का तरीका How cook salmon fish in Hindi

जंगली सामन को त्वचा रहित खाने की सलाह दी जाती है। क्योंकि सामन में पारा जैसे संदूषक इसकी ऊपरी त्वचा में मौजूद होते हैं। इसलिए इसका सेवन करने से पहले इसकी त्वचा को हटाना पसंद किया जाता है। Salmon fish in Hindi सामन चुनते समय याद रखें कि यह जितना बड़ा होता है, उतना ही अच्छा होता है। सामन पकाना मुश्किल हो सकता है क्योंकि यह जल्दी सूख जाता है।

वे तरीके जो इसे नम और कोमल रखते हैं, सामन पकाने की सर्वोत्तम विधियाँ हैं। क्विक बॉइल एक ऐसी तकनीक है जो इसकी नमी को बरकरार रखती है और इसका स्वाद अच्छा बनाती है। इसे ओवन में ग्रिल करते या पकाते समय सुनिश्चित करें कि यह ज़्यादा न पक जाए। पट्टिका पर हमेशा तेल या मक्खन का एक कोट लगाएं और इसके ऊपर थोड़ा नमक छिड़कें।

फॉर्मिंग (मछली पालन) द्वारा प्राप्त सालमन मछली के नुकसान

तालाबों में तैयार की गई मछलियां विभिन्न प्रदूषकों और विषाक्त पदार्थों, जैसे पारा, पॉलीक्लोराइनेटेड बाइफिनाइल, डाइऑक्सिन और कीटनाशकों के संपर्क में आती हैं। इन प्रदूषकों से दूषित पानी में पली मछलियों का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। विशेष रूप से वयस्कों में तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुंचा सकता है और बच्चों में मस्तिष्क के विकास को कम कर सकता है।

खेती वाले सामन Salmon fish in Hindi को भीड़ भरे वातावरण में पाला जाता है जहाँ मछलियों के तैरने के लिए उचित जगह नहीं होती है। इससे मछलियां एक दूसरे के निकट संपर्क में रहती हैं, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है !

आवस्यकता से अधिक सालमन मछली के सेवन के नुकसान Salmon fish side effects in Hindi

हालांकि सैल्मन एक पोषक तत्व से भरपूर भोजन है ! और संतुलित आहार के लिए एक बढ़िया अतिरिक्त खाद्य पदार्थ हो सकता है ! लेकिन इसके कुछ डाउनसाइड जोखिम हैं।

सैल्मन की जंगली और खेती वाली दोनों किस्मों में अक्सर पॉलीक्लोराइनेटेड बाइफिनाइल (पीसीबी) और डाइऑक्सिन जैसे संदूषक होते हैं ! जो हार्मोन के स्तर को बदल सकते हैं ! और उच्च मात्रा में सेवन करने पर स्वास्थ्य के अन्य पहलुओं को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकते हैं !

खेती की गई मछलियों को चारे में अक्सर एंटीबायोटिक्स भी मिलाए जाते हैं। एंटीबायोटिक का उपयोग पर्यावरणीय चिंताओं से जुड़ा है ! और एंटीबायोटिक प्रतिरोध और अन्य दीर्घकालिक स्वास्थ्य प्रभावों के जोखिम को बढ़ा सकता है।

इसके अतिरिक्त, ध्यान रखें कि सैल्मन में कुछ मात्रा में पारा होता है ! हालांकि यह कुछ अन्य मछलियों की तुलना में पारा में बहुत कम है !

Vitamin chart in Hindi सभी विटामिन के कार्य प्रकार चार्ट स्रोत की सम्पूर्ण जानकारी Previous post Vitamin chart in Hindi सभी विटामिन के कार्य प्रकार चार्ट स्रोत की सम्पूर्ण जानकारी
Trypsin chymotrypsin tablet uses in Hindi ट्रिप्सिन काइमोट्रिप्सिन का उपयोग लाभ खुराक नुकसान Next post Trypsin chymotrypsin tablet uses in Hindi ट्रिप्सिन काइमोट्रिप्सिन का उपयोग लाभ खुराक नुकसान

चिकित्सा की स्थिति, डाइट, उपचार, निदान और घरेलू उपचार के बारे में उपलब्ध जानकारी, केवल सामान्य रूप से पढ़ने के लिए है ! उपर्युक्त लेख हमेशा त्रुटि रहित, पूर्ण या अद्यतित नहीं भी हो सकता है ! हालाँकि कोई त्रुटि ना हो इसका पूरा रिव्यु लिया जाता है ! Fit & Well Health का उद्देश्य किसी चिकित्सक से परामर्श को प्रतिस्थापित करना नहीं है ! कोई भी स्वास्थ्य समस्या होने पर किसी डॉक्टर से उपचार अवश्य करवायें !

Social Link