Surya namaskar steps सूर्य नमस्कार के 12 चरण शरीर रखेगा फिट

Surya namaskar steps सूर्य नमस्कार के 12 चरण शरीर रखेगा फिट

प्राचीन ऋषि भारत का मानना ​​था कि हमारे शरीर के कई अंग अलग-अलग हैं ! (देवताया दैवीय आवेग) सौर जाल जो नाभि में स्थित होता है ! वह हमारे शरीर का केंद्रीय बिंदु होता है ! सोलर प्लेक्सस को शरीर के दूसरे अंग मस्तिष्क के रूप में भी जाना जाता है जो सूर्य से जुड़ा होता है ! ऋषियों के अनुसार नियमित रूप से सूर्य नमस्कार (Surya namaskar steps) का अभ्यास करने से ये सौर जाल बढ़ सकते हैं ! और इससे व्यक्ति की रचनात्मक शक्ति और सहज क्षमताओं में वृद्धि होती है ! और डिप्रेशन जैसी बीमारियों से छुटकारा मिलता है !

यह घुटनों में चिकनाई देता है और जोड़ों को रक्त की आपूर्ति बढ़ाता है ! पूरे शरीर को स्ट्रेच और मजबूत भी करता है ! आंतरिक अंगों की दक्षता में सुधार करता है शरीर को डिटॉक्स करने में भी मदद करता है ! पिंगला अर्थात सूर्या नाड़ी को गतिशील करता है जिससे शरीर में ऊर्जा बढ़ती है ! और पाचन को भी दुरुस्त करता है ! शरीर में ऑक्सीजन को बढ़ाता है !

व्यायाम के रूप में अभ्यास करने पर वजन घटाने के लिए उपयोगी है ! अंतःस्रावी तंत्र को संतुलित करने में भी मदद करता है ! बीज मंत्र हृदय रोगों से बचाते हैं और सांस लेने की विशेष क्रिया में फेफड़ों को मजबूत बनाता है !

सूर्य नमस्कार योग शरीर के प्रत्येक अंग को सक्रिय करता है जिसका अर्थ है ! कि इस शक्तिशाली योग मुद्रा का हृदय, आंत, पेट, यकृत, गले, छाती, पैरों और हमारे शरीर की मांसपेशियों पर बहुत प्रभाव पड़ता है !वजन प्रबंधन के लिए सूर्य नमस्कार एक उत्कृष्ट व्यायाम है !

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सूर्य नमस्कार मांसपेशियों ! की ताकत में सुधार लाने, शरीर के निचले हिस्से को टोन करने और विशेष रूप से पेट क्षेत्र और पीठ की मांसपेशियों में ताकत बढ़ाता है ! अब सूर्य नमस्कार के 12 steps (मुद्रा) को समझते हैं !

1- प्राणायाम अर्थात प्रार्थना मुद्रा Surya namaskar steps

सूर्य नमस्कार आसन की पहली मुद्रा को अपनी योग चटाई पर सीधी स्थिति में खड़े होकर और अपने पैरों को एक दूसरे के करीब रखकर पूरा किया जा सकता है। एक गहरी साँस लें और अपने सीने का विस्तार करें, अपने कंधों को आराम दें। साँस लेते समय, एक गहरी साँस लें, अपनी बाहों को पक्षों से ऊपर उठाएं, और जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं अपनी हथेलियों को एक साथ अपनी छाती के सामने एक साथ मिलाएंनमस्ते। यह प्रार्थना की स्थिति है।

प्राणायाम के लाभ – Surya namaskar steps (pranayam) तंत्रिका तंत्र को आराम देता है और शरीर के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। यह तनाव और चिंता को दूर करने में भी मदद करता है !

2- हस्त उत्तानासन मुद्रा

अपनी हथेलियों को आपस में मिलाएं और गहरी सांस लें। थोड़ा पीछे की ओर झुकते हुए अपनी बाहों को ऊपर उठाएं, आप श्रोणि को थोड़ा आगे बढ़ा सकते हैं, पीठ को फैला सकते हैं और रीढ़ को लंबा कर सकते हैं। पूरे शरीर को एड़ी से ऊपर खींचते हुए बाइसेप्स को अपने कानों के पास रखें।

हस्त उत्तानासन मुद्रा के लाभ – (magazines) हस्तोत्तानासन मुद्रा से खिंचाव और पेट की मांसपेशियों को टोन करता है। अस्थमा, पीठ के निचले हिस्से में दर्द और थकान से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है। यह पाचन में भी सहायक होता है।

3- हस्त पादासन मुद्रा

अपनी उंगलियों से अपने पैर की उंगलियों को छूने के लिए साँस छोड़ते हुए आगे झुकें ! यदि आवश्यक हो तो आप शुरू में अपने घुटनों को मोड़ सकते हैं ! अपनी रीढ़ को न मोड़ें और अपनी गर्दन और कंधों को शिथिल रखें ! अपनी एड़ी को धीरे से दबाते हुए अपनी उंगलियों से फर्श को छूने की कोशिश करें ! वापस आते समय श्वास लें !

हस्त पादासन मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करता है और पैरों को खोलता है। अनिद्रा, ऑस्टियोपोरोसिस, सिरदर्द, चिंता और तनाव को ठीक करने में मदद करता है।

4- अश्व संचालन आसन मुद्रा Surya namaskar steps

हस्त पादासन से वापस आने के बाद, अपने घुटनों को थोड़ा मोड़ें और अपने पैरों को फर्श पर अपने पैरों के साथ आराम करें। श्वास लें और बाएं पैर को पीछे की ओर खींचते हुए अपने दाहिने घुटने को अपनी छाती के दाईं ओर लाएं। अपने शरीर को संतुलित करें और अपने सिर को आगे की तरफ उठाएं !

अस्व संचालन आसना मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps रीढ़ को मजबूत करता है और फेफड़ों की क्षमता बढ़ाता है। अपच और कब्ज से राहत दिलाता है।

5- चतुरंगा दंडासन मुद्रा Surya namaskar steps

अश्व संचलानासन से श्वास लें और अपने दाएं पैर को पीछे ले जाएं बाएं पैर के बगल में ! अपने हाथों को अपने कंधों के नीचे रखें अपने शरीर को जमीन के समानांतर रखें ! आपका पूरा शरीर एक सीध में होना चाहिए साथ ही सांस लें और संतुलित करें !

चतुरंगा दंडासन मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps हाथ, छाती, कंधे और रीढ़ को खींचते हुए मन को शांत रखता है ! यह मुद्रा शरीर के पोस्चर में भी सुधार करती है !

6- अष्टांग नमस्कार मुद्रा

आठ बिंदुओं या भागों का उपयोग करके नमस्कार के रूप में भी जाना जाता है। इस मुद्रा को करने के लिए साँस छोड़ते हुए अपने घुटनों को ज़मीन पर ले आएं। अपनी ठोड़ी को ज़मीन पर टिकाएँ और अपने कूल्हों को ज़मीन से थोड़ा ऊपर उठाएँ। आपके दोनों हाथ, घुटने, ठोड़ी और छाती फर्श को छूना चाहिए। सांस छोड़ें और जितनी देर तक आराम से पोजिशन करें।

अष्टांग नमस्कार मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps लचीलापन बढ़ाता है और पीठ और रीढ़ को फैलाता है ! मांसपेशियों को मजबूत करता है और तनाव से राहत देता है !

7- भुजंगासन मुद्रा

धीरे से आगे की ओर झुकें और अपने पैरों और पेट को जमीन पर टिकाएं। अपनी हथेलियों को अपनी छाती के पास रखें और साँस लेते समय हाथ पर दबाव डालें और धीरे-धीरे ऊपरी शरीर को ऊपर उठाएँ, आपका पेल्विक क्षेत्र ज़मीन को छूता हुआ। अपने कंधों को अपने कानों से दूर रखें, पैरों को अंदर की ओर झुकाएं और आगे देखें। आपका सिर और धड़ एक उभरे हुड के साथ कोबरा जैसा दिखता है।

भुजंगासन मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps कंधों, पीठ, छाती और रीढ़ को फैलाता है ! लचीलेपन और मनोदशा में सुधार करता है !

8- अधोमुखी मुद्रा

पेट के बल लेट जाएं, भुजंगासन से अपनी छाती को छुड़ाएं, आपकी पीठ छत की ओर होनी चाहिए । साँस लें और अपने कूल्हों को धीरे से उल्टा ‘V’ बनाएं । जमीन पर अपनी एड़ी रखने की कोशिश करते हुए अपनी कोहनी और घुटनों को सीधा करें। हर साँस और साँस के साथ, खिंचाव में गहराई से जाएँ। अपनी नाभि की ओर देखें।

अधोमुखी मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps नसों को शांत करता है और रक्त संचार बढ़ाता है ! तनाव से राहत देता है और हाथ और पैर मजबूत करता है ! महिलाओं में, यह योग आसन रजोनिवृत्ति के लक्षणों से राहत देता है !

9- अश्व संचालन आसना मुद्रा

अधो मुख संवासन से वापस आते हुए अपने दाहिने पैर को आगे लाएं। अपने बाएं पैर को अपने पैरों को चटाई पर रखें और अब धीरे-धीरे आगे की ओर देखें। खिंचाव को गहरा करने के लिए धीरे से कूल्हों को फर्श की ओर धकेलें ! इस बार इसे आप बेहतर तरीके से करें क्योंकि पहले भी आप इस आसन को कर चुके हैं !

अश्व संचालन आसना मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps रीढ़ को मजबूत करता है और फेफड़ों की क्षमता बढ़ाता है। अपच और कब्ज से राहत दिलाता है !

10- हस्त पादासन मुद्रा Surya namaskar steps

श्वास लें और अपने दाहिने पैर की अपेक्षा अपने बाएं पैर को आगे लाएं ! अपने हाथों की स्थिति बरकरार रखते हुए अपने धड़ को मोड़ें धीरे-धीरे साँस छोड़ें और अपनी उंगलियों से जमीन को स्पर्श करें !

हस्त पादासन मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करता है और पैरों को ढीला करता है ! यह अनिद्रा, ऑस्टियोपोरोसिस, सिरदर्द, चिंता और तनाव को ठीक करने में मदद करता है !

11- हस्त उत्तानासन मुद्रा

अपने ऊपरी शरीर को उठाते समय श्वास लें हथेलियों को मिलाएं ! और अपने हाथों को ऊपर की ओर उठाएं पीछे की ओर झुकें और अपनी रीढ़ को फैलाएं !

हस्त उत्तानासन मुद्रा के लाभ – Surya namaskar steps स्ट्रेच और पेट की मांसपेशियों को टोन करता है ! अस्थमा, पीठ के निचले हिस्से में दर्द और थकान से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है ! यह पाचन में भी सहायक होता है !

12- प्राणायाम या प्रार्थना मुद्रा

वापस आकर, जहाँ हमने शुरुआत की थी, ध्यान दें कि हमने इन 12 पोज़ों का एक घेरा बनाया है। जैसा कि पहले चरण में बताया गया है, अपने शरीर को आराम करते हुए सांस छोड़ें और सीधे खड़े हो जाएं अपनी छाती के सामने बाहों को कम करें !

प्राणायाम के लाभ – Surya namaskar steps तंत्रिका तंत्र को आराम देता है ! और शरीर के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है ! यह तनाव और चिंता को दूर करने में भी मदद करता है !

योग के मन, और शरीर दोनों के लिए कई लाभ हैं ! हर दिन योग आसनों का अभ्यास लोगों, विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों के बीच शक्ति और धीरज को बेहतर बनाने में सफल साबित हुआ है !

सूर्य नमस्कार योग आपके शरीर और दिमाग को सक्रिय रखने के सबसे आसान तरीकों में से एक है ! जबकि कई बीमारियों और शरीर के दर्द को भी कम करता है ! 

सूर्यनमस्कार के ये कदम निश्चित रूप से आपके दीर्घकालिक स्वास्थ्य लक्ष्यों को प्राप्त करने में आपकी मदद करेंगे !